ऑफर सिर्फ पाठकों के लिए: पाएं रू. 200 की अतिरिक्त छूट ' द बेटर होम ' पावरफुल नेचुरल क्लीनर्स पे।अभी खरीदें
X
Summer Flowering Plants: गर्मियों में भी फूलों से भरे रहेंगे ये 5 पौधे

Summer Flowering Plants: गर्मियों में भी फूलों से भरे रहेंगे ये 5 पौधे

जानिए कौनसे हैं वे 5 पौधे, जिनमें गर्मियों में भी खिलते रहेंगे फूल।

रंग-बिरंगे फूल किसे पसंद नहीं होते हैं। खिले-खिले खूबसूरत फूलों को देखकर किसी का भी मन खुश हो जाता है। इसलिए चाहे किसी का बड़ा बागान हो या छोटी सी बालकनी गार्डन, हर कोई उसमें फूलों के पौधे लगाना ज़रूर पसंद करता है। लेकिन, इनमें से ज़्यादातर पौधों में फूल सिर्फ सर्दियों में आते हैं और गर्मियों में हमारी बगिया सूनी पड़ जाती है। पर, लखनऊ के रहने वाले गार्डनिंग एक्सपर्ट अंकित बाजपेई कहते हैं कि मौसमी फूलों के बहुत से पौधे होते हैं, जिनमें से कुछ में में गर्मियों में भी फूल आते हैं। ये होते हैं Summer Flowering Plants!

आज हम आपको पांच ऐसे Summer Flowering Plants के बारे में बताएँगे, जो गर्मी के मौसम में भी फूलों से भरे होते हैं।  

1. बेला (Bela):

Summer Flowering Plants

बेला को अरेबियन जैस्मिन भी कहते हैं। यह Summer Flowering Plants में से एक है। आप इसे कटिंग से लगा सकते हैं। इसकी कटिंग लेते समय ध्यान रखें कि कटिंग बहुत ज्यादा मोटी न हो और हरे रंग की हो। 

  • पॉटिंग मिक्स तैयार करने के लिए, आप बराबर मात्रा में मिट्टी, रेत और गोबर की खाद या कोकोपीट ले सकते हैं। 
  • कटिंग को लगाने के लिए, आप शुरू में कोई डिस्पोजेबल ग्लास या प्लास्टिक की बोतल को काटकर प्लांटर बना लें। 
  • इस प्लांटर के नीचे, तले में छेद कर लें, ताकि पानी आसानी से निकल जाए। 
  • अब प्लांटर में पॉटिंग मिक्स भरें और बेला के पौधे की कटिंग लगा दें। कटिंग को लगाने से पहले इस पर ‘रूट ड्राई पाउडर‘ लगा लें, ताकि इसमें जड़ें जल्दी विकसित हों। 
  • कटिंग लगाने के बाद, इसमें ऊपर से पानी डालें। पानी डालते समय ध्यान रखें कि आपकी कटिंग हिले नहीं। 
  • अब आपको इस प्लांटर को ऐसी जगह रखना है, जहां इसे दिनभर हल्की-हल्की धूप मिलती रहे। गलती से भी इसे ऐसी जगह न रखें, जहां बहुत तेज धूप पड़ती हो। 
  • लगभग 10-12 दिन में आपको कटिंग में ग्रोथ दिखने लगेगी। 
  • नियमित रूप से पानी देते रहें और लगभग एक महीने बाद, आप अपने पौधे को 12 से 15 इंच के गमले में लगा सकते हैं। 
  • तीन-चार महीनों में ही आपके बेला का पौधा काफी बड़ा हो जाएगा। 

अंकित कहते हैं कि बेलाके पौधे को लगाने का सबसे सही समय, बारिश का मौसम होता है। अगर आपके इलाके का तापमान 30 से 35 डिग्री तक है, तब भी आप बेला के पौधे को लगा सकते हैं। यहां देखें वीडियो

2. बोगनविलिया (bougainvillea):

Summer Flowering Plants

Summer Flowering Plants में दूसरा नाम आता है बोगनविलिया का, जिसके फूल कई रंगों के होते हैं। आपको अपने आसपास किसी न किसी रंग के बोगनविलिया के फूलों के पौधे दिख ही जाएंगे। तो देर किस बात की, किसी पौधे से आप अपने घर में लगाने के लिए दो-तीन कटिंग ले आइये। क्योंकि, बोगनविलिया के पौधों को कटिंग से लगाना बहुत ही आसान है। आप बोगनविलिया लगाते समय अपने इलाके के तापमान का ध्यान जरूर रखें। अगर आपके यहां 35 डिग्री तक तापमान रहता है, तब भी आप बोगनविलिया लगा सकते हैं। इसके अलावा, किसी भी कटिंग को लगाने का सबसे अच्छा मौसम मानसून होता है। 

  • बोगनविलिया की कटिंग लगाने के लिए आप सामान्य बगीचे की मिट्टी ले सकते हैं। 
  • इसे किसी 12 से 15 इंच के मिट्टी के गमले में भर लीजिए। 
  • इस गमले में आप तीन-चार कटिंग एक-दूसरे से समान दूरी पर लगा दीजिए। 

अंकित कहते हैं, “कटिंग लगाते समय ‘रूट ड्राई पाउडर’ का इस्तेमाल करना सही रहता है। लेकिन, अगर आपके पास यह उपलब्ध न हो, तब भी आप सीधे कटिंग लगा सकते हैं। क्योंकि इसके बिना भी कटिंग लगाई जा सकती है।” 

  • अब गमले में ऊपर से पानी डालें और इसे ऐसी जगह रखें, जहां इस पर सीधी धूप न पड़े। 
  • लगभग दो हफ्तों में आपको अपनी कटिंग में विकास दिखने लगेगा। अब आप गमले को धूप में रख सकते हैं। 
  • नियमित रूप से पानी देते रहें और देखते रहें कि कौन-सी कटिंग विकसित हो रही है। 
  • अगर किसी कटिंग में दो-तीन हफ्तों बाद भी कोई विकास नहीं होता, तो आप इसे निकाल दें। 
  • ढाई-तीन महीने में आपका बोगनविलिया का पौधा अच्छा-खासा बढ़ने लगेगा। 

यहां देखें वीडियो

3. पोर्टुलाका (Portulaca):

Summer Flowering Plants

Summer Flowering Plants की श्रेणी में आने वाले इस पौधे को कई जगह मोस रोज और गुल-ए-शमा भी कहते हैं। इसमें अलग-अलग रंग के बहुत ही खूबसूरत फूल आते हैं। आप अपने आसपास कहीं पर उपलब्ध पोर्टुलाका के पौधों से कुछ कटिंग ले आएं और अपने घर में लगाएं। 

  • पोर्टुलाका की कटिंग लगाने के लिए, आप सामान्य बगीचे की मिट्टी का इस्तेमाल कर सकते हैं। 
  • सबसे पहले आप किसी प्लास्टिक के कप में मिट्टी भर लें और इसके तले में एक छेद कर दें। 
  • अब मिट्टी में आप कटिंग को लगा दें और ऊपर से पानी डालें। 
  • इसे ऐसी जगह रखें, जहां सीधी धूप न पड़े। 
  • लगभग एक-दो हफ्तों में ही कटिंग बढ़ने लगती है और इसकी जड़ें बनने लगती हैं। 
  • लेकिन आपको कटिंग किसी दूसरे गमले में तब तक नहीं लगानी है, जब तक यह अच्छे से न बढ़ने लगें। 
  • लगभग एक महीने बाद आप इस कटिंग को किसी बड़े गमले या प्लांटर में लगा सकते हैं। 
  • पौधों को दूसरे गमले में लगाते समय, आप पॉटिंग मिक्स में सामान्य बगीचे की मिट्टी और खाद मिला सकते हैं। 

यहां देखें वीडियो

4. सूरजमुखी (Sunflower):

Summer Flowering Plants

बात Summer Flowering Plants की हो और सूरज के सबसे करीबी फूल की न हो, ऐसा कैसे हो सकता है। सूरजमुखी के फूल दिखने में जितने खूबसूरत और आकर्षक होते हैं, उतने ही ज्यादा समय तक ये खिले रहते हैं। आप सूरजमुखी का पौधा अपने घर में बीजों से लगा सकते हैं। सबसे पहले, आप किसी नर्सरी या बीज भंडार की दूकान से सूरजमुखी के बीज खरीद लें। आप अगर चाहें तो सूरजमुखी के बीजों को सीधा गमलों में लगा सकते हैं या फिर पहले इनकी ‘सीडलिंग/पौधे’ तैयार कर सकते हैं। 

  • सूरजमुखी के पौधे लगाने के लिए, आप गमला/ग्रो बैग या फिर कोई भी बड़ा प्लास्टिक का डिब्बा लें और इसके नीचे तले में छेद कर दें। 
  • पॉटिंग मिक्स बनाने के लिए, आप 50% मिट्टी में 40% खाद और 10% रेत मिला लें।
  • सबसे पहले पॉटिंग मिक्स भरकर गमले को अच्छे से तैयार करें।
  • अब इसमें बीज बो दें और पानी का छिड़काव करें।
  • वैसे तो सूरजमुखी के बीज 7-10 दिन में अंकुरित हो जाते हैं, लेकिन कभी-कभी इन्हें दो हफ्ते का समय भी लग जाता है। इसलिए धैर्य रखें और इनकी नियमित देखभाल करें।
  • जब सूरजमुखी के पौधे बढ़ने लगें, तो आप गमले को ऐसी जगह रखें, जहां धूप अच्छी आती हो। 
  • इनमें नियमित रूप से पानी देते रहें। लेकिन पानी सिर्फ तभी दें, जब मिट्टी सूखी हो और ध्यान रखें कि कभी भी गमले में पानी भरा हुआ न रहे। क्योंकि, सूरजमुखी कम पानी में भी उग जाते हैं। लेकिन, ज़रूरत से ज्यादा पानी पौधों को खराब कर देता है।
  • लगभग तीन महीनों में आपके सूरजमुखी के पौधे तैयार हो जाते हैं। 

यहां देखे वीडियो

5. कॉसमॉस ऑरेंज (Cosmos Orange):

Cosmos Orange

आज का आखिरी Summer Flowering Plant है कॉसमॉस ऑरेंज। इसके पौधे को भी आप बीज से लगा सकते हैं। आप ये बीज ऑनलाइन मंगवा सकते हैं या अपने आसपास किसी बीज स्टोर से खरीद सकते हैं। 

  • सबसे पहले, आप एक मध्यम आकार का गमला लें। 
  • पॉटिंग मिक्स के लिए, आप 70% कोकोपीट, 20% मिट्टी और 10% रेत लें। 
  • अब गमले में पॉटिंग मिक्स को भरें और बीजों को लगा दें। 
  • ऊपर से पानी का छिड़काव करें। याद रखे कि केवल पानी से छिड़काव ही करें, क्योंकि इसके बीज काफी हल्के होते हैं। 
  • आप चाहें तो अब इस गमले के ऊपर कोई पॉलिथीन शीट लगा सकते हैं। जिससे बीजों को जल्दी अंकुरित होने में मदद मिलेगी। 
  • आप गमले को ऐसी किसी जगह रखें, जहां सीधी धूप न पड़ती हो। 
  • लगभग एक हफ्ते में ये बीज अंकुरित होने लगेंगे। 
  • जब इनके बीज अंकुरित हो जाएं, तो आप पॉलिथीन हटा दें और गमले को सीधा धूप में रख दें। 
  • लगभग 20-25 दिन में ये पौधे इतने बड़े हो जायेंगे कि आप इन्हें दूसरे गमलों में लगा सकें। 
  • पौधों को दूसरे गमले में लगाने के लिए, आप पॉटिंग मिक्स में सामान्य बगीचे की मिट्टी, रेत और वर्मीकम्पोस्ट मिला सकते हैं। 
  • इस पॉटिंग मिक्स को आप दूसरे गमलों में भर लें और फिर एक-एक करके इन पौधों को दूसरे गमले में लगा दें। 
  • लगभग तीन महीनों में ही आपके पौधे अच्छे से तैयार हो जाएंगे। 

यहां देखें वीडियो

अंकित कहते हैं कि फूलों के पौधों को नियमित पानी और महीने में एक-दो बार खाद की जरूरत होती है। खाद के लिए, आप तरल खाद का इस्तेमाल करें। जैसे- आप केले और प्याज के छिलकों को दो-तीन हफ्तों तक पानी में भिगोकर रख सकते हैं। फिर इस घोल को और अधिक पानी में मिलाकर पौधों को दे सकते हैं। इन्हें कीटों से बचाने के लिए, आप चाहें तो नीम के तेल को पानी में मिलाकर छिड़काव कर सकते हैं या फिर पानी में बेकिंग पाउडर मिलाकर छिड़काव कर सकते हैं। फूलों के पौधों को अच्छी धूप की जरूरत होती है, इसलिए आपके घर में जिस जगह अच्छी धूप आती हो, वहां पर पेड़-पौधे लगाएं। 

तो देर किस बात की, आज से ही शुरू कर दें अपने घर में फूलों की बगिया लगाने की तैयारी। 

हैपी गार्डनिंग। 

संपादन – प्रीति महावर

यह भी पढ़ें: मई के महीने में उगा सकते हैं ये सब्ज़ियां

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें।

निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है.
Let’s be friends :)
सब्सक्राइब करिए और पाइए ये मुफ्त उपहार
  • देश भर से जुड़ी अच्छी ख़बरें सीधे आपके ईमेल में
  • देश में हो रहे अच्छे बदलावों की खबर सबसे पहले आप तक पहुंचेगी
  • जुड़िए उन हज़ारों भारतीयों से, जो रख रहे हैं बदलाव की नींव