Placeholder canvas

Grow Wheatgrass: किचन प्लेटफार्म पर भी आसानी से उगा सकते हैं यह हेल्दी घास

grow wheatgrass

वजन कम करने से लेकर डायबिटीज जैसी बीमारी तक से बचाव के लिए कई लोग व्हीटग्रास का जूस पीते हैं। लेकिन बाजार से तैयार जूस के बजाय, घर पर इसका ताज़ा जूस बनाना ज्यादा बेहतर होता है। पढ़ें, इसे उगाने की आसान तकनीक के बारे में।

गेहूं की ताज़ा पत्तियों से बना व्हीटग्रास जूस का सेवन कई लोग करते हैं।  विटामिन, प्रोटीन, मिनरल, फाइबर और एंटी-ऑक्सीडेंट जैसे कई गुणों से भरपूर होने के कारण यह हमारे शरीर के लिए वरदान की तरह है। अक्सर लोग इसे उगाने के बजाय बाहर से इसका ताज़ा जूस खरीदकर पीते हैं। लेकिन जैसी ताज़गी इसके ताज़ा पत्तों से मिलती है,  वह तैयार और सील पैक बोतल से मिलना मुश्किल है। 

सूरत की कोमल सिरोहिया कहती हैं कि एक लेज़ी गार्डनर भी आराम से व्हीटग्रास उगा सकता है। इसके लिए न ही आपको ज्यादा धूप चाहिए न ज्यादा जगह। आप अपने किचन प्लेटफार्म पर भी इसे उगा सकते हैं।  

इसे उगाने के लिए किसी तरह के खाद आदि की जरूरत भी नहीं पड़ती है। बिना देखभाल के इसे घर पर उगाकर आप अपना स्वास्थ्य अच्छा कर सकते हैं।  

Growing wheat grass at home

कैसे उगाएं व्हीटग्रास 

-सबसे पहले तक़रीबन एक से दो मुट्ठी गेहूं को रातभर पानी में भिंगोकर रखें।  

-जिसके बाद दो-तीन इंच की ट्रे में कोकोपिट डालें। ट्रे में ड्रैनेज के लिए छोटे-छोटे छेद भी बना लें।  

-भींगे हुए गेहूं को कोकोपिट के ऊपर छिड़ककर डालें।  

-जिसके बाद एक और पतली लेयर कोकोपिट की बनाएं।  

-अब एक स्प्रे बोतल की मदद से इसमें पानी छिड़कें।  

-इसे धूप वाली जगह के बजाय छांव में रखें। आप किचन के अंदर भी इसे रख सकते हैं।  

-रोज थोड़ा-थोड़ा पानी छिड़कते रहें। 

-तक़रीबन 15 दिन में आपके गेहूं के माइक्रोग्रीन तैयार हो जाएंगे।  

-आप एक बार लगाकर दो हार्वेस्ट निकाल सकते हैं।

-अब आप पत्तियों को तोड़कर इसका ताजा जूस तैयार कर सकते हैं।  

तो देखा आपने कितना आसान है घर पर ही व्हीटग्रास उगाना। अगर आपको गार्डनिंग की बिल्कुल भी जानकारी नहीं है फिर भी आप इसे आराम से उगा सकते हैं।  

हैप्पी गार्डनिंग!

यह भी पढ़ें – Grow Monstera: घर की खूबसूरती में चार चांद लगा देगा यह पौधा, इसे उगाना भी है आसान

We at The Better India want to showcase everything that is working in this country. By using the power of constructive journalism, we want to change India – one story at a time. If you read us, like us and want this positive movement to grow, then do consider supporting us via the following buttons:

Let us know how you felt

  • love
  • like
  • inspired
  • support
  • appreciate
X