Search Icon
Nav Arrow
BPSC Preparation

BPSC Preparation Tips: घर पर कर सकते हैं बीपीएससी मेन्स की तैयारी, जानिए कैसे!

64वीं बीपीएससी भर्ती परीक्षा में 273वां रैंक हासिल करने वाले प्रीतम कुमार गौतम, फिलहाल राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग में राजस्व अधिकारी हैं। यहां उनसे जानिए कुछ खास BPSC Preparation Tips!


बिहार लोक सेवा आयोग (BPSC Preparation ) की 67वीं संयुक्त प्रारंभिक परीक्षा के लिए आवेदन प्रक्रिया समाप्त हो चुकी है। इस परीक्षा के लिए छह लाख से भी अधिक उम्मीदवारों ने आवेदन किया है, जिससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि यह प्रतियोगिता कितनी कठिन होने वाली है।

प्रीलिम्स जनवरी में होने वाली है और इसमें सफल उम्मीदवारों को कुछ महीने के बाद मेन्स और अंत में इंटरव्यू से गुजरना होगा।

Advertisement

आज हम 64वीं BPSC भर्ती परीक्षा में 273वां रैंक हासिल करने वाले प्रीतम कुमार गौतम से खास तौर पर जानेंगे कि आप प्रीलिम्स में सफल होने की स्थिति में मेन्स और इंटरव्यू की तैयारी (BPSC Preparation) कैसे कर सकते हैं।

फिलहाल, पटना में राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग में राजस्व अधिकारी के तौर पर नियुक्त गौतम बताते हैं, “आज के दौर में इंटरनेट पर स्टडी मटेरियल आसानी से मिल जाते हैं, जिससे बीपीएससी की तैयारी सेल्फ स्टडी के जरिए भी की जा सकती है। शुरुआत हमेशा क्लास छह से 10 की एनसीईआरटी की किताबों से करनी चाहिए। इससे आपको विषयों की गहराई से समझ होगी।”

वह आगे बताते हैं, “NCERT के बाद आप प्रीवियस ईयर क्वेश्चन पेपर्स को हल करें, इससे आपकी आधी तैयारी हो जाएगी। इसके अलावा ‘घटनाचक्र’ को भी पढ़ा जा सकता है। उसमें दूसरे राज्यों की पीसीएस परीक्षाओं के हल किए हुए सवाल रहते हैं।”

Advertisement

गौतम बताते हैं कि बीपीएससी प्रीलिम्स में इतिहास से 30 सवाल होते हैं। इन सवालों को घटनाचक्र किताब के जरिए कवर किया जा सकता है। इसके अलावा, बीपीएससी की पूरी चयन प्रक्रिया में बिहार से संबंधित सवाल काफी महत्वपूर्ण होते हैं और आपको राज्य के ऐतिहासिक, भौगोलिक, सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक मुद्दों की पूरी जानकारी होनी चाहिए। इसलिए लुसेंट जीके, बिहार वित्त विभाग द्वारा जारी आर्थिक सर्वेक्षण पढ़ना भी जरूरी है।

हालांकि,  67वीं बीपीएससी संयुक्त प्रारंभिक परीक्षा के लिए अब समय काफी कम है। इसलिए गौतम बताते हैं कि अब उम्मीदवारों के लिए एनसीआरटी पढ़ना आसान नहीं है। इसलिए उन्हें करंट अफेयर्स पर ज्यादा ध्यान देना चाहिए, क्योंकि इससे 30 सवाल पूछे जाते हैं। 

गौतम कहते हैं, “करंट अफेयर्स की तैयारी के लिए हर दिन अखबार पढ़ना अनिवार्य है। इससे बिहार के साथ-साथ देश-दुनिया में क्या हो रहा है, आपको जानकारी रहेगी। इसके अलावा संदर्भ पब्लिकेशन, जीके टूडे जैसे माध्यमों की मदद ली जा सकती है, जो हर दिन करंट अफेयर्स के 20 सवाल जारी करते हैं।”

Advertisement
BPSC Preparation Tips
प्रीतम कुमार गौतम

बीपीएससी प्रीलिम्स में एक अंक के 150 प्रश्न होते हैं और इसमें कोई निगेटिव मार्किंग नहीं होते हैं। इस वजह से यह काफी स्कोरिंग होता है। हालांकि, इसमें प्राप्त अंकों को फाइनल मेरिट लिस्ट में नहीं जोड़ा जाता है, लेकिन इसमें क्वालीफाई करना जरूरी है। गौतम के अनुसार, यदि कोई सामान्य छात्र भी रोजाना 8 से 9 घंटे, एक साल पूरी लगन से तैयारी करता है, तो इसमें सफलता हासिल की जा सकती है। 

मेन्स की तैयारी कैसे करें (BPSC Preparation Tips For Mains)

गौतम के अनुसार, अधिकांश छात्र प्रीलिम्स और मेन्स की तैयारी एक साथ करते हैं, लेकिन किसी कारणवश आपके पास समय नहीं है और आपने प्रिलिम्स क्लियर कर लिया है, तो भी इसकी तैयारी संभव है।

Advertisement

वह बताते हैं, “आमतौर पर प्रीलिम्स और मेन्स के बीच कम से कम चार-पांच महीने का फर्क होता है। ऐसे में कड़ी मेहनत के जरिए मेन्स की तैयारी की जा सकती है।” 

बीपीएससी मेन्स में सामान्य अध्ययन – 1, सामान्य अध्ययन – 2 और वैकल्पिक, तीन पेपर होते हैं। इसमें कुल अंक 900 होते हैं।

गौतम के अनुसार जीएस-1 में इतिहास 3 (38 अंकीय), करंट अफेयर्स के 3 (38 अंकीय) और डेटा इंटरप्रिटेशन 2 (36 अंकीय) को मिलाकर कुल आठ सवालों को हल करना होता है, जो कुल 300 अंकों के होते हैं।

Advertisement

गौतम बताते हैं, “यदि आप प्रीवियस ईयर क्वेश्चन पेपर्स को हल कर 25-30 महत्वपूर्ण सवालों को शॉर्टलिस्ट कर तैयारी करते हैं, तो आप इतिहास के छह में से तीन और डेटा इंटरप्रिटेशन के दो सवालों को आसानी से हल कर सकते हैं।”

वहीं, करंट अफेयर्स की तैयारी के लिए देश-दुनिया की तमाम बड़ी खबरों पर नजर रखें। साथ ही भारत का चीन, पाकिस्तान, अफगानिस्तान, अमेरिका, रूस जैसे देशों के साथ संबंधों का गहराई से अध्ययन करें और इसके लिए भी 20-25 मुद्दों को शॉर्टलिस्ट कर लें। इस तरह सवालों का अनुमान पहले ही लगाया जा सकता है। करंट अफेयर्स की तैयारी के लिए इनसाइट मैगजीन की भी मदद ली जा सकती है।

गौतम बताते हैं कि जीएस-2 के पहले पार्ट में पॉलिटी, दूसरे में ज्योग्राफी और इकोनॉमिक्स और तीसरे में साइंस एंड टेक से संबंधित सवाल पूछे जाते हैं। यह पेपर भी 300 अंकों का होता है।

Advertisement

वह कहते हैं, “पॉलिटी की गहरी समझ के लिए एम लक्ष्मीकांत की “भारतीय राजव्यवस्था” को पढ़ना सबसे अच्छा है। बीपीएससी में संविधान की प्रस्तावना, मौलिक अधिकार और कर्त्तव्य, राज्यपाल, राष्ट्रपति, चुनाव आयोग जैसे बिंदुओं से काफी सवाल पूछे जाते हैं। वहीं, इकोनॉमिक्स और ज्योग्राफी के लिए प्रीवियस ईयर क्वेश्चन पेपर्स और बिहार इकोनॉमिक सर्वे की तैयारी करना सबसे बढ़िया है। बिहार में खेती, रोजगार, आदि के बारे में गहराई से अध्ययन करें।”

BPSC Preparation
प्रतीकात्मक फोटो

इसके अलावा, साइंस एंड टेक की तैयारी के लिए इसरो और डीआरडीओ से संबंधित खबरों पर नजर बनाए रखें। साथ ही यह भी अध्ययन करें कि तकनीक के जरिए जलसंकट, प्रदूषण, जैसी कई गंभीर समस्याओं को कैसे सुलझाया जा सकता है। इसकी तैयारी के लिए भारत सरकार द्वारा प्रकाशित योजना मैगजीन की भी मदद ली जा सकती है।

वहीं, वैकल्पिक विषयों का चुनाव अपनी रुचि के अनुसार करनी चाहिए। हालांकि, गौतम बताते हैं कि ऐसा देखा गया है कि ज्योग्राफी और एंथ्रोपोलॉजी बीपीएससी का सबसे पसंदीदा विषय है। वैकल्पिक विषय भी 300 अंकों के होते हैं।

हिन्दी की तैयारी जरूरी (BPSC Preparation Tips For Hindi)

यदि आपने बीपीएससी प्रीलिम्स क्लियर कर लिया है, तो आप मेन्स में अपने अंकों के मूल्यांकन के लिए हिन्दी में सफल होना जरूरी है। यह कुल 100 अंकों का होता है, जिसमें आपको 35 अंक हासिल करने होंगे। यह परीक्षा उसी दिन होती है, जिस दिन आप मेन्स देते हैं।

गौतम बताते हैं कि इसमें हिन्दी व्याकरण, निबंध लेखन, आदि से संबंधित सवाल होते हैं। इसके अंक, मेरिट लिस्ट में नहीं जोड़े जाते हैं। लेकिन यदि आप इसमें फेल गए, तो किसी भी स्थिति में आपके मेन्स के अंकों का मूल्यांकन नहीं होगा। 

सब्जेक्टिव उत्तर लिखने के लिए खास टिप्स (BPSC Preparation Tips For Answer Writing)

गौतम का कहना है कि मेन्स में आपको सिर्फ सब्जेक्टिव उत्तर देने होते हैं। इसके लिए लिखने की काफी प्रैक्टिस करनी होगी। हर दिन प्रीवियस ईयर क्वेश्चन पेपर्स से चार-पांच सेट को हल करें। 

वह बताते हैं, “आप अपने उत्तर को पाई चार्ट, डायग्राम और ग्राफ से प्रेजेंटेबल बनाने की कोशिश करें। यदि आप कोचिंग नहीं करते हैं, तो किसी ऐसे शख्स से अपना जवाब चेक करवाएं, जिन्होंने कोई सिविल सर्विसेज क्रैक की है। इस तरह, दिनों-दिन आपमें सुधार आता जाएगा। इसके अलावा यदि आप कोई तथ्य लिखते हैं, तो उसके स्रोत को जरूर लिखें। ”

इंटरव्यू की तैयारी कैसे करें (BPSC Preparation Tips For Interview)

इंटरव्यू, चयन प्रक्रिया का आखिरी चरण है। यह 120 अंकों का होता है। इंटरव्यू के बाद, इसके और मेन्स के 900 अंकों को जोड़ कर, फाइनल मेरिट लिस्ट जारी किया जाता है।

गौतम बताते हैं, “इंटरव्यू के लिए उम्मीदावारों को 4-5 मॉक टेस्ट देना चाहिए। इससे छात्रों में आत्मविश्वास बढ़ता है। इसके अलावा आईने के सामने बोलने की प्रैक्टिस करना भी कारगर साबित होता है। इंटरव्यू के दौरान, यदि कोई जवाब नहीं पता है, तो उन्हें तुरंत बता देना चाहिए, नहीं तो काफी निगेटिव इम्प्रेशन जाता है।” 

तीसरी बार में मिली सफलता

गौतम बताते हैं, “2013 से 2018 तक, मैं टीएसएस में आईटी एनालिस्ट के तौर पर काम कर रहा था। लेकिन, मुझे अहसास हुआ कि यदि लोगों से जुड़ कर कुछ काम करना है, तो इसके लिए सिविल सर्विसेज से अच्छा विकल्प कुछ नहीं। यह एक ऐसा मंच है, जहां आप लोगों की समस्याओं को जमीनी स्तर पर हल कर सकते हैं। इसके अलावा मेरे पिताजी भी बीपीएससी में थे, तो मुझे इससे भी प्रेरणा मिली।”

BPSC Preparation

वह आगे बताते हैं, “मैंने नौकरी करते हुए भी बीपीएससी की परीक्षा दी थी। लेकिन सफलता नहीं मिली। मुझे यकीन था कि इसमें सफल हो सकता हूं, इसलिए 2018 में मैंने नौकरी छोड़ दी और तैयारी करने लगा। आखिरी बार, मैं इंटरव्यू में सफल नहीं हो पाया था। लेकिन, 2020 में, तीसरी बार में मुझे सफलता मिली।”

वह कहते हैं, “खुद को हर दिन एक नई चुनौती दें कि हमारा आज कल से बेहतर होगा। हर दिन कुछ नया सीखने का प्रयास करें। टॉपर्स की कहानियों को पढ़ें ताकि जान सकें कि एक अधिकारी बनने के बाद आप पर क्या जिम्मेदारियां होगीं।”

अंत में गौतम कहते हैं कि बीपीएससी की तैयारी एक लंबी प्रक्रिया है। इसमें आप असफल भी होते हैं। इसलिए आपको मानसिक रूप से खुद को तैयार रखना होगा और खूब मेहनत करनी होगी।


संपादन- जी एन झा

यह भी पढ़ें – 67th BPSC Exam: दो महीने में हो सकती है प्रीलिम्स की तैयारी, टॉपर से जानें टिप्स!

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें।ADVERTISEMENT

close-icon
_tbi-social-media__share-icon