in

Tea Stall Business: NRI चायवाला से जानिए कैसे करें चाय के स्टॉल की शुरुआत

न्यूज़ीलैण्ड से लौटकर अपना चाय का स्टॉल, NRI चायवाला शुरू करने वाले जगदीश कुमार बता रहे हैं कि कैसे कम से कम लागत में आप कर सकते हैं बिज़नेस की शुरुआत!

क्या आपने कभी ऐसे शख्स के बारे में सुना है जो विदेश में अपने होटल बिजनेस को छोड़कर देश लौट आया हो और यहाँ चाय बेच रहा हो ? आपको यह सुनकर ताज्जुब हो रहा होगा लेकिन नोएडा में हमारी मुलाकात एक ऐसे ही एनआरआई चाय वाले से हुई।

उत्तरप्रदेश के नोएडा में ‘NRI चायवाला’ के नाम से अपना चाय का बिज़नेस चलाने वाले जगदीश कुमार लगभग एक दशक तक न्यूजीलैंड में होटल इंडस्ट्री से जुड़े रहे। उनके पास वहाँ का ग्रीन कार्ड भी है लेकिन 2018 में स्टार्टअप इंडिया अभियान से प्रेरित होकर वह भारत लौट आए।

“मैं वहाँ पर होटल इंडस्ट्री में अच्छा कर रहा था लेकिन हमेशा यह ख्याल आता था कि मैं दूसरे देश में रोज़गार उत्पन्न कर रहा हूँ। दूसरे देश में इनकम टैक्स भर रहा हूँ और अपने देश के लिए कुछ नहीं कर पा रहा हूँ। पिछले 4-5 सालों में हमारे यहाँ जिस तरह से स्टार्टअप को सपोर्ट मिला है, उसे देखते हुए मैं भारत लौटा और यहाँ पर ही कुछ करने की ठानी,” उन्होंने द बेटर इंडिया को बताया।

अब कोई भी यही सोचेगा कि विदेश से अच्छा-खासा पैसा कमाकर लौटा इंसान कोई बड़ा बिज़नेस सेट-अप करेगा। लेकिन जगदीश ने ऐसा कुछ नहीं किया बल्कि उन्होंने यहाँ बहुत ही छोटे स्तर से अपनी शुरूआत की।

Jagdish Kumar, NRI Chaiwala

वह कहते हैं, “हॉस्पिटैलिटी का मेरा शानदार अनुभव रहा है। मुझे चाय बनाने का बहुत शौक रहा। बनाने के शौक के साथ-साथ तरह-तरह की चाय के बारे में जानना-समझना भी अच्छा लगता है। हमारे यहाँ लगभग सभी लोग दिन में दो बार किसी न किसी रूप में चाय पीते हैं, चाहे सामान्य चाय हो या ग्रीन टी या हर्बल। चाय कोई 100 से ज्यादा तरह की है लेकिन हमारे यहाँ सिर्फ चायपत्ती वाली और ग्रीन टी आदि को ही जाना जाता है। मैंने जब रिसर्च किया तो पाया कि यहाँ चाय का क्षेत्र बहुत ही अनछुआ है। आपको हर नुक्कड़ पर चाय के ठेले, टपरी ज़रूर मिलेंगे लेकिन चाय के साथ इनोवेशन करके कुछ अलग परोसने वाले बहुत ही कम लोग मिलेंगे।”

जगदीश ने ट्रायल बेसिस पर एक कॉर्पोरेट ऑफिस के बाहर थर्मस में चाय ले जाकर बेचना शुरू किया। उनकी चाय में क्वालिटी, वैरायटी और स्वाद- तीनों चीजें थीं और बस वहीं से उनकी ऐसी शुरूआत हुई कि आज लोग उनसे NRI चायवाला की फ्रैंचाइजी ले रहे हैं। आज उनके पास चाय की 45 वैरायटी हैं, जिसमें वह अलग-अलग हर्ब्स को मिलाकर चाय तैयार करते हैं।

जगदीश का उद्देश्य है कि भारत दुनिया में चाय उद्योग में ग्लोबल लीडर बने और आज द बेटर इंडिया के साथ वह बता रहे हैं कि यदि कोई चाहे तो कैसे अपना चाय का स्टॉल शुरू कर सकता है!

1. चाय का बिज़नेस शुरू करने से पहले रखें इन बातों का ख्याल:

सबसे पहले तो यह ध्यान रखें कि कभी भी किसी से प्रभावित होकर कुछ शुरू न करें। आप लोगों से प्रेरणा लें, उनकी मेहनत देखें और सच्ची लगन से आगे बढ़ें। लेकिन अपना बिज़नेस शुरू करने के लिए ज़रूरी है कि आपके पास आपका अपना हुनर हो। आप खुद को परखें कि आपके पास क्या हुनर है? आपकी स्किल्स और आपकी सच्चाई आपको आगे लेकर जाती है।

दूसरी सबसे ज़रूरी बात कि शुरू करने से पहले आप चाय को समझें, इसकी वैरायटी को समझें। प्रैक्टिस करके अपनी एक यूनिक रेसिपी तैयार करें। बाजार में बहुत कम्पटीशन है और आपको कुछ नया लेकर उतरना पड़ेगा। इसलिए खुद अपनी अलग-अलग वैरायटी की चाय की रेसिपी तैयार करें।

या फिर आप किसी और की फ्रैंचाइजी लेकर भी उनके साथ काम कर सकते हैं। लेकिन फ्रैंचाइजी भी ऐसे किसी व्यक्ति से लें, जो आपके साथ ग्राउंड लेवल पर काम करे। आपको सिखाए और आप हर एक बारीक़ से बारीक़ बात को समझे और सीखें।

कभी भी यह न सोचें कि चाय बनाना तो बहुत ही आसान है? अगर आपको अपनी एक पहचान बनानी है तो आपको मेहनत करनी होगी और कुछ नया करते रहना होगा। अगर आप सिर्फ चाय के ठेले वाला बनकर रह जाना चाहते हैं तो वह अलग बात। लेकिन अगर आप खुद को एक उद्यमी के तौर पर आगे ले जाना चाहते हैं तो बस तीन सवाल खुद से करें:

  • आपका प्रोडक्ट क्या है?
  • इस प्रोडक्ट के लिए आपका क्या विज़न है?
  • और इस विज़न पर आगे कैसे काम करें वाले हैं?

अगर इन तीन सवाल के जवाब आपके पास हैं तो आपको कोई नहीं रोक सकता।

2. जगह और इन्वेस्टमेंट:

अगर चाय के बिज़नेस में इन्वेस्टमेंट की बात की जाए तो आप 5 हज़ार रुपये से लेकर 20 लाख रुपये तक भी इसमें इन्वेस्ट कर सकते हैं। आपको बस पता होना चाहिए कि आपका विज़न क्या है और आप कैसे आगे बढ़ेंगे? आप कम से कम लागत से शुरू करें। अगर हम सिर्फ गैस-सिलिंडर, कुछ बर्तन, कप और रॉ मटेरियल की बात करें तो शुरूआत में यह सब 5 हज़ार रुपये से कम में भी आप शायद मैनेज कर लें। फिर जिस तरह से आपका बिज़नेस आगे बढ़े, वैसे-वैसे आप इन्वेस्ट करते रहें।

चाय के स्टॉल के लिए आपको जगह बहुत सोच-समझकर चुननी होगी। ऐसी जगह, जहाँ आसपास का माहौल हो कि लोग वहाँ कम से कम दो बार तो चाय के लिए आयेंगे ही जैसे किसी कॉर्पोरेट इलाके में या स्कूल-कॉलेज आदि में। यहाँ पर आप देखें और बात करें कि एक छोटी-सी चाय की स्टॉल के लिए आपको जगह मिल पाए। बाकी अगर आप कहीं रोडसाइड पर शुरू करना है तो आपको उस इलाके के नगर निगम में बात करनी होगी।

जगह के लिए आपको नगर निगम से अनुमति लेनी होगी और हर एक राज्य के हिसाब से नगर निगम के नियम-कायदे थोड़े अलग-अलग हैं। लेकिन अगर आप अपने बिज़नेस को लेकर मन बना चुके हैं तो एक बार ज़रूर ट्राई करें।

Promotion
Banner

रॉ मटेरियल की अगर बात करें तो चाय के लिए पत्ती, चीनी, दूध सबसे ज्यादा ज़रूरी है और फिर वह सब चीजें जो आपके फ्लेवर के लिए ज़रूरी हैं। शुरूआत में सिर्फ एक-दो प्रोडक्ट्स को आगे बढ़ाएं और देखें कि एक दिन में आपकी कितनी खपत हो पा रही है। उसी हिसाब से रॉ मटेरियल जैसे दूध, चीनी-पत्ती और कप आदि लें।

एक-एक स्टेप लें, जैसे पहले सिर्फ चाय का ठेला शुरू किया और फिर चाय के साथ-साथ एक स्नैक्स आपने शामिल किए। इसके बाद, आप चाहें तो थोड़ी अपनी जगह लेकर एक छोटा-सा कैफ़े सेट-अप कर सकते हैं। अच्छी बिक्री होने लगे तो आप धीरे-धीरे ऑनलाइन जा सकते हैं।

3. सर्टिफिकेट और लाइसेंस:

शुरू में आपको बहुत ज्यादा सर्टिफिकेशन की ज़रूरत नहीं होती है। आप सिर्फ FSSAI सर्टिफिकेट से भी शुरू कर सकते हैं। लेकिन अगर आपका बिज़नेस बढ़ता है तो आपको कई तरह के लाइसेंस लेने होते हैं जैसे फायर सेफ्टी आदि। FSSAI के साथ-साथ आप अपना GST नंबर भी ले लें।

4. मेनू, ब्रांडिंग और मार्केटिंग:

Start Tea Stall Business
His FB Page

अब जब आपने जगह फाइनल कर ली, सभी चीजें लेकर अपनी स्टॉल सेट-अप की तैयारी कर ली है तो बारी आती है आपके मेनू और आपके स्टॉल के नाम की। मेनू आप चाहें तो 4-5 प्रोडक्ट्स का रख सकते हैं। लेकिन इन प्रोडक्ट्स में कुछ ऐसा होना चाहिए जो केवल आप ही के पास हो। आपकी अपनी एक अलग रेसिपी हो और यही प्रोडक्ट आपकी यूएसपी बन जाती है।

बात अगर ब्रांडिंग की करें तो नाम हमेशा ऐसा रखें जो लोगों की नज़र में आए और याद रखने में आसान हो। साथ ही, कोई टैगलाइन भी ज़रूर रखें क्योंकि अक्सर लोगों को टैगलाइन याद रहती है। अपने मेनू कार्ड में भी नाम रखते समय आप इनोवेटिव सोच सकते हैं। अगर आपके पास थोड़ा बजट है तो आपना ब्रांड नाम भी रजिस्टर करा सकते हैं। हालांकि, बिना इसका रजिस्ट्रेशन कराए भी आप शुरू कर सकते हैं।

मार्केटिंग की अगर बात करें तो सबसे अच्छी मार्केटिंग ‘वर्ड ऑफ़ माउथ’ यानी की लोगों द्वारा होती है। इसलिए हमेशा अपने ग्राहकों पर ध्यान दें। उनका फीडबैक लें और उन्हें जानने की कोशिश करें। आपका एक नियमित ग्राहक भी आपको 50-100 और नए ग्राहकों से जोड़ सकता है। इसके बाद, आज के जमाने में सोशल मीडिया बहुत ही कारगर और कम से कम बजट का विकल्प है। सभी जगह अपना पेज बनाएं और उस पर रेग्युलर अपनी चाय बनाते हुए वीडियो, चाय की फोटो, खुश ग्राहकों की फोटो पोस्ट आदि डालते रहें।

अपनी सभी जानकारी यहाँ अपडेट करें और लोगों से जुड़ें। अलग-अलग फेसबुक ग्रुप और इंस्टाग्राम कम्युनिटी का हिस्सा बनें।

5. ग्राहकों से बनाएं रिश्ता:

आपकी सबसे बड़ी ताकत होती है आपका प्रोडक्ट, चाय और लोग। चाय आप अच्छा बना रहे हैं लेकिन इसके साथ ही, आपको लोगों पर ध्यान देना चाहिए। आपके ग्राहक आपसे संतुष्ट होकर जाएँ, इस बात का ध्यान रखें।

  • अपने चाय के स्टॉल का माहौल ऐसा रखें कि लोग वहाँ बैठकर चाय पीना चाहें। आप म्यूजिक चला सकते हैं क्योंकि ये चीजें काफी सपोर्टिव रहतीं हैं।
  • सर्विसिंग पर ध्यान दें। आजकल किसी के पास इतना टाइम नहीं है कि वह आपकी चाय के लिए 10 मिनट से ज्यादा इंतज़ार करें। इसलिए आपकी सर्विसिंग जल्दी और क्वालिटी वाली होनी चाहिए।
  • सबसे ज़रूरी है आपकी चाय का स्वाद, जो किसी भी लेवल पर पहुँचकर भी नहीं बदलना चाहिए। आपने जो स्वाद पहले दिन से शुरू किया था वही रहना चाहिए। थोड़ा ऊपर-नीचे होगा लेकिन यह बेहतर ही हो।
  • ग्राहकों का फीडबैक बहुत मायने रखता है। अगर किसी ने कुछ आपको कहा है तो उनकी बात समझें और कोशिश करें कि ग्राहक के मुताबिक आप उन्हें प्रोडक्ट्स दें।
  • अगर कभी कुछ गड़बड़ हो जाए तो ग्राहकों से माफ़ी मांग लें और भरपाई करने की कोशिश करें।

अंत में एक सबसे ज़रूरी मंत्र है ग्राहक से अपनेपन का रिश्ता बनाना। अगर कोई ग्राहक आपके पास एक-दो दिन से लगातार आ रहा है तो उसके बारे में थोड़ा जाने। उनके नाम से उन्हें बुलाये और उन्हें आपको बार-बार कुछ ऑर्डर देने की ज़रूरत नहीं पड़े बल्कि आप उन्हें थोड़ा पहले से पहले पूछ ले कि क्या चाहिए उन्हें? जब आप उन्हें उनके नाम से बुलाएँगे और उन्हें अपने प्रोडक्ट्स के बारे में थोड़ा जानकारी देंगे तो वो आपको अपना समझेंगे। ऐसे में वह ग्राहक आपकी स्टॉल को छोड़कर कहीं और ट्राई करने के बारे में नहीं सोचेगा।

तो बिल्कुल भी मत घबराइये और कम से कम एक ट्रायल करें। बस एक-दो थर्मस के साथ आप कहीं पर ट्राई करें कि लोगों को आपकी चाय पसंद आ रही है या नहीं। जैसे-जैसे आप आगे बढ़ेंगे, आप सभी समस्याएं पार करते हुए खुद आगे बढ़ने लगेंगे। लेकिन हमेशा कुछ नया करते रहें।

वीडियो देखें: 

इसके साथ ही, जगदीश एक कैंपेन भी चला रहे हैं ‘मैं भी चायवाला,’ जिसके तहत वह ऐसे लोगों को सपोर्ट कर रहे हैं, जिनके पास थोड़ी इन्वेस्टमेंट कैपिटल है लेकिन उन्हें समझ नहीं आ रहा कि कैसे, क्या करें? ऐसे लोगों को वह अपनी फ्रैंचाइजी ऑफर कर रहे हैं और वह खुद उन्हें हर एक चीज़ के लिए ट्रेन भी करेंगे। अगर कोई भी चाय के क्षेत्र में उद्यमी बनना चाहता है तो उनसे 09582770079 पर संपर्क कर सकता है!

यह भी पढ़ें: जानिए कैसे घर से शुरू कर सकते हैं बेकरी बिज़नेस


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

Promotion
Banner

देश में हो रही हर अच्छी ख़बर को द बेटर इंडिया आप तक पहुँचाना चाहता है। सकारात्मक पत्रकारिता के ज़रिए हम भारत को बेहतर बनाना चाहते हैं, जो आपके साथ के बिना मुमकिन नहीं है। यदि आप द बेटर इंडिया पर छपी इन अच्छी ख़बरों को पढ़ते हैं, पसंद करते हैं और इन्हें पढ़कर अपने देश पर गर्व महसूस करते हैं, तो इस मुहिम को आगे बढ़ाने में हमारा साथ दें। नीचे दिए बटन पर क्लिक करें -

₹   999 ₹   2999

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है.

Pune Startup Sistema Bio

इस बायोगैस प्लांट की वजह से 5000 परिवारों को नहीं पड़ती है LPG की जरूरत, जानिए कैसे !

IIT-Madras launched online course

IIT Madras ने शुरू किया बिजनेस अकाउंटिंग प्रोसेस पर ऑनलाइन कोर्स, जल्द करें आवेदन