Placeholder canvas

‘आपका आभार’: जब इन चार भारतीयों को मिला महारानी एलिज़ाबेथ का पत्र

letters from queen elizabeth

इंग्लैंड की महारानी एलिज़ाबेथ II का 96 साल की उम्र में 8 सितंबर को निधन हो गया। बकिंघम पैलेस ने बयान देकर इस बात की पुष्टि की। अपने जीवनकाल में महारानी ने चार भारतीयों को पात्र लिखे थे। यहाँ जानिए उन पत्रों के बारे में।

इंग्लैंड की महारानी एलिज़ाबेथ II का 96 साल की उम्र में 8 सितंबर को निधन हो गया। बकिंघम पैलेस ने बयान देकर इस बात की पुष्टि की। 

70 सालों से ज़्यादा समय तक वह ब्रिटेन की महारानी रहीं। 

उनके पूरे शासनकाल में कई देशों से लोग उन्हें पत्र लिखा करते थे और बहुत से लोगों को पैलेस से जवाब भी मिलता था। वैसे तो ब्रिटिश राज के इतिहास की वजह से, भारत के उनके साथ मिले-जुले संबंध थे; लेकिन कुछ भारतीय ऐसे हैं, जिन्हें स्वर्गीय महारानी एलिज़ाबेथ II की ओर से चिट्ठी मिली थी। 

ऐसे ही चार भारतीयों के बारे में हम आपको बता रहे हैं-

93 साल का एक फैनबॉय 

प्रसिद्ध रेस्टोरेंट Britannia & Co के दिवंगत मालिक, बोमन कोहिनूर खुद को ब्रिटिश शाही परिवार का सबसे बड़ा फैन बताते थे। कई सालों में उन्होंने बहुत सी यादगार चीज़ें इकट्ठा करके रखी थीं, जैसे महारानी की एक तस्वीर, जो उन्हें महारानी एलिज़ाबेथ की डायमंड जुबली के मौक़े पर भेजी गई थी। उसी दौरान उन्हें प्रिंस विलियम और उनकी पत्नी केट मिडलटन के कटआउट्स भी मिले थे। हालांकि, उनके लिए उनकी सबसे बेशकीमती चीज़ है, महारानी का भेजा हुआ एक पत्र, जिसमें ब्रिटिश शाही परिवार के प्रति उनके प्रेम के लिए धन्यवाद दिया गया है।

Mr Boman Kohinoor
Mr Boman Kohinoor. Photo from Twitter.

जब संगीत ने दो संस्कृतियों को मिलाया 

जाने-माने दिवंगत गायक और संगीतकार बप्पी लाहिरी को भी उनके गाने ‘Long Live Our Queen’ के लिए महारानी एलिज़ाबेथ से प्रशंसा पत्र मिला था। यह गाना गणेश वंदना और रानी की लंबी उम्र की प्रार्थना का एक फ्यूज़न था। यह चिट्ठी उन्हें तब मिली थी, जब बप्पी दा ने महारानी के 60वें कॉरोनेशन सेरेमनी पर उन्हें इस गाने की CD भेजी थी। एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा था, “यह चिट्ठी जब मुझे मिली, तब मैं हैरान तो हुआ लेकिन उनकी विनम्रता देखकर मुझे काफ़ी ख़ुशी भी हुई।”

Bappi Lahiri
Bappi Lahiri. Photo from Twitter.

महारानी ने की जुड़वा बहनों की कला की तारीफ़ 

केरल के तृश्शूर की रहनेवाली जुड़वा बहनों, अनलीत और अनलीन को भी पैलेस से उनके पत्र का जवाब मिला था। साल 2021 में, जब वे कक्षा 6 में थीं, तब दोनों बहनों ने महारानी एलिज़ाबेथ को चिट्ठी लिखकर भारत आने के लिए आमंत्रित किया, जिसके जवाब में उन्हें रानी का प्रशंसा पत्र मिला। बच्चियों ने अपने पत्र के साथ खुद की बनाई हुई तृश्शूर पूरम और अलाप्पुझ्हा बैकवाटर्स की पेंटिंग्स भी रानी को भेजी थीं। हालांकि, उनको मिली चिट्ठी में यह लिखा था कि महारानी उनकी इच्छा तो पूरी नहीं कर पाएंगी, लेकिन उनके पत्र और खूबसूरत पेंटिंग्स की प्रशंसा करती हैं। 

Letter From Queen Elizabeth to Twin Sisters Anlit and Anlin
Anlit and Anlin and the letter they received. Photo Credit – ETV

प्रिंसेस डायना के लिए कविता लिखने वाले कवि को भेजा पत्र 

राजकुमारी डायना की मृत्यु के बाद, गोवा के राजेंद्र प्रसाद पाल ने शोक जताते हुए और शुभकामनाओं के साथ पैलेस को एक कविता लिखकर भेजी थी।

उनकी बेटी संचारी पाल बताती हैं, “मेरे पिता प्रिंसेस डायना के बड़े प्रशंसक थे और ऐसा मानते थे कि वह रॉयल फैमिली का बहुत ज़रूरी हिस्सा थीं, क्योंकि लोग उनको काफ़ी पसंद करते थे। उन्होंने लोगों के लिए राजशाही का मतलब बदल दिया था।”

इसके लिए आर.पी. पाल को जब महारानी एलिज़ाबेथ का धन्यवाद पत्र मिला तो वह हैरान रह गए। पत्र में कहा गया है कि दुख की घड़ी में उनकी सहानुभूति के लिए पूरा शाही परिवार उनका आभारी है।

संचारी भावुक होकर कहती हैं कि उनके पिता ने महारानी एलिज़ाबेथ की उस चिट्ठी को फ्रेम करा कर रखा है।

Mr RP Pal and the letter he received from Queen Elizabeth
Mr RP Pal and the letter he received. Photo courtesy Sanchari Pal

स्त्रोत –

When Kohinoor met the British royal couple! by India Today, 11 April 2016

Will the Royal family visit Britannia? by Conde Nast Traveller, 7 April 2016

When Bappi Lahiri received letter of appreciation from Queen Elizabeth. On Throwback Thursday by Samriddhi Srivastava, India Today, 17 February 2022

The Queen appreciates Bappi Lahiri’s thoughtfulness by Parag Maniar, Entertainment Times, 4 August 2013

संपादन – मानबी कटोच

We at The Better India want to showcase everything that is working in this country. By using the power of constructive journalism, we want to change India – one story at a time. If you read us, like us and want this positive movement to grow, then do consider supporting us via the following buttons:

Let us know how you felt

  • love
  • like
  • inspired
  • support
  • appreciate
X