Search Icon
Nav Arrow

कविता महज़ शब्दों का खेल नहीं!

ज आपको एक कविता पढ़वाता हूँ, और एक दिखाता हूँ. दोनों का शीर्षक एक ही है – नदी.

जो वीडियो है वह सिनेमैटोग्राफ़ी का एक प्रयोग है, जो आपसे अनुभूति के एक अलग ही स्तर पर बात करता है. शब्द समृद्ध और सशक्त होते हैं लेकिन शब्दों के परे की अभिव्यक्ति आपको अपने अंदर कहीं दूर तक ज़्यादा आसानी से ले जा सकती है. मुलाहिज़ा फरमाइए :

एक नदी देर तक राह तकती रही
चाँद बुझता रहा, रात थकती रही
ऐशग़ाहों के परदे गिराए गए
कुछ ग़ुनाहों की लज़्ज़त सुलगती रही

Advertisement

सोज़ख़्वानी से महफ़िल सजाई गई
सर्द यादों की रूहें बुलाई गईं
गुलनशीनों की तस्वीर रख सामने
ज़िन्दगी दरमयाना भटकती रही
एक नदी देर तक राह तकती रही

सुब्हे-तारीक ही उनको महदूद थी
साथ ‘उनसे न मिलना’ की ताक़ीद थी
फिर भी यूँ सुर्ख फूलों से मन्नत लिखी
शब्-ए-हिज्राँ लिपट कर महकती रही

एक नदी देर तक राह तकती रही

Advertisement

इस नज़्म के बाद पेश है यह वीडियो कविता जिसका शीर्षक भी वही है – नदी

लेखक –  मनीष गुप्ता

हिंदी कविता (Hindi Studio) और उर्दू स्टूडियो, आज की पूरी पीढ़ी की साहित्यिक चेतना झकझोरने वाले अब तक के सबसे महत्वपूर्ण साहित्यिक/सांस्कृतिक प्रोजेक्ट के संस्थापक फ़िल्म निर्माता-निर्देशक मनीष गुप्ता लगभग डेढ़ दशक विदेश में रहने के बाद अब मुंबई में रहते हैं और पूर्णतया भारतीय साहित्य के प्रचार-प्रसार / और अपनी मातृभाषाओं के प्रति मोह जगाने के काम में संलग्न हैं.

Advertisement

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे।

close-icon
_tbi-social-media__share-icon