Search Icon
Nav Arrow
Lal Bahadur Pushker, IRS officer shares study material for upsc

UPSC CSE के लिए अध्ययन सामग्री से वीडियो तक, IRS अधिकारी ने दी कई अहम जानकारियां व टिप्स

UPSC की सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी के लिए पुष्कर ने हिंदी भाषा को चुना और साक्षात्कार भी हिंदी में ही दिया। पुष्कर कुछ ऐसे टिप्स बता रहे हैं, जिनसे परीक्षा में बैठने वाले उम्मीदवार अपनी क्षेत्रीय भाषा में बेहतर प्रदर्शन कर सकते हैं।

Advertisement

संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) की परीक्षा देश की सबसे कठिन परिक्षाओं में से एक होती है। 3 राउंड की कसौटी पर खरे उतरने के बाद, मिलती है खाकी और एक अधिकारी का ओहदा। इस कसौटी पर खरे उतरने के लिए लगातार मेहनत करते हैं UPSC एस्पिरेंट्स।

उनकी इसी मेहनत और समय की ‘कीमत’ को ध्यान में रखते हुए द बेटर इंडिया ने भारतीय राजस्व सेवा अधिकारी, लालबहादुर पुष्कर से बातचीत की। पुष्कर ने साल 2015 में यूपीएससी परीक्षा पास की थी और वर्तमान में इनकम टैक्स विभाग में डिप्टी कमीश्नर (मुंबई) के रूप में तैनात हैं।

UPSC की सिविल सेवा परिक्षा की तैयारी के लिए उन्होंने हिंदी भाषा को चुना था और इंटरव्य़ू भी हिंदी में ही दिया। पुष्कर ने, UPSC एस्पिरेंट्स को सफलता हासिल करने के लिए कुछ जरूरी सलाह दीः 

दिमाग में हर वक्त चलते हैं सवाल

पुष्कर इलाहाबाद के मीरापुर गांव के बहुत ही मामूली से परिवार से आते हैं। बचपन में पुष्कर को पोलियो हो गया था, जिस वजह से उनका बायां पैर आंशिक रूप से प्रभावित है।

वह सवाल पूछने से कभी पीछे नहीं रहते थे। अभी तक उन्होंने जितनी भी कामयाबी हासिल की है उसका श्रेय, सवाल पूछने के अपने इस स्वभाव को ही देते हैं।

JNU के छात्र रह चुके पुष्कर ने बताया, “चाहे मैं स्कूल में पढ़ने वाला एक छात्र था, या फिर यूपीएससी परीक्षा की तैयारी करने वाला एक उम्मीदवार, मैने सवाल करना कभी नहीं छोड़ा। ये ऐसा क्यों है, इसके होने के पीछे क्या कारण है? इस तरह के सवालों के जवाब जानने की इच्छा हमेशा मेरे अंदर बनी रहती।”

इंटरव्यू के लगभग 70 प्रतिशत प्रश्न होते हैं आपके फॉर्म से

पुष्कर कहते हैं, “दिल्ली में रहने से मेरी इस कामयाबी का रास्ता पक्का हुआ। यह वह समय था, जब मेरे अंदर यूपीएससी सीएससी परीक्षा में बैठने की इच्छा जगी।” 

पुष्कर बताते हैं, “इंटरव्यू में पूछे जाने वाले लगभग 70 प्रतिशत प्रश्न उम्मीदवार के डिटेल्ड एप्लीकेशन फॉर्म (DAF) से लिए जाते हैं। इसलिए इस फार्म को ध्यान से पढ़कर भरें। आप फॉर्म में जो भी जानकारियां भरते हैं, उसी से संबंधित सवालों से इंटरव्यू की शुरुआत की जाती है।”

अपने इंटरव्यू के बारे में बात करते हुए पुष्कर ने बताया, “मेरे साक्षात्कार के दौरान उन्होंने मुझसे, मेरे गांव, स्वच्छ भारत मिशन के कार्यान्वयन, गांव की जनसांख्यिकी और ऐसे अन्य कई सवाल किए गए थे।

पुष्कर ने DAF में जामिया मिलिया इस्लामिया से पढ़ाई करने की जानकारी भरी थी, तो उनसे संस्था की स्थापना के बारे में भी सवाल किया गया।

कैसे की इंटरव्यू की तैयारी?

Lal Bahadur Pushker, IRS officer giving upsc tips
Lal Bahadur Pushker, IRS officer

साल 2013 में जेएनयू में रहते हुए पुष्कर यूपीएससी सीएसई के साक्षात्कार चरण की तैयारी कर रहे थे। तब उन्होंने अपने DAF की कई कॉपियां बनाईं और अपने 10 दोस्तों के बीच बांट दीं।

Advertisement

वह बताते हैं, “मैंने उनसे अनुरोध किया कि वे इससे मेरे लिए 25 सवाल तैयार करें। मैं गोदावरी छात्रावास की कैंटीन में बैठकर जूनियर्स द्वारा तैयार किए गए सौ से ज्यादा सवालों के जवाब देता था। इस दौरान न जाने कितने चाय के कप खाली हो जाते। इससे मुझे, मेरे अपने DAF को कई अलग नजरिए से देखने में मदद मिली।”

अंत में पुष्कर ने जूनियर्स के 250 से अधिक सवालों के जवाब दिए थे। ये सभी सवाल उनके DAF और संबद्ध विषयों पर आधारित थे।

पुष्कर कहते हैं “इस तरह की तैयारी करने के बाद मैं वास्तविक साक्षात्कार के दौरान काफी बेहतर स्थिति में था। सवालों के जवाब देते समय, मैं एक बार भी नहीं लड़खड़ाया और न ही कुछ सोचने के लिए मुझे रुकना पड़ा। इंटरव्यू के लिए बुलाए जाने का मतलब है कि यूपीएससी आपको एक संभावित आईएएस आईआरएस अधिकारी के तौर पर देख रहा है। इंटरव्यू में आपके अंदर वही आत्मविश्वास नजर आना चाहिए।”

भाषा कोई भी हो, रणनीति एक ही रहती है

पुष्कर ने बताया कि साक्षात्कार के दौरान उम्मीदवार को कुछ जरुरी बातों का ध्यान रखना चाहिए:

  • इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आपने यूपीएससी सीएसई के लिए किस क्षेत्रीय भाषा को चुना है। विषय की बुनियादी समझ मजबूत होनी चाहिए। एनसीईआरटी की किताबें अलग-अलग भाषाओं में मिल जाती हैं।
  • यूपीएससी में यह मायने नहीं रखता कि आपने किस क्षेत्रीय भाषा को चुना है और न ही भाषा के आधार पर कोई भेदभाव किया जाता है। अगर कुछ मायने रखता है, तो वह है आपकी तैयारी और लिखित परीक्षा में मिलने वाले अंक। 
  • यूपीएससी के अधिकांश उम्मीदवार सामान्य अध्ययन सामग्री के लिए द हिन्दू पेपर पर भरोसा करते हैं। वहीं पुष्कर के अनुसार, क्षेत्रीय भाषा का एक अच्छा समाचार पत्र पढ़ना, आस-पास की दुनिया में होने वाली हर घटना को ढंग से समझने के लिए बेहतर रहता है।
  • सामान्य अध्ययन और खबरों के लिए यूट्यूब वीडियो पर भरोसा किया जा सकता है। मुफ्त ऑनलाइन सामग्री खोजें और उसमें दी गई जानकारी का फायदा उठाएं। 
  • ईमानदारी, सच्चाई और सेकुलर होना कुछ ऐसी विशेषताएं हैं, जिन्हें उम्मीदवार में तलाशा जाता है। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप अंग्रेजी में अपनी बात रख रहे हैं या किसी क्षेत्रीय भाषा में। आपकी क्षमताओं और विशेषताओं को महत्व दिया जाता है। 

फ्री ऑनलाईन रिसोर्सेज

विज़न आईएएस– पुष्कर बताते हैं कि इस साइट पर अंग्रेजी और हिंदी दोनों भाषाओं में अध्ययन सामग्री उपलब्ध है, जिनमें से अधिकांश के लिए कुछ ‘पे’ नहीं करना होता। वे फ्री होती हैं और परीक्षा की तैयारी कर रहे उम्मीदवारों के लिए काफी उपयोगी भी हैं।

दृष्टि- इस साइट पर अंग्रेजी और हिंदी दोनों भाषाओं में अध्ययन सामग्री उपलब्ध है। कई यूट्यूब वीडियोज़ भी यहां मिल जाएंगे। परीक्षा की तैयारी के दौरान उम्मीदवार इनसे फायदा उठा सकते हैं।

इंसाइट आईएएस- पुष्कर व्यक्तिगत रूप से इंसाइट IAS को एक बेहतर साइट मानते हैं और उपयोग करने की सलाह देते हैं। एक तो यह निःशुल्क है और दूसरे परीक्षा की तैयारी करने वालों के लिए यहां व्यापक सामग्री मिल जाएगी। इनकी समय-समय पर ली जाने वाली टेस्ट सीरीज भी उम्मीदवारों के लिए बहुत उपयोगी है। ऐसे विशेष लेख और वीडियो भी हैं जिनसे पूरा फायदा उठाया जा सकता है।

मूल लेखः- विद्या राजा

संपादनः अर्चना दुबे

यह भी पढ़ेंः ‘हेल्दी लड्डू’ बेचने के लिए अमेरिका से आए भारत, सालभर में कमा लिए 55 लाख रुपये

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें।

Advertisement
close-icon
_tbi-social-media__share-icon