in , ,

60 साल की मेहनत से घर पर लगाये 500 पौधे, ‘गार्डन क्वीन’ कहलाती हैं यह 80 वर्षीय महिला!

सरोजा के पास एडेनियम की 100 से अधिक किस्में, 10 किस्मों की सब्जियाँ और साग, बोनसाई, गुलाब और 20 किस्मों के गुड़हल के पौधे हैं।

Chennai Amma Urban Gardener

चेन्नई के अन्ना नगर बी सेक्टर स्थित सरोजा थियागराजन का आवास शहर के अन्य घरों से काफी अलग है। यह घर प्रकृति के बेहद करीब है। पूरे परिसर में आपको अलग-अलग प्रजाति के पेड़-पौधे देखने को मिलेंगे।

उनके घर में प्रवेश करते ही सबसे पहले नजर पड़ती है खूबसूरत शाखाओं से घिरे बिल्डिंग के आलीशान मुख्य भाग पर और यही कुछ दूर पर लाल रंग के फूलों वाले जंगल भी घर की सुन्दरता में चार चांद लगा देते हैं। 80 वर्षीया सरोजा ने इन फूलों को अपने जीवन के शुरूआती दिनों में लगाया था।

परिसर में प्रवेश करते ही रंगीन मछलियों और सफेद वाटर लिली (निम्फिया नौचली) के साथ तालाब में कमल के फूलों पर आपकी नजर टिकी रह जाएगी। बगीचे में लगे गुड़हल और एडेनियम की अनूठी किस्मों से लेकर बरामदे की ग्रिल्स से लटके जार और हर कोने में गमले में लगे कई तरह के पौधे आँखों को सूकून देते हैं।

यह 16 साल की कड़ी मेहनत और धैर्य का एक सुखद नतीजा है। यह सब लगभग 60 साल पहले शुरू हुआ जब वह अपनी शादी के बाद चेन्नई आई थी।

Chennai Amma Urban Gardener
सरोजा के गार्डन के एक हिस्से की तस्वीर

सरोजा ने द बेटर इंडिया को बताया, “16 साल की उम्र में मेरी शादी हो गई और मैं अपने पति के साथ चेन्नई चली गई। उस समय हम आईसीएफ (इंटीग्रल कोच फैक्ट्री) कॉलोनी के पास रह रहे थे। वहाँ सीमित जगह में छोटे-छोटे डिब्बों में हमने पौधे लगाए। तब से लेकर अब तक इस घर में 500 से अधिक पौधे लगा चुकी हूं।

अन्ना नगर, चेन्नई की गार्डन क्वीन

Chennai Amma Urban Gardener
सरोजा के गार्डन में लगे पौधे

तमिलनाडु के नागापट्टिनम के पास कीज़ वेलुर में जन्मीं सरोजा ने बताया कि परिसर में इस तरह पेड़-पौधों को लगाने में वर्षों लगे हैं। उन्होंने कहा, मैं एक ऐसे परिवार में पली-बढ़ी हूँ जिसकी जड़ें हमेशा मिट्टी से जुडीं थीं। इसलिए कृषि और इन सभी चीजों से मेरा खास लगाव रहा है। इसके अलावा मेरे एक शिक्षक  का मानना था कि पर्यावरण के बारे में जागरूकता संपूर्ण शिक्षा के लिए जरूरी है, इसलिए वह नियमित रूप से मुझे बागवानी में शामिल करने लगे। मुझे लगता है कि यहीं से मेरी रुचि एक जुनून में बदली और मेरी दृढ़ इच्छाशक्ति के कारण ही आज मुझे यह पहचान मिली है।

जैसे-जैसे साल बीतते गए सरोजा का  जुनून बढ़ता गया और उनके पति भी उनका साथ देने लगे। चेन्नई निवासी सरोजा कहती हैं,सेवानिवृत्ति के बाद वह चाहते थे कि मैं इसे गंभीरता से लूँ। हर महीने हम पौधों के लिए एक निर्धारित राशि अलग रखते थे। मैं पौधों के बारे में और अधिक सीखते रहना चाहती थी। इसलिए मैं शहरी बागवानी के बारे में अधिक जागरूकता फैलाने और चर्चा करने के लिए हर साल गार्डन पार्टी आयोजित करती हूँ।

आज, वह इस क्षेत्र के प्रसिद्ध बागवानी विशेषज्ञों में से एक हैं और ऑर्गेनिक टैरेस गार्डनिंग (ओटीजी) की एक प्रमुख सदस्य हैं जो जैविक बागवानी के शौकीन लोगों का समूह है। इसकी शुरूआत लगभग एक दशक पहले खेती और बागवानी की जैविक तकनीक के बारे में आवश्यक जानकारी फैलाने के इरादे से की गई थी। 

Promotion

मुझे अपने पौधों की वजह से कभी अकेलापन महसूस नहीं होता

Chennai Amma Urban Gardener
विभिन्न प्रकार के फूलों के साथ सरोजा

सरोजा कहती हैं, मेरे पास एडेनियम की 100 से अधिक किस्में, 10 किस्मों की सब्जियां और साग, बोनसाई, गुलाब और 20 किस्मों के गुड़हल के पौधे हैं। 

मेरे बगीचे में गिरे हुए गुड़हल के फूलों को लेने अक्सर बॉटनी पढ़ने वाले छात्र और आस-पड़ोस के स्कूलों के शिक्षक आया करते हैं। मैं चाहती हैं कि ये सभी मेरे घर आएं ग्रीन होम का दौरा करें।

उन्होंने अपने घर में एक कंपोस्टिंग सेक्शन भी बनाया है जिसमें पौधों के लिए जैविक खाद बनाने के लिए गीले कचरे और बगीचे के कचरे का उपयोग किया जाता है।

सरोजा कहती हैं, “पौधों के बारे में लोगों को बताना और शिक्षित करना मुझे उत्साहित करता है।” 

2015 में, सरोजा को बागवानी में उनके योगदान के लिए तमिलनाडु बागवानी विभाग पुरस्कार से सम्मानित किया गया। बाद में 2019 में, उन्हें अन्ना यूनिवर्सिटी में लक्ष्मी ऑर्गेनिक अवार्ड मिला।

उन्होंने कहा, मेरे पति का 2012 में निधन हो गया। मेरे बच्चे बाहर रहते हैं। लेकिन, मैं अपने पौधों की वजह से कभी अकेला महसूस नहीं करती हूँ। मुझे पता है कि वे हमेशा मेरे साथ रहेंगे।

मूल लेख- ANANYA BARUA

यह भी पढ़ें- तुलसी से लेकर चेरी टोमैटो तक: नागपुर की सिमरन से जानें घर पर औषधीय पौधे उगाने के तरीके! 

Promotion

देश में हो रही हर अच्छी ख़बर को द बेटर इंडिया आप तक पहुँचाना चाहता है। सकारात्मक पत्रकारिता के ज़रिए हम भारत को बेहतर बनाना चाहते हैं, जो आपके साथ के बिना मुमकिन नहीं है। यदि आप द बेटर इंडिया पर छपी इन अच्छी ख़बरों को पढ़ते हैं, पसंद करते हैं और इन्हें पढ़कर अपने देश पर गर्व महसूस करते हैं, तो इस मुहिम को आगे बढ़ाने में हमारा साथ दें। नीचे दिए बटन पर क्लिक करें -

₹   999 ₹   2999
mm

Written by अनूप कुमार सिंह

अनूप कुमार सिंह पिछले 6 वर्षों से लेखन और अनुवाद के क्षेत्र से जुड़े हैं. स्वास्थ्य एवं लाइफस्टाइल से जुड़े मुद्दों पर ये नियमित रूप से लिखते रहें हैं. अनूप ने कानपुर विश्वविद्यालय से हिंदी साहित्य विषय में स्नातक किया है. लेखन के अलावा घूमने फिरने एवं टेक्नोलॉजी से जुड़ी नई जानकारियां हासिल करने में इन्हें दिलचस्पी है. आप इनसे anoopdreams@gmail.com पर संपर्क कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

खुद की नहीं है ज़मीन, फिर भी बसा दिया ‘कटहल गाँव’, लगा दिए 20 हज़ार पेड़!

women Chattisgarh Village Mall

छत्तीसगढ़ के इस गाँव में महिलाएँ चला रही हैं मॉल, लाखों का हो रहा है कारोबार!