Placeholder canvas

31 लोगों का बड़ा परिवार, 3 असफलताएं व समाज के तानों के बावजूद UPPSC में हासिल की 6वीं रैंक

Saltanat Parveen with her family

उत्तर प्रदेश के लखनऊ की रहनेवाली सल्तनत परवीन ने 31 सदस्यों वाले बड़े परिवार में रहते हुए भी UPPSC 2022 परीक्षा में 6वीं रैंक हासिल की।

अक्सर लोगों को लगता है कि बहुत अधिक बड़े परिवार में रहकर बच्चों की पढ़ाई ठीक से नहीं हो पाती, ध्यान भटकता है। लेकिन उत्तर प्रदेश के लखनऊ की रहनेवाली सल्तनत परवीन ने इसे ग़लत साबित कर दिखाया है। 31 सदस्यों वाले बड़े परिवार में रहते हुए भी सल्तनत परवीन ने UPPSC 2022 परीक्षा में 6वीं रैंक हासिल की।

सल्तनत के पिता मोहम्मद शमीम खान जनरल स्टोर की दुकान चलाते हैं और मां आशिया खान गृहिणी हैं। सल्तनत परवीन ने लखनऊ के ही अलीगंज न्यू वे सीनियर सेकेंडरी स्कूल से हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की पढ़ाई की है। इसके बाद लखनऊ के ही इंटीग्रल यूनिवर्सिटी से 2016 में उन्होंने बीटेक किया।

7 सालों के इंतज़ार और 3 असफलताओं के बाद आखिरकार सल्तनत ने सफलता तो हासिल कर ली, लेकिन सल्तनत और उनके माता-पिता के लिए यह सफर आसान नहीं था।

लोगों ने दिए खूब ताने, फिर भी करती रहीं UPPSC परीक्षा की तैयारी

बेटी को पढ़ाने के लिए सल्तनत के माता-पिता ने लोगों के खूब ताने सुने। हर कोई बोलता था कि बेटी को इतना पढ़ाने की क्या ज़रूरत है? लेकिन अलीगंज की रहनेवाली सल्तनत के माता-पिता और उनके परिवार ने किसी की एक नहीं सुनी। सल्तनत को जब भी निराशा हाथ लगी उनका पूरा परिवार हर बार उनके साथ खड़ा रहा।

एक समय तो ऐसा भी आया जब सत्लनत हार मान चुकी थीं। उन्होंने सोचा कि कोई और नौकरी कर लेते हैं, लेकिन उनके माता-पिता ने उन्हें रुकने नहीं दिया और सल्तनत ने एक बार फिर पूरे जी-जीन से तैयारी की और आखिरकार 7 सालों के इंतज़ार और 3 असफलताओं के बाद, सल्तनत ने न सिर्फ UPPSC परीक्षा क्रैक की, बल्कि 6वीं रैंक भी हासिल की।

सल्तनत के लिए उनका बड़ा परिवार कभी भी उनकी कमज़ोरी नहीं बना, बल्कि हिम्मत बनकर साथ खड़ा रहा। सल्तनत और उनके पूरे परिवार को बहुत बहुत बधाई!

यह भी पढ़ेंः UPPSC 2022 Topper: छोटे से गाँव की रहनेवाली दिव्या ने बिना कोचिंग के हासिल की पहली रैंक

We at The Better India want to showcase everything that is working in this country. By using the power of constructive journalism, we want to change India – one story at a time. If you read us, like us and want this positive movement to grow, then do consider supporting us via the following buttons:

Let us know how you felt

  • love
  • like
  • inspired
  • support
  • appreciate
X