Search Icon
Nav Arrow
स्त्रोत: द इंडियन एक्सप्रेस

जानिये असम में उगाये जाने वाले इस चावल के बारे में, जिसे आप बिना पकाए खा सकते हैं!

स्वदेशी बोका चाउल/चावल (ओरीजा सातिवा) या असमिया मुलायम चावल, असम की नयी प्राकृतिक उपज है जिसे जीआई (भौगोलिक संकेत) टैग के साथ पंजीकृत किया गया है।

जीआई टैग उन उत्पादों को दिया जाता है जिनकी किसी विशिष्ट भौगोलिक क्षेत्र में उत्पत्ति हो। और उस उत्पत्ति के कारण विशेष गुण व प्रतिष्ठा हो।

इस चावल की खेती ज्यादातर असम के नलबारी, बारपेटा, गोलपाड़ा, बक्सा, कामरूप, धुबरी, कोकराझर और दररंग जिलों में की जाती है। यह सर्दियों का चावल या फिर सली है, जिसे जून के तीसरे या चौथे हफ्ते से बोया जाता है। इस चावल का इतिहास 17वीं सदी से जुड़ा है। 17 वीं शताब्दी में, यह मुगल सेना से लड़ने वाले अहोम सैनिकों का मुख्य राशन हुआ करता था।

Advertisement

इस चावल की प्रजाति बहुत अनोखी है क्योंकि इस चावल को पकाने के लिए आपको किसी ईंधन की जरूरत नहीं है। जी हाँ, आप इसे बस सामान्य तापमान पर एक घंटे तक पानी में भिगो दीजिये और यह बनकर तैयार हो जायेगा। इसकी ठंडी प्रवृत्ति के कारण इस चावल को गर्मियों में खाया जाता है।

मुगा रेशम, जोहा चावल और तेजपुर लीची के बाद जीआई के रूप में पंजीकृत होने के बाद यह एकमात्र उत्पाद है।

नलबारी स्थित लोटस प्रोग्रेसिव सेंटर (एलपीसी) एनजीओ ने साल 2016 में इस के जीआई टैग के लिए आवेदन किया था। इसके अलावा पर्यावरण शिक्षा केंद्र (सीईई) भी इसका आवेदक था।

Advertisement

एलपीसी के कृषि विशेषज्ञ और कॉर्डिनेटर हेमंत बैश्य ने बताया, “हमें सोमवार को ही इस बारे में पता चला। हम सब बहुत खुश हैं क्योंकि यह चार सालों की मेहनत का परिणाम है।”

इस चावल को ज्यादातर दही, गुड़, दूध, चीनी या अन्य वस्तुओं के साथ पारंपरिक व्यंजन बनाने के लिए उपयोग किया जाता है।


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर भेज सकते हैं।

 

Advertisement

close-icon
_tbi-social-media__share-icon