in

गार्डनगिरी: न बीज की ज़रूरत, न पौधे की, जानिये कैसे घर पर उगा सकते हैं अपनी फेवरेट सब्ज़ी

चटनी के लिए ताजा धनिया चाहिए या फिर सलाद के लिए प्याज? अब आपको इनके लिए बार-बार बाज़ार भागने की ज़रूरत नहीं है बल्कि आप घर पर ही यह सब उगा सकते हैं!

भोजन के लिए सब्जी उगाने और उसे खाने की थाली तक परोसने का अनुभव खास होता है। घर पर उगने वाली सब्जियां ना केवल बगीचे की सुंदरता बढ़ाती है बल्कि यह हर स्थिति में सब्जियों की आपूर्ति भी सुनिश्चित करती है।

इस पूरे प्रक्रिया की सबसे अच्छी बात यह है कि यहां न्यूनतम निवेश के साथ बेहतर परिणाम पा सकते हैं। इसके लिए आपको बागवान होने या बीज खरीदने के बारे में चिंता करने की ज़रूरत नहीं है। एक किचन गार्डन शुरू करने के लिए आपके रसोई में मौजूद साग-सब्जियां ही पर्याप्त हैं।

चलिए हम आपको एक कदम और आगे ले जाते हैं और आपको बताते हैं कि कैसे आप अपने रसोई में पकाए जाने वाले खाने की मदद से किचन गार्डन बना सकते हैं।

क्या आप जानना चाहते हैं कैसे? तो पढ़िए ये स्टेप्स

यहां 5 सब्जियां हैं जिन्हें बचे हुए भोजन से उगा सकते हैं जिन्हें आप अक्सर फेंक देते हैं:

वह सूखा हुआ अंकुरित आलू जिसे आप फेंकने वाले हैं

1. आलू को दो हिस्सों में काटें ताकि प्रत्येक भाग में कम से कम एक कली हो। उन्हें कुछ दिनों के लिए सूखने दें।

2. लगभग 2 फीट गहरा कंटेनर (बड़े प्लास्टिक बैग का इस्तेमाल भी कर सकते हैं) लें और नीचे छेद करें। उन्हें मिट्टी, कोकोपीट और कुछ खाद से भरें (लगभग 5 इंच तक)

3. अंकुरित आलू को मिट्टी में रोपें और 5 इंच मिट्टी के साथ कवर करें। मिट्टी को नम रखने के लिए उन्हें नियमित रूप से पानी दें। उन्हें ठंडे स्थान पर रखें।

4. रोपण के 7-8 सप्ताह के भीतर आलू की फसल तैयार हो जानी चाहिए।

टिप: यदि आलू पहले से अंकुरित नहीं हैं, तो इसे ठंडे, सूखे स्थान पर स्टोर करें। जब यह 3-4

5. कलियों के साथ अंकुरित हो जाता है, तो यह तैयार हो जाता है। अधिक कलियों का मतलब पौधे के बढ़ने की संभावना ज़्यादा होना है।

मुलायम प्याज?

केवल आधे प्याज़ से नियमित रूप से ताज़ा प्याज़ पाया जा सकता है।

How to grow vegetables

1. जड़ की तरफ से एक छोटा या मध्यम आकार का प्याज काटें। सुनिश्चित करें कि प्याज़ का कुछ हिस्सा उसमें लगा हुआ हो।

2. एक कंटेनर में मिट्टी और खाद मिलाएं और इस प्याज़ को उसमें लगाएं। गर्म, सूखी जगह पर रखें। इसे लगभग तीन सप्ताह तक रोजाना पानी दें। इस समय तक, इसे बढ़ना शुरू हो जाना चाहिए।

3. एक बार जब अंकुर दो इंच लंबे हो जाते हैं, तो प्याज को मिट्टी से बाहर निकालें और लगा गए प्याज़ के टुकड़े को अलग करें।

4. अब एक बड़े कंटेनर (या सीधे जमीन में) में उन प्याज़ के टुकड़ों को अलग से लगाए। यह सुनिश्चित करें कि इसे पोषित रखने के लिए खाद पर्याप्त है। अगले दो महीने तक उन्हें हर दिन पानी दें। फसल छह सप्ताह के भीतर तैयार हो जानी चाहिए।

सूखे मिर्च? बगीचे में काफी मात्रा में उगाए जा सकते हैं

via GIPHY

Promotion
Banner

1. पूरी तरह से सूखी हुई लाल मिर्च लें और इसे तोड़ कर सारे बीजों को हटा दें (कृपया दस्ताने का उपयोग करें)। पेपर टॉवल पर उन्हें समान रूप से फैलाएं और थोड़ा पानी स्प्रे करें।

2. पेपर टॉवल को आधे से मोड़ें और फिर इसे ऊपर रोल करें। एक रबर बैंड से बांधें। इसे ठंडे, सूखे स्थान पर रखें और हर दिन इस पर पानी का छिड़काव करें। लगभग एक सप्ताह के बाद, वे बुवाई के लिए तैयार हो जाएंगे।

3. अब एक कंटेनर लें जिसमें यह पेपर टॉवल ( खोलने पर ) फिट हो जाए। अब इसमें मिट्टी और खाद मिलाएं। मिट्टी को लगभग 2-3 इंच गहरा और इतना चौड़ा करें ताकि पेपर टॉवल को समायोजित कर सके। अब इसमें टॉवल खोलें ताकि बीज इसमें जाए और इसे मिट्टी के साथ कवर करें। आप सीधे बीज भी लगा सकते हैं।

4. हर दूसरे दिन पानी दें और कंटेनर को एक गर्म स्थान पर रखें जहां उसे लगभग 4-6 घंटे सूरज की रोशनी मिले। 10 वें दिन तक, पत्तियों का पहला सेट दिखाई देगा। लगभग 2 महीनों में, पौधे की ऊंचाई करीब 8-10 इंच बढ़ेगी और फूल लगने शुरू हो जाएंगे। अगले 7-10 दिनों में पहली मिर्च की कली दिखाई देनी चाहिए।

बिना सुगंध वाले पुराने धनिया के बीज? लगाइए अपने बगीचे में

1. एक मुट्ठी जैविक धनिया के बीज लें और उन्हें समान रूप से एक प्लेट पर फैलाएं। बीजों को आधे हिस्सों में तोड़ें।

2. खाद के साथ मिट्टी तैयार करें और उस पर पानी छिड़कें। एक गड्ढा खोदें जो 2 इंच से ज़्यादा गहरी न हो। सीधी लाइनों में बीज बोएं। बीज के बीच 0.5-1 सेंटीमीटर की दूरी रखें।

3. मिट्टी से इसे ढ़कें और हाथों से दबाएं। बीज को बुवाई के ठीक बाद और हर दिन एक बार पानी दें। 7-10 दिनों के भीतर, पत्तियां अंकुरित होना शुरू हो जाएंगी। शुरूआत में, पत्ते चमकदार, लंबे और मोटे होंगे। तीसरे सप्ताह तक, आपको एक हल्की खुशबू मिलनी चाहिए। इस समय तक, मोटे पत्ते पतले हो जाएंगे। यह वह समय है जब आप कटाई कर सकते हैं।

पुदीना बढ़ाएगा आपके खाने का ज़ायका

How to grow vegetables

1. पुदीना के ऐसे डंठल को चुने जिनमें छोटे जड़ उग रहे हों। उन्हें कमरे के तापमान पर पानी से भरे ग्लास में रखें। सुनिश्चित करें कि उन्हें उचित सूरज की रोशनी मिले।

2. पानी को प्रतिदिन बदलें और 7-8 दिनों के लिए दोहराएं।

3. एक उथले बर्तन का चयन करें जो 1-1.5 फीट चौड़ा है (पुदीना बहुत जल्दी फैलता है) और इसमें मिट्टी, कोकोपीट और खाद का मिश्रण मिलाएं। बर्तन को पर्याप्त धूप में रखें।

4. आठवें दिन तक, उपज बाहर की ओर होनी चाहिए। प्रत्येक के बीच 15 सेमी की दूरी बनाते हुए इसे गमले में लगाएं।

5. हर दिन पौधों को पानी दें। पत्तियों को छांटे ताकि वे क्षैतिज रूप से फैलें।

6. पुदीने की पत्तियां एक दो हफ्ते में फूलने लगेंगी। सुनिश्चित करें कि आप किसी भी बिंदु पर 1/3 से ज़्यादा पत्तियां ना काटें।

यह भी पढ़ें: केरल के इस शख्स ने छत पर उगाई 50 से अधिक आमों की किस्में, एक को दिया पत्नी का नाम!

मूल लेख: तन्वी पटेल


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com(opens in new tab) पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

Promotion
Banner

देश में हो रही हर अच्छी ख़बर को द बेटर इंडिया आप तक पहुँचाना चाहता है। सकारात्मक पत्रकारिता के ज़रिए हम भारत को बेहतर बनाना चाहते हैं, जो आपके साथ के बिना मुमकिन नहीं है। यदि आप द बेटर इंडिया पर छपी इन अच्छी ख़बरों को पढ़ते हैं, पसंद करते हैं और इन्हें पढ़कर अपने देश पर गर्व महसूस करते हैं, तो इस मुहिम को आगे बढ़ाने में हमारा साथ दें। नीचे दिए बटन पर क्लिक करें -

₹   999 ₹   2999
mm

Written by पूजा दास

पूजा दास पिछले दस वर्षों से मीडिया से जुड़ी हैं। स्वास्थ्य और फैशन से जुड़े मुद्दों पर नियमित तौर पर लिखती रही हैं। पूजा ने माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय से मास्टर्स किया है और नेकवर्क 18 के हिंदी चैनल, आईबीएन7, प्रज्ञा टीवी, इंडियास्पेंड.कॉम में सक्रिय योगदान दिया है। लेखन के अलावा पूजा की दिलचस्पी यात्रा करने और खाना बनाने में है।

किसानों से खरीद ग्राहकों के घर तक पहुंचा रहे हैं सब्ज़ियाँ, वह भी बिना किसी कमीशन के!

नौकरी छोड़ 10 हजार रुपये से शुरू किया व्यवसाय, आज कई बड़े-बड़े होटल हैं इनके ग्राहक!