15 अगस्त 1947 को आजादी मिलने के साथ-साथ देश का विभाजन भी हुआ। बरसो से भाई-भाई की तरह हिन्दुस्तान में रह रहे हिन्दू और मुसलमानों के दो टुकड़े करने की साजिश रची गयी और हिन्दुस्तान, भारत और पकिस्तान में बाँट दिया गया। पर भारत पर इस साजिश का असर नहीं पड़ा और आज भी हम सर्वधर्म समभाव की भावना लेकर भाईचारे के साथ जीते है।

फिर भी अक्सर ये सवाल उठता है कि एक हिन्दुस्तानी मुसलमान कितना हिन्दुस्तानी है? क्या वो पहले मुसलमान है या पहले हिन्दुस्तानी? इसी सवाल का जवाब कोम्युन के मंच पर हुसैन हैदरी ने दिया है।

आईये सुनते है हुसैन हैदरी का ये रौंगटे खड़े कर देने वाला जवाब –

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें [email protected] पर लिखे, या Facebook और Twitter (@thebetterindia) पर संपर्क करे।

शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published.