in ,

जानिए कैसे एक किसान के बेटे ने तय किया खेत से लेकर खुद का कुकरी शो बनाने तक का सफ़र

निकुंज ने अपने खाना बनाने के जुनून को आगे बढ़ाने के लिए सीएस कोर्स के अंतिम साल की पढ़ाई तक छोड़ दी।

Gujrat Farmer son

गुजरात के जामनगर जिले के खिजडिया गाँव में रहने वाले निकुंज वसोया को खाने पकाने का शौक काफी कम उम्र से ही था। रसोई में अक्सर वह अपनी माँ का हाथ बटाया करते थे। 

निकुंज एक किसान परिवार से हैं जो कपास की खेती करता है। बीते दिनों को याद करते हुए निकुंज बताते हैं, “वह संघर्ष के दिन थे। दिन भर की मेहनत के बाद अंत में आठ सदस्यों वाले परिवार को केवल ताज़ा पका हुआ खाना चाहिए होता था।”

द बेटर इंडिया से बात करते हुए निकुंज बताते हैं, “गरीब परिवार में पलते-बढ़ते हुए एक चीज़ मेरी समझ में आई है कि अमीर हो या गरीब, एक चीज़ जो किसी को खुश कर सकती है वह अच्छा खाना है।”

Gujrat Farmer son
निकुंक वसोया

उनका खाना पकाने का शौक जल्द ही जुनून में बदल गया। 15 साल पहले निकुंज ने अपने परिवार के लिए खाना बनाना शुरु किया था। अपने प्रियजनों के लिए भोजन तैयार करने में उन्हें बेहद खुशी मिलती थी और उससे भी ज़्यादा खुशी उन्हें तब मिलती थी जब उनके द्वारा पकाए गए खाने की लोग तारीफ करते थे।

आज निकुंज एक अलग रास्ते पर चल रहे हैं। अपने खाना पकाने के जुनून को दूसरे स्तर पर ले गए और एक यूट्यूब चैनल, ‘फूडऑन‘ टीवी शुरु किया जो प्रामाणिक गुजराती व्यंजनों के वीडियो दिखाता है।

Gujrat Farmer son
अपने यूट्यूब चैनल के एक वीडियो के दौरान निकुंज

इसके अलावा निकुंज ने Street Food & Travel TV  यूट्यूब चैनल की शुरुआत की जिसके आज करीब 3.4 लाख सब्सक्राइबर हैं और यह दुनिया भर में उन लाखों लोगों द्वारा देखा जाता है जो उनकी द्वारा बनाए गए सरल और पौष्टिक व्यंजनों दीवाने हैं।

निकुंज बताते हैं कि बचपन से ही उनका एक कुकरी शो चलाने का सपना रहा है। लेकिन कब,कहाँ, कैसे…इस बारे में उन्हें कोई जानकारी नहीं थी। वह बताते हैं, “एक दिन मैंने सोचा कि क्यों न एक यूट्यूब चैनल शुरु किया जाए। फिर 2013 में, जब मैं अपनी कंपनी सेक्रेटरीशिप कोर्स के अंतिम वर्ष में था, तब मैंने अपना जीवन पूरी तरह से खाना पकाने के लिए समर्पित करने का फैसला किया।”

धीरे-धीरे, बेसिक कैमरे का इस्तेमाल करते हुए उन्होंने वीडियो बनाना शुरु किया। निकुंज बताते हैं कि यहीं से उनकी गाड़ी चल पड़ी। और आज की तारीख में फूडऑन टीवी प्राइवेड लिमिटेड के नाम से उनकी अपनी कंपनी है, जिसके तहत आठ अलग-अलग चैनल हैं। निकुंज बड़े गर्व के साथ बताते हैं कि उनकी कंपनी ने कई बड़े मीडिया उद्यमों के साथ-साथ musically and Facebook जैसे विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफार्मों के साथ भी काम किया है।

Gujrat Farmer son
अपनी बनाई एक रेसिपी दिखाते निकुंज

हालाँकि, 50 हज़ार से ज़्यादा सब्सक्राइबर और लाखों व्यू पाने का सफर रात भर में ही तय नहीं किया गया।

निकुंज बताते हैं, “मैंने इस तरह की बड़ी संख्या की उम्मीद नहीं थी और यहाँ तक पहुँचने में मुझे लगभग डेढ़ साल लग गए। शुरू में प्रतिक्रिया न्यूनतम थी। लेकिन मैंने खुद को मजबूत बनाए रखा और काम करता रहा।”

Promotion
Banner

अपनी खुशी ज़ाहिर करते हुए निकुंज कहते हैं, “लोगों ने मेरी कला को सराहा और पसंद किया है। मैं आज जहाँ पहुँचा हूँ, उसे देख कर बहुत खुश हूँ। मेरी ज़िंदगी का मकसद खाना पकाने से लोगों को खुश करना है, और आखिरकार मुझे इसका एहसास तब हुआ जब मुझे दुनिया भर से अच्छी प्रतिक्रियाएँ मिलनी शुरू हुईं।”

Gujrat Farmer son
निकुंज द्वारा बनाई गयी रेसिपी

एक दिलचस्प बात निकुंज ने यह भी साझा किया कि वह शायद, गुजरात के पहले पुरुष शेफ थे जिसने इंटरनेट पर एक कुकिंग चैनल शुरू किया। वह कहते हैं, “जब मैंने शुरुआत की, तो कोई भी पुरुष यह काम नहीं कर रहा था। हालाँकि, एक गुजराती महिला अपने खाना पकाने के चैनल के साथ पहले से ही प्रसिद्ध थी, लेकिन वह अमेरिका में रहती थी।”

शुरुआत में, निकुंज को वीडियो की तकनीकी चीज़ें भी देखना पड़ा और चैनल को अकेले ही संभालना पड़ा।

वह बताते हैं, “मुझे अपने दम पर सब कुछ करना पड़ा, क्योंकि कोई भी मेरे घर में शिक्षित नहीं है और तकनीक संबंधी चीज़ों को नहीं समझ सकते है। लेकिन वे जो कर सकते हैं, उसमें मदद के लिए हमेशा तैयार रहते हैं। जैसे कि वीडियो में, मैं अपने हाथ का बना खाना माँ को चखने देता हूँ और पूछता हूँ कि यह कैसा बना है।”

Gujrat Farmer son
निकुंज द्वारा तैयार की हुई पारंपरिक गुजराती डिश

अपने खाना पकाने के जुनून का श्रेय निकुंज अपनी माँ को देते हैं। उन्होंने अपना जीवन पाक कला को समर्पित कर दिया है। हम चाहते हैं कि निकुंज अधिक से अधिक ऊंचाइयों पर पहुंचे और उम्मीद करते हैं कि उनकी कहानी से कई लोग प्रेरित होंगे।

फूडऑन टीवी आप यहां देख सकते हैं। 

मूल लेख- LEKSHMI PRIYA S

यह भी पढ़ें- IT सेक्टर की जॉब छोड़ लगवा रहे हैं लोगों के बगीचे, 5000 से भी अधिक हैं इनके संतुष्ट ग्राहक

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

Promotion
Banner

देश में हो रही हर अच्छी ख़बर को द बेटर इंडिया आप तक पहुँचाना चाहता है। सकारात्मक पत्रकारिता के ज़रिए हम भारत को बेहतर बनाना चाहते हैं, जो आपके साथ के बिना मुमकिन नहीं है। यदि आप द बेटर इंडिया पर छपी इन अच्छी ख़बरों को पढ़ते हैं, पसंद करते हैं और इन्हें पढ़कर अपने देश पर गर्व महसूस करते हैं, तो इस मुहिम को आगे बढ़ाने में हमारा साथ दें। नीचे दिए बटन पर क्लिक करें -

₹   999 ₹   2999
mm

Written by पूजा दास

पूजा दास पिछले दस वर्षों से मीडिया से जुड़ी हैं। स्वास्थ्य और फैशन से जुड़े मुद्दों पर नियमित तौर पर लिखती रही हैं। पूजा ने माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय से मास्टर्स किया है और नेकवर्क 18 के हिंदी चैनल, आईबीएन7, प्रज्ञा टीवी, इंडियास्पेंड.कॉम में सक्रिय योगदान दिया है। लेखन के अलावा पूजा की दिलचस्पी यात्रा करने और खाना बनाने में है।

JAM 2021: IIT, NIT और BHU जैसे संस्थानों में मास्टर्स के दाखिले के लिए प्रवेश परीक्षा

kerala farmer

केरल के किसान का मॉडल: हर साल बेचते हैं एक लाख किलो कटहल, बचाते हैं 6 करोड़ लीटर पानी