in , , ,

दिल्ली: 15 साल पुरानी नौकरी छोड़ शुरू की मशरूम की खेती; आज हर महीने कमाती हैं 1 लाख रूपये!

अपने फार्म से मोनिका हर हफ्ते लगभग 45 किलोग्राम मशरूम की उपज लेती हैं!

साल 2018 में दिल्ली की रहने वाली मोनिका चौधरी ने जब अपना मशरूम फार्म शुरू किया था, तो शुरू के दो-तीन महीने में उन्हें काफी नुकसान झेलना पड़ा। प्रॉफिट तो दूर की बात है, वह अपनी लागत भी मैनेज नहीं कर पा रही थीं। पर अपनी मेहनत और जुनून से उन्होंने मात्र एक साल में ही तस्वीर पूरी तरह बदल दी। अब वह मशरूम की खेती से महीने के लगभग 1 लाख रुपये कमा रही हैं।

मोनिका, अपने अनुभव को लोगों के साथ शेयर करना चाहती हैं और इसके लिए, वह मशरूम फार्मिंग पर वर्कशॉप देती रहती हैं। इस वर्कशॉप के दौरान वे लोगों को मशरूम की जैविक खेती के बारे में सिखाती हैं और वह भी कम से कम लागत में। दिल्ली में उनकी वर्कशॉप ज्वाइन करने के लिए यहाँ पर क्लिक करें!

 

किसानी के लिए छोड़ी 15 साल की नौकरी:

मोनिका ने 15 साल से भी ज़्यादा समय तक, सरकारी संगठनों के साथ बतौर डिजिटल मार्केटिंग प्रोफेशनल काम किया है। लेकिन हम सभी लोग करियर और पैशन के बीच होने वाली कशमकश से वाकिफ हैं। मोनिका के साथ भी यही हो रहा था। भले ही वो सरकारी संगठनों के लिए कैंपेन डिजाईन कर रही थीं, लेकिन उन्हें पता था कि स्वास्थ्य के क्षेत्र में काम करना उनका पैशन है।

द बेटर इंडिया से बात करते हुए मोनिका ने बताया, “मैं स्वास्थ्य से जुड़ी सामान्य समस्याओं पर एक ब्लॉग चलाती थी और डाइट और लाइफस्टाइल के क्षेत्र में मुझे काफी दिलचस्पी थी। जब मैंने अपनी जॉब छोड़ी, तब मैं दो चीजों को लेकर बहुत स्पष्ट थी- एक, मैं अपना पैशन फॉलो करुँगी और दूसरा, मैं इसके लिए बाकी सबकी तरह कोई ऑनलाइन प्लेटफार्म नहीं बनाऊंगी। मुझे ज़मीनी स्तर पर अपना कुछ करना था।”

उन्होंने पारंपरिक खेती में अपनी किस्मत आजमाई, लेकिन मोनिका को पता था कि दिल्ली जैसे शहर में उन्हें काफी इन्वेस्टमेंट की ज़रूरत होगी और फिर ज़रूरी नहीं कि यह कामयाब ही हो।

यह भी पढ़ें: घर में ही करें किसानी, इस माँ की बनाई ‘ग्रो ईट योरसेल्फ’ किट के साथ!

ऐसे में, एक दिन अचानक उनके पति के एक दोस्त ने उन्हें डायरेक्टरेट ऑफ़ मशरूम (डीएमआर) में ‘मशरूम फार्मिंग’ के ट्रेनिंग कोर्स के बारे में बताया। उन्होंने इस ट्रेनिंग के लिए जाने का फैसला किया।

“मशरूम, प्रोटीन, फाइबर और मिनरल्स का एक अच्छा स्त्रोत है। आज के समय में ज़्यादातर लोग जंक फ़ूड खाते हैं और उससे कोई ज़रूरी पोषण नहीं मिलता। ऐसे में, रेग्युलर तौर पर मशरूम खाना, पोषण का शॉर्टकट है। इसलिए मुझे एक कमर्शियल मशरूम फार्म सेट-अप करने का ख्याल आया,” उन्होंने बताया।

आप भी मोनिका की तरह घरेलू और कमर्शियल स्तर पर मशरूम उगा सकते हैं। उनकी वर्कशॉप के लिए आज ही रजिस्टर करें!

 

जैविक मशरूम के लिए झेली परेशानियां

Promotion

डीएमआर में ट्रेनिंग के बाद, जून 2018 से मोनिका ने अपना फार्म सेट-अप करना शुरू किया। लगभग एक महीने में सभी काम पूरे हो गए, लेकिन उनका संघर्ष अभी बाकी था।

“मैं ऐसे लोगों के साथ कॉन्टेकट में थी जिनका मशरूम का फार्म है। पर मैं जब भी उनसे पूछती कि कीट से फार्म को कैसे बचाना है या फिर उर्वरक क्या इस्तेमाल करें, तो सब मुझे केमिकल इस्तेमाल करने की सलाह देते। मैं ऐसा नहीं करना चाहती थी क्योंकि फिर क्या फायदा स्वास्थ्य के क्षेत्र में जाने का, अगर मैं केमिकल ही इस्तेमाल करूँ तो?” उन्होंने आगे कहा।

यह भी पढ़ें: 9 साल में 5, 000 किसानों तक मुफ़्त देशी बीज पहुंचा चुके हैं यह कृषि अधिकारी!

वैसे तो मशरूम की खेती पर ऑनलाइन वीडियो, किताब और कुछ आर्टिकल्स जैसी काफी सामग्रियां उपलब्ध हैं, लेकिन कोई भी बिना केमिकल के इस्तेमाल के फार्म को कैसे चलाए, इस बात का सही जवाब नहीं दे पा रहा था।

“मेरे पास एक ही विकल्प बचता था – मशरूम की खराब फसल को फेंकने का। इससे मेरा खर्चा और बढ़ता गया। लेकिन जैविक मशरूम उगाना तो जैसे मेरी जिद हो गयी थी। यह मेरे सीखने का समय था और अगले  3-4 महीने तक, मैंने खराब मशरूमों को फेंका, नई चीजें सीखीं और इन पर अमल किया। सितम्बर 2018 में, आखिरकार मैं सही ट्रैक पर आई,” उन्होंने बताया।

 

पहले महीने में मोनिका ने लगभग 20-25 किलोग्राम मशरूम की फसल ली। आज, वे हर हफ्ते लगभग 45 किलोग्राम मशरूम की उपज लेती हैं।

 

अब यह सफल मशरूम किसान, वर्कशॉप के ज़रिये आपको अपने घर में ही जैविक मशरूम उगाना सिखा रही हैं। उन्होंने पहले भी कई लोगों को मशरूम की खेती करना सिखाया है- छत्तीसगढ़ की ग्रामीण महिलाओं, जो कि घर में रहकर कुछ कमाना चाहती हैं, से लेकर साउथ दिल्ली की नौकरी करने वाली महिलाओं तक, जो चाहती हैं कि उनकी डिनर टेबल पर कुछ हेल्दी और ऑर्गेनिक भी।

यह भी पढ़ें: 11वीं पास किसान ने कर दिए कुछ ऐसे आविष्कार, आज सालाना टर्नओवर हुआ 2 करोड़!

मोनिका कहती हैं कि अपनी वर्कशॉप के ज़रिये वह बहुत ही मुश्किल से जुटाई अपनी जैविक मशरूम की खेती का ज्ञान ज्यादा से ज्यादा लोगों के साथ साझा करना चाहती हैं। इस वर्कशॉप में वह अपने अनुभव के साथ-साथ इन्वेस्टमेंट या फिर मशरूम से जुड़ी अन्य किसी भी समस्या पर बात करती हैं।

“वर्कशॉप में ओएस्टर मशरूम का उत्पादन सिखाया जायेगा, जो कि बहुत ही आसान है। मैं बताऊंगी कि मैंने कैसे रीसाइक्लिंग, कम्पोस्टिंग और रियूज करके लागत को मैनेज करना सीखा है। आप टिप्स ले सकते हैं और फिर खुद अपना फार्म शुरू कर सकते हैं।”

यदि आप भी  खाने में मजेदार और पोषण से भरपूर, मशरूम की खेती करना चाहते हैं तो आज ही मोनिका चौधरी की वर्कशॉप के लिए रजिस्टर करें! 

मूल लेख: तन्वी पटेल 

संपादन – मानबी कटोच

Summary: Monika Chowdhary, a Delhi woman, worked as a digital marketing professional for government institutions for more than 15 years. Last year, she left her job and started her stint with farming, particularly Mushroom Farming. Right now, she is earning almost 1 lac per month and also, spreading her knowledge to others through workshops.


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

शेयर करे

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है. निशा की कविताएँ आप https://kahakasha.blogspot.com/ पर पढ़ सकते हैं!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

इस महिला ने तीन सालों में बनवा दिए 87 तालाब, लाखों खानाबदोशों को दिलाया पहचान पत्र!

ट्रेन हादसे में गंवाया एक पैर, आज हैं भारत की पहली महिला ब्लेड रनर!