Search Icon
Nav Arrow

क्या आपका विश्वास सरकारी अधिकारीयों से उठ चूका है? तो आपको हरदोई के डी.एम और इस 6 साल के बच्चे की कहानी ज़रूर पढ़नी चाहिए!

देश में पिछले कुछ दिनों से निराशा और नाउम्मीदी का माहौल है। कठुआ, उन्नाव और अब एटाह में घटी बच्चियों के बलात्कार की घटनाओं ने इंसानियत पर से विश्वास उठा दिया है।  साथ में कठुआ में हुए दुराचार में पुलिस अधिकारियों की मिली-भगत की ख़बर की वजह से आम भारतीय नागरिको का सरकारी अधिकारीयों पर से भी भरोसा उठ गया है।  पर ‘द बेटर इंडिया’ में हम हमेशा आपको भारत की वो तस्वीर दिखाते है जिसे मिडिया अक्सर नज़रंदाज़ कर देता है।  आज भी हम आपको एक ऐसे सरकारी अधिकारी के बारे में बताएँगे जिनके बारे में सुनकर आप एक बार फिर भारत के बेहतर भविष्य की उम्मीद कर पाएंगे!

यह अधिकारी है उत्तर प्रदेश के हरदोई जिले के डी.एम (जिलाधिकारी ) पुलकित खरे।  डी.एम साहब के कार्यालय में इसी महीने की 12 तारीख़ को एक नन्हा अजूबा आया, जिसने उन्हें इतना प्रभावित किया कि खरे साहब ने उस बच्चे की आगे की पढ़ाई का पूरा ज़िम्मा अपने सर ले लिया।

यह बच्चा था भानु, जो कि एक रिक्शा-चालक का 6 साल का बेटा है। भानु अपने गाँव के सरकारी स्कूल में पढ़ता है और आज तक कभी गाँव से बाहर नहीं गया।  उसके पिता केवल दूसरी तक पढ़े हैं पर अपने बेटे को बहुत आगे तक पढ़ाना चाहते हैं।

Advertisement

इस बच्चे के ज्ञान के कायल डीएम साहब तब हुए जब उसने 13,17,23,27,33,37 के पहाड़े एक ही सांस में बोल और लिख डाले।

Hardoi Dm

इसके बाद डी.एम साहब ने उसकी पढ़ाई का पूरा खर्च उठाने की ठान ली।

Advertisement

इस प्रेरणात्मक घटना को डी.एम पुलकित खरे ने अपने फेसबुक के पेज पर साझा किया और लिखा –

“कुछ दिन मेरे खाते में भी ऐसे होते हैं,जब सर्विस की कुछ मजबूरियाँ परेशान करती हैं,हैरान करती हैं और घुटन की कगार पर ले जाती हैं।

कल कुछ ऐसे ही पल थे……पर…..

Advertisement

आज फिर कुछ ऐसा हुआ…….

माननीय गवर्नर महोदय के कार्यक्रम से थका जब मैं लौटा,तो एक प्रधान जी ने 2 मिनट के समय की मांग की,किसी से मिलवाना चाहते थे वो,व्यस्तता के कारण उन्हें शाम को आने को कहा। जिद्दी प्रधान जी आ भी पहुँचे शाम को,कुछ झुंझलाहट से उसे दिन भर की थकान के बाद भी बुलाया।क्या पता था कि वो मेरे कार्यकाल की अब तक की सबसे मीठी मुलाक़ात करायेंगे….

6 साल का वो बच्चा,कुछ डरा,कुछ सहमा,अपने पिता की उंगली थामे,प्रधान जी के साथ ऑफिस में मेरे पहुंचा।

Advertisement

जब उसके पिताजी रिक्शा चलाने जाते हैं तो वो सरकारी प्राथमिक पाठशाला में शिक्षा के पहिये बढ़ाता है।

6 साल की जादू की पुड़िया ने फिर दिखाया ऐसा धमाल,दंग था मैं देखकर पहाड़ों(Tables) का अद्भुत कमाल।
मैं पूछता गया,वो सुनाता गया। देखते-देखते उसने सुनाकर लिख डाले 13,17,23,27,33,37 के पहाड़े,बिना रुके,बिना सोचे।

फिर गिनतियाँ और ABCD.

Advertisement

एक बच्चा जो कभी अपने गाँव से बाहर नहीं गया।
ललक दिखी शिक्षा की उसकी आँखों में
एक आस दिखी,तोड़ नहीं सकता जिसे।

सलाम है उन प्रधान जी को,जो जरिया बने।
सलाम है उस पिता को,जो स्वयं दूसरी तक पढ़ा है,पर बच्चे को रोज पढ़ाता है,उस लौ को रोज़ जलाता है।

आज गवर्नर, दो MLA,दो बड़े अधिकारीयों से मुलाकात हुयी, कुछ बात हुयी,क्या बात हुयी,शायद भूल जाऊं कुछ महीनों में।
पर भानू से ये मुलाकात,है ईश्वर की सौगात।

Advertisement

अब भानू की शिक्षा की ज़िम्मेदारी लेने का ठाना है, ईश्वर भानू और मुझे शक्ति दे।

हाँ, खराब दिन जरूर आते हैं,पर इस सर्विस के कारण उम्मीदों को सहारा दे पाने का जरिया बनना,उसकी इनायत नहीं तो और क्या है…..

इतनी शक्ति हमें देना दाता…..”

close-icon
_tbi-social-media__share-icon