in ,

पुराने कपड़े दान करना चाहते हैं? तो इस लेख को ज़रूर पढ़ें!

इन संगठनों को आप अपने पुराने कपड़े भेज सकते हैं, जो इन्हें ज़रुरतमंदों तक पहुंचा देंगे!

दो वक़्त का खाना, पीने के लिए पानी, पहनने के लिए कपड़े और सिर पर छत – ये हम इंसानों की मूलभूत ज़रूरतें हैं। विडम्बना यह है कि हमारे देश में एक तबका ऐसा है जिसके पास साधनों की कोई कमी नहीं है और उन्हें लगता है कि दुनिया बहुत खूबसूरत और आरामदायक है। वहीं दूसरी तरफ एक तबका ऐसा है जो दिन-रात इस जद्दोजहद में लगा है कि किसी तरह इन चंद मूलभूत ज़रूरतों को पूरा कर सकें।

ऐसे में, जो समर्थ लोग हैं उनकी ज़िम्मेदारी बनती है कि वे किसी ज़रूरतमंद के काम आएं। इसके लिए बहुत ज्यादा कुछ करने की ज़रूरत नहीं है बल्कि छोटे-छोटे कदम भी बड़ा बदलाव ला सकते हैं। जैसे कि कपड़े दान करना। जी हाँ, हम सबके पास ऐसे बहुत से कपड़े होते हैं जिन्हें हम कभी नहीं पहनते हैं, सिर्फ अलमारी में जमा करके रखते हैं। यदि इन कपड़ों को हम किसी ज़रूरतमंद तक पहुंचा दें तो यह उनके लिए बहुत बड़ी मदद होगी। अब सवाल आता है कि कहाँ और कैसे कपड़े डोनेट कर सकते हैं?

1. कपड़े अलग करें

 

सबसे पहले अपनी अलमारी से उन सारे कपड़ों को इकट्ठा करें जो आप बिल्कुल नहीं पहनते। इनमें से फटे या फिर घिसे हुए कपड़ों को अलग कर दें। बाकी जो सही कपड़ें हैं जिन्हें अगर आप किसी को दें तो वह उसे इस्तेमाल कर सके, वैसे कपड़ों को डोनेशन के लिए रखें। ऐसा करने पर आपके कपड़े जिस भी जरूरतमंद को मिलेंगे, उसके चेहरे पर कपड़े देखकर एक मुस्कान आ जाएगी।

2. कपड़ों को नया रूप दें

अब जो थोड़े-बहुत फटे हुए कपड़े आपके पास बच गए हैं उन्हें डस्टबिन में फेंकने की बजाय, उनसे आप और नयी चीज़ें बना सकते हैं। याद रखें कि कपड़े के जरा से टुकड़े को बनाने के लिए कई लीटर पानी खर्च होता है। स्वच्छ जैसे संगठन सिर्फ दान करने के लिए कपड़े इकट्ठा नहीं करते, बल्कि वे कुछ कपड़ों को अपसाइकिल भी करते हैं। मतलब पुराने किसी कपड़े से बैग, स्कार्फ आदि बनाना। यह काम आप खुद भी कर सकते हैं।

3. कपड़े हमेशा धोकर दान करें

वैसे तो बहुत से संगठन कपड़े धोकर ही लोगों को दान करते हैं, लेकिन अगर आप धोकर देंगे तो उनका काफी समय बचेगा। संगठनों के अलावा यदि आप खुद भी किसी को कपड़े दे रहे हैं तो धोकर दें क्योंकि आपको नहीं पता कि उनके पास कपड़े धोने और सुखाने के साधन हैं या नहीं।

4. मौसम के हिसाब से कपड़े दान करें

किसी को भी कपड़े देने से पहले मौसम को ध्यान में रखें। सर्दियों के दौरान अच्छा होगा कि आप कंबल, स्वेटर या फिर दूसरे गर्म कपड़े दें। वहीं गर्मियों में हल्के सूती कपड़े आप दान कर सकते हैं।

5. देखभाल कर एनजीओ चुनें

आप यदि किसी सामाजिक संगठन के माध्यम से कपड़े दान करना चाहते हैं तो ऑनलाइन रिसर्च करें। वही संगठन चुनें जो वाकई लोगों के लिए काम कर रहा है जैसे कि गूँज। बहुत से संगठन खुद आपके यहाँ से कपड़े लेने आते हैं तो बहुत बार आपको खुद उनके यहाँ जाकर कपड़े देने होते हैं।

Promotion

आप अपने शहर के हिसाब से संगठन देख सकते हैं ताकि आपको आसानी हो। हम आपके साथ कुछ शहरों के संगठनों के नाम साझा कर रहे हैं, उम्मीद है इससे आपकी मदद हो पाएगी:

जम्मू: द सारा

दिल्ली: उदय फाउंडेशन

बंगलुरु: शेयर एट डोर स्टेप

जयपुर: फॉरएवर फाउंडेशन

अहमदाबाद: संवेदना

चेन्नई: स्माइल वेलफेयर फाउंडेशन

मुंबई: राहत फाउंडेशन

गुवाहाटी: परिजात अकादमी

भोपाल: अहम भूमिका ‘क्लॉथ बैंक’

हैदराबाद: प्रयास

हैदराबाद स्थित प्रयास एनजीओ के एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर शैक अल्ताफ़ अहमद कहते हैं,

“जब भी लोग मुझसे कपड़े दान करने के बारे में पूछते हैं, मैं हमेशा उन्हें सलाह देता हूँ कि बहुत पुराने और फटे हुए कपड़े न दें। इससे हमें कपड़े छांटते समय आसानी होती है। ज़्यादातर एनजीओ कपड़ों के साथ-साथ पुरानी किताबें, बर्तन आदि भी इकट्ठा करते हैं। इसलिए एक बार डोनेट करने से पहले पूछ लें।”

अब जब आपको पता है कि आपको कहाँ और कैसे कपड़े दान करने है तो आज से ही अपने कपड़े इकट्ठा करके रखना शुरू कर दें। अपने दोस्तों और जानने वालों से भी यह जानकारी साझा करें। आपका एक कदम किसी की ज़िंदगी में ढ़ेरों खुशियाँ भर सकता है!

संपादन- अर्चना गुप्ता

मूल लेख: अंगारिका गोगोई


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

Keywords: kapde daan karen, kapdo ka daan, Cloth donation, Cloths, Cloth donation drive, kahan kar skte h kapde daan 

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है. निशा की कविताएँ आप https://kahakasha.blogspot.com/ पर पढ़ सकते हैं!

पान की पीक से पटी दीवारों को हर रविवार साफ़ कर, खूबसूरत कलाकृतियाँ उकेरती है यह टीम!

सुबह 4 बजे उठकर सब्जी बेचनेवाली ललिता बन गई हैं एरोनॉटिकल इंजीनियरिंग की स्टेट टॉपर!