Search Icon
Nav Arrow
UPSC Coaching center, study ghat

Video: पटना के गंगा घाट पर बैठ UPSC की तैयारी कर रहे 3500 छात्र, जिन्हें देख आप भी कहेंगे, शाबाश!

जी तोड़ मेहनत और ढेरों मुश्किलों को पार करने के बाद, छात्र UPSC की परीक्षा पास कर पाते हैं। परिश्रम, त्याग और संघर्ष की ऐसी ढेरों कहानियों को खुद में समेटे, पटना के गंगा घाट पर ‘Study Ghat’ नाम की एक अनोखी क्लास चलती है।

जी तोड़ मेहनत और ढेरों मुश्किलों को पार करने के बाद, छात्र UPSC की परीक्षा पास कर पाते हैं। परिश्रम, त्याग और संघर्ष की ऐसी ढेरों कहानियों को खुद में समेटे, पटना के गंगा घाट पर ‘Study Ghat’ नाम की एक अनोखी क्लास (UPSC Coaching) चलती है।

‘Study Ghat’ हर रोज़ करीब 3500 छात्रों को मुफ्त में पढ़ा रहा है। आपने देखा ही होगा कि UPSC क्लासेज़ की फीस आज आसमान छू रही हैं। ऐसे में आर्थिक तौर पर कमज़ोर परिवारों से आने वाले बच्चों को अक्सर अच्छी ट्रेनिंग नहीं मिल पाती है।

ऐसे में ‘Study Ghat’ इन बच्चों की मदद के लिए आगे आया है। इन स्टूडेंट्स के टीचर व पूर्व आईएएस अधिकारी अरुण कुमार ने द बेटर इंडिया से बात करते हुए बताया, “हमारा मुख्य ध्येय यही है कि शिक्षा का एक माहौल बने, ताकि लोग यहाँ आपस में बैठें और जो बच्चे हैं उनको गाइडेंस मिले।”

Advertisement

कैसे हुई इस क्लास (UPSC Coaching) की शुरुआत?

बिहार के अरुण कुमार ने इसकी शुरुआत करने का फैसला तब किया, जब एक दिन उनकी पत्नी ने इस घाट पर बच्चों को पढ़ते देखा। 

यहाँ रोज़ सूबह 6 से 7:30 तक क्लास ली जाती है और बाकी वक़्त भी स्टूडेंट्स यहाँ बैठकर पढ़ते हैं। साथ ही यहाँ इन बच्चों की प्रिलिम परीक्षा भी ली जाती है।

ज़फर अली नाम के एक छात्र ने बताया, “मैंने UPSC कोचिंग की बहुत तलाश की, लेकिन यहाँ कोई कोचिंग नहीं मिली। फिर जब यहाँ क्लास देखी, तो बहुत अच्छा लगा। सर बहुत अच्छा पढ़ाते हैं, ख़ासकर न्यूज़ पेपर एनालिसिस तो बहुत ही अच्छा होता है। कोई भी टॉपिक हो, कहीं से भी हो, आप सर से पूछ सकते हैं, सर उसे समझाते हैं।”

Advertisement

अरुण कुमार की यह पहल आज पूरे पटना में काफी हिट है और उन स्टूडेंट्स के लिए एक वरदान है, जो महंगे कोचिंग क्लास अफ़्फोर्ड नहीं कर पाते। यहां से पढ़े कई छात्र UPSC में पास भी हुए है।

यह भी पढ़ेंः 22 की उम्र में पास की UPSC परीक्षा, जानें IPS के माता-पिता का वह एक कदम जिसने दिलाई सफलता

Advertisement

close-icon
_tbi-social-media__share-icon