ऑफर सिर्फ पाठकों के लिए: पाएं रू. 200 की अतिरिक्त छूट ' द बेटर होम ' पावरफुल नेचुरल क्लीनर्स पे।अभी खरीदें
X
दो हज़ार ग्रामीणों संग IFS अफसर ने बंजर ज़मीन पर बनाया ट्यूलिप गार्डन, रचा इतिहास

दो हज़ार ग्रामीणों संग IFS अफसर ने बंजर ज़मीन पर बनाया ट्यूलिप गार्डन, रचा इतिहास

इस ट्यूलिप गार्डन की डेवलपमेंट कमेटी में मुख्य रूप से बेरोजगार स्थानीय समुदाय के युवा शामिल हैं। ये युवा गार्डन की स्थापना से लेकर इसे पूरा करने और उसके रखरखाव तक की सुविधा में जुड़े हुए हैं।

बर्फ से ढके पहाड़, पहाड़ों के बीच से आती सूरज की रोशनी और इससे सटा एक छोटा सा कस्बा। सुनने में शायद यह किसी मनमोहक तस्वीर की कल्पना लगे। लेकिन उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले का मुनस्यारी टाउनशिप एक ऐसी ही जगह है, जहां से बर्फ से ढकी पंचाचूली पर्वत की खूबसूरती को देखा जा सकता है। इस खूबसूरत दृश्य को देख कर ऐसा लगता है मानो धरती पर स्वर्ग उतर आया हो।

इन दिनों, पहाड़ों पर बसा यह शहर और उसके आस-पास के गाँव सुर्खियों में हैं और इसका कारण थल-मुनस्यारी राज्य राजमार्ग के किनारे स्थित एक ट्यूलिप गार्डन है।

इस ट्यूलिप गार्डन की कल्पना पिथौरागढ़ के डिविज़नल फॉरेस्ट ऑफिसर, डॉ विनय भार्गव ने की थी और इस गार्डन की 50 हेक्टेयर से अधिक क्षेत्र में फैलने की संभावना है। यह एक बड़े मुनस्यारी नेचर एजुकेशन और इको पार्क सेंटर का हिस्सा है, जिसका उदेश्य उन पर्यटकों, छात्रों और प्रकृति प्रेमियों को आकर्षित करना है जो फूलों की सुंदरता का अनुभव लेना चाहते हैं। 

हालांकि, यह डॉ. भार्गव द्वारा डिज़ाइन किया गया था लेकिन इस गार्डन के पीछे मुनस्यारी इको-डेवलपमेंट कमेटी (ईडीसी) के सदस्य हैं, जिसमें मुख्य रूप से बेरोजगार स्थानीय समुदाय के युवा शामिल हैं। ये युवा गार्डन की स्थापना से लेकर इसे पूरा करने और उसके रखरखाव तक की सुविधा में जुड़े हुए हैं। स्थानीय निवासी मिट्टी के काम, साइट की तैयारी, रोपण और सिंचाई से लेकर इस बगीचे की पोषण प्रक्रिया, संरक्षण और निगरानी तक में शामिल हैं।

लोगों का यह समूह ज्ञान प्रसार में भी शामिल है और अब स्थानीय ग्रामीणों और पर्यटकों के लिए रिसोर्स पर्सन के रूप में कार्य करता है।

वर्तमान में, साइट पर प्रतिदिन 350 व्यक्ति जा सकते हैं और यह सप्ताह के एक दिन में सभी विजिटरों के लिए बंद रहता है। हालांकि, कोविड-19 महामारी ने इस सीजन पर कुछ प्रभाव डाला है लेकिन मुन्सियारी ईडीसी को उम्मीद है कि अगले साल पर्यटक इस स्थल की खूबसूरती का पूरा मज़ा ले सकते हैं।

Tulip garden
source

इसी जगह को क्यों चुना गया

यहाँ सर्दियों में बहुत ज़्यादा ठंड होती है और बड़े पैमाने पर बर्फबारी होती है, वसंत लंबी होती है और गर्मियों में कभी-कभी बारिश होती है। यहां कि फिजियो-ग्राफिकल सुविधाएं जैसे कि ऊँचाई (2760 mts. above msl), नमी की उपलब्धता, अच्छी तरह से सूखी मिट्टी और थोड़ी ढलान से लेकर तापमान (18 से 25 डिग्री सेल्सियस) और 6.0 से 7.0 के बीच पाया जाने वाला मिट्टी का पीएच स्तर ट्यूलिप उगाने के लिए एकदम सही हैं।

डॉ.भार्गव बताते हैं कि क्षेत्र की टोपोग्राफी ऐसी है कि उत्तर-पूर्व परिदृश्य की ढलान, जहां ट्यूलिप लगाए गए हैं, अपेक्षाकृत बेहतर नमी की उपलब्धता सुनिश्चित करेगी। वह आगे कहते हैं, “यहां चारों तरफ से धूप मिलती है जो ट्यूलिप के बढ़ने के लिए उपयुक्त है।”

शुरूआती चुनौतियां, संघर्ष और फूल का खिलना

द बेटर इंडिया के साथ ईमेल पर हुई बातचीत में, डॉ भार्गव ने बताया, “इस पायलट प्रोजेक्ट के लिए जिस साइट इट का चयन किया गया, वह शुरू में एक तरह के खरपतवार से भरी हई थी जिसे आम तौर पर जंगली पालक कहा जाता है। इसकी एक गहरी जड़ प्रणाली है और मिट्टी में बने रहने वाली घास बचे हुए हिस्सों में से अपने आप को पुन: उत्पन्न कर सकती है। दरअसल, यह हिमालय के उप-अल्पाइन और अल्पाइन क्षेत्रों के लगभग सभी क्षेत्रों में बड़े पैमाने पर समस्याएँ पैदा कर रहा है।”

नतीजतन, बुनियादी गार्डन उपकरणों का उपयोग करते हुए इस खरपतवार को पूरी तरह से हटाने के लिए मुनस्यारी ईडीसी  द्वारा अक्टूबर 2018 में बड़े पैमाने पर काम शुरू किया गया। रास्तों और मार्ग विकास पर भी कुछ भूनिर्माण और सुधार किया गया। 

मुनस्यारी में प्रदर्शन ब्लॉक विकसित करने के उद्देश्य से, पायलट साइट के लिए नीदरलैंड से पांच रंगों के 7000 उच्च गुणवत्ता वाले ट्यूलिप बल्ब, आयात किए गए थे। ये पांच रंग थे –  कैरोल (गुलाबी रंग), क्रिस्टल स्टार (पीला रंग), डेनमार्क (पीला-लाल रंग), जंबो पिंक (गुलाबी रंग), परेड (लाल रंग), स्ट्रांग गोल्ड ( पीला रंग) और व्हाइट प्राउड (सफेद रंग)।

ये बल्ब पहुंचने में देरी हुई और इसके कई कारण थे। आखिरकार वो 2019 में मार्च महीने में पहुंचे। हालांकि, उन्हें लगाने का वह उपयुक्त समय नहीं था, लेकिन ईडीसी ने इसे लगाने का फैसला किया।

मार्च के अंत तक पायलट साइट पर बर्फ पिघल जाने के बाद, अप्रैल के पहले सप्ताह में अगला कदम मिट्टी की उर्वरता को बढ़ाना और ट्यूलिप और अन्य देशी प्रजातियों को रोपने के लिए सॉयल बेड से बना से प्रदर्शनकारी ब्लॉक तैयार करना था। 

भार्गव कहते हैं, इसके लिए 1: 1: 1 के अनुपात में ओक वन मिट्टी, खेत की मेड़ और कोकपीट का मिश्रण लिया गया और बल्ब और अन्य देशी प्रजातियों को मुनस्यारी ईडीसी के सदस्यों द्वारा लगाया गया था। वनस्पति विकास में लगभग 45 दिन लगे, जिसके बाद इस साइट पर रूक-रूक कर कई कलियां देखी गई। 

पिछले वर्ष रोपण के दौरान, विशेष रूप से मानसून के मौसम के बाद, इन बल्ब के लिए कई मुश्किलें आई। इस समय तक, बल्ब मिट्टी में बने हुए थे और नवंबर 2019 में सर्दियों की शुरुआत के साथ ही पत्तियां मुरझाने लगी थी। बल्ब मिट्टी में बने रहे और 2019 की भीषण सर्दी को झेला। हालांकि पायलट साइट पर तीन महीने से अधिक समय तक बर्फ जमी रही, डॉ भार्गव और ईडीसी को यकीन था कि ट्यूलिप बल्ब अभी भी उनमें जीवित हैं। उन्होंने इसके चारो ओर बाड़ बनाया ताकि जंगली चूहों, जंगली सूअर और लंगूरों से रक्षा हो सके।

Tulip garden
डॉ. विनय भार्गव

डॉ भार्गव बताते हैं कि “मार्च 2020 में बर्फ पिघलने के बाद, अप्रैल 2020 में पत्तियां फिर आनी शुरू हुईं। ये ट्यूलिप रुक-रुक कर खिलते रहे, लेकिन वो अभी भी अपरिपक्व स्तर पर थे। यह उनकी परेशानियों का अंत नहीं था। वसंत की शुरुआत के बावजूद, ओलावृष्टि के अचानक झोंके आए, लेकिन ट्यूलिप ने किसी तरह उनका सामना किया। जैसे-जैसे पत्ते मज़बूत होते गए, हम कई तरह के गुलाबी, सफ़ेद, लाल और पीले रंग के इन ट्यूलिपों की चमक को देखने लगे। इरिज़, रानकुंकी, फॉक्स ग्लव्स की अन्य जंगली प्रजातियां भी उसी समय के आसपास खिल गईं, लेकिन ट्यूलिप का खिलना वहां का सबसे बड़ा आकर्षण बन गया।”

लगाए गए सभी बल्ब अच्छी तरह से खिले। इसमें 100% सफलता मिली और मनचाहा परिणाम भी मिला। इनके अलावा, उन्होंने अन्य देशी जंगली सजावटी फूलों की प्रजातियों को भी रखा था जिनमें इरिज़, फॉक्स ग्लव्स, रोडडेन्ड्रन, वाइल्ड रोज़, लिलियम, डैफोडिल्स, डॉगटेल, रनंगक्यलस आदि शामिल थे, लेकिन ट्यूलिप उनमें से सबसे आकर्षक थीं।

वह कहते हैं, “मुख्य उदेश्य हिमालयी उप-जल क्षेत्रों में खरपतवार स्थलों के इको-रिस्टोरेशन को मजबूत करना और क्षेत्र की जैव विविधता में सुधार करना था।”

ट्यूलिप के प्रत्येक परिपक्व बल्ब ने अब 6-8 बल्ब का उत्पादन किया है और इसका श्रेय आदर्श जलवायु परिस्थितियों और सफल रोपण प्रक्रिया को जाता है। आयात पर दोहराए जाने वाले खरीद खर्चों में कटौती करने के लिए, परियोजना डच साझेदारों के साथ एक तकनीक विकसित करने पर विचार कर रहा है ताकि इन बल्बों से परिपक्व बल्ब विकसित किए जा सकें। 

आर्थिक क्षमता

ट्यूलिप गार्डन विकसित करने के पीछे बड़ा उद्देश्य राज्य में सिल्विकल्चर, बागवानी और पर्यटन क्षेत्र को बढ़ावा देना है जो ग्रामीण स्व-रोजगार के लिए अतिरिक्त अवसर प्रदान करेगा। सरकार का मानना है कि इस तरह की लैंडमार्क परियोजनाएं इन कुछ हद तक पलायन रोक सकती हैं। 

Tulip garden
source

यह कैसे हो रहा है? क्या क्षमता है?

1.स्थापना से लेकर काम पूरा करने और उसके रखरखाव तक कई सुविधाओं के विकास का श्रेय स्थानीय समुदाय को दिया जा सकता है। सभी मिट्टी के काम, साइट की तैयारी, रोपण, सिंचाई, पोषण और देखभाल, संरक्षण, निगरानी गतिविधियों आदि में पूरी तरह से शामिल थे।

2.राज्य के वन विभाग के संरक्षण में और ईडीसी की सक्रिय सहमति के तहत, सामुदायिक भूमि पर और मुनस्यारी के पहाड़ी क्षेत्रों से पलायन करने वाले लोगों की परती भूमि पर ट्यूलिप बल्ब की बड़े पैमाने पर खेती की जाएगी।  दूसरे शब्दों में, सभी बंजर या बंजर भूमि को एक नया पट्टा मिलेगा। साथ ही, किसानों को अपनी आमदनी बढ़ाने के लिए फूलों की खेती / बागवानी आधारित खेती के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा है।

3.ये लोग ज्ञान प्रसार में भी शामिल हैं और अब उन स्थानीय ग्रामीणों और विजिटरों के लिए संसाधन व्यक्तियों यानी रिसोर्स पर्सन के रूप में कार्य करते हैं जो इस पहल में शामिल होना चाहते हैं।

4.भार्गव का दावा है कि, “यह साइट विभिन्न प्रजातियों के पक्षियों (लगभग 250) के लिए घर भी हो सकती है। यह साइट क्षेत्र में वनस्पतियों और जीवों की विविधता पर इकोटोन के उल्लेखनीय प्रभाव को भी दर्शाती है। जहां तक लाभ मिलने की बात है, परियोजना पूरी होने पर आसपास के गांवों के 1,500 से 2,000 लोग खेती, रखरखाव, पर्यावरण शुल्क संग्रह और अन्य सहायक गतिविधियों के लिए प्रत्यक्ष / प्रत्यक्ष रोजगार में लगे रहेंगे।”

5.वह आगे कहते हैं,”इसके अलावा, जैसा कि परियोजना को आगे ले जाने का विचार किया गया है, ट्यूलिप गार्डन प्रबंधन की जरूरतों के अलावा (जनशक्ति और आदानों के संदर्भ में) यह कई प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष सहायता प्रणालियों की मांग करेगा जैसे स्थानीय और दूर परिवहन सुविधाएं, होम स्टे का प्रचार, ग्राम पर्यटन, पक्षी पर्यटन, होटल, रिसॉर्ट्स के संदर्भ में आरामदायक आवास, पेइंग गेस्ट हाउस, पर्यटकों की विभिन्न आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए स्थानीय बाजार आदि।”

इस तरह की परियोजनाओं की सफलता यह सुनिश्चित कर सकती है कि पिथौरागढ़ जैसे सीमावर्ती जिले लोगों को क्षेत्र से पलायन करने और अपने क्षेत्र को मजबूत करने के लिए आवश्यक आर्थिक प्रोत्साहन दे सकते हैं। यह पूरी तरह से माइग्रेशन प्रक्रिया को रोक नहीं सकता है, लेकिन यह इसे कम करने में मददगार हो सकता है। इस वर्ष, कोरोनवायरस वायरस की महामारी ने कामकाज को प्रभावित किया है, लेकिन भविष्य के लिए इसकी क्षमता बहुत अच्छी है।

मूल लेख-RINCHEN NORBU WANGCHUK

यह भी पढ़ें- घर के गार्डन में उगाते हैं 34 किस्म की बोगनविलिया फूल, हर महीने कमा रहे हैं 2 लाख रूपये

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

पूजा दास

पूजा दास पिछले दस वर्षों से मीडिया से जुड़ी हैं। स्वास्थ्य और फैशन से जुड़े मुद्दों पर नियमित तौर पर लिखती रही हैं। पूजा ने माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय से मास्टर्स किया है और नेकवर्क 18 के हिंदी चैनल, आईबीएन7, प्रज्ञा टीवी, इंडियास्पेंड.कॉम में सक्रिय योगदान दिया है। लेखन के अलावा पूजा की दिलचस्पी यात्रा करने और खाना बनाने में है।
Let’s be friends :)
सब्सक्राइब करिए और पाइए ये मुफ्त उपहार
  • देश भर से जुड़ी अच्छी ख़बरें सीधे आपके ईमेल में
  • देश में हो रहे अच्छे बदलावों की खबर सबसे पहले आप तक पहुंचेगी
  • जुड़िए उन हज़ारों भारतीयों से, जो रख रहे हैं बदलाव की नींव