एक चम्मच इतिहास ‘दही वड़ा’ का!

मुगलों और उनकी लाइफस्टाइल ने हमारे खान-पान पर गहरा असर छोड़ा। ऐसा माना जाता है कि 18वीं शताब्दी में मुगल खानसामों ने पाचन में सुधार के लिए दही, जड़ी-बूटियों और मसालों का इस्तेमाल करके मुगल रसोई में दही वड़े को तैयार किया था। लेकिन कहानियां और भी हैं.. आइए जानते हैं इस चटपटे व्यंजन का खट्टा-मीठा इतिहास।

होली के मौके पर गुजिया के बाद, जिस डिश का नाम आता है वह है दही वड़ा या दही भल्ला। गाढ़ी दही में डूबे उड़द के ये वड़े, मुंह में डालते ही घुल जाते हैं। इसका चटपटापन और दही की तासीर दोनों मिलकर ज़ुबान पर स्वाद का संगम कर देते हैं। गर्मी के मौसम का इससे शानदार स्वागत हो भी क्या सकता है! यह दही वड़ा हमारी मनपसंद चाट का ही एक हिस्सा है। 

भारत के दक्षिण क्षेत्र में इसे दही वड़ा कहा जाता है और मेंदू वड़ा की तरह ही इनमें बीच में छेद होता है। वहीं, उत्तर और मध्य भारत में इस वड़े को गोल भजिए के आकार में बनाया जाता है और खट्टी-मीठी चटनी, जिसे सौंठ भी कहते हैं, के साथ और कहीं-कहीं हरी चटनी डालकर खाया जाता है। 

Tasty Dahi Vada
स्वादिष्ट दही वड़ा

मुख्य रूप से उड़द दाल से बने वड़ों को दही में भिगोकर बनाया जाता है, लेकिन बदलते समय के साथ मूंग दाल, ब्रेड, सूजी, स्प्राउट्स और यहां तक कि ओट्स के दही वड़े जैसे कई आधुनिक रूप भी देखने और खाने को मिल जाएंगे। 

जब पहली बार बना दही वड़ा..

मुलायम और टेस्टी दही वड़े का जन्म वैसे तो भारत में हुआ है, लेकिन अब यह डिश पूरे साउथ एशिया में फैल चुकी है। 12वीं सदी के संस्कृत ग्रन्थ मानसोल्लास में ‘क्षीरवटा’ के नाम से दही वड़े का उल्लेख है। इसके अलावा, 500 BC के समय में भी इसके होने के कई सबूत मिलते हैं।

यानी यह एक बहुत ही पुरातन और पारंपरिक भारतीय डिश है। यही कारण है कि इसका इस्तेमाल कई धार्मिक कार्यों में भी किया जाता है। जैसा कि ज़्यादातर चाट जैसे व्यंजनों को मुग़लों के साथ जोड़ा जाता रहा है, वैसे ही कई कहानियों के अनुसार दही वड़े का आविष्कार 18वीं सदी में मुग़ल खानसामों ने किया।

क़िस्सा कुछ ऐसा है कि मुग़लई खाना क्योंकि काफी हैवी होता था, तो उसे पचाने के लिए ऐसे व्यंजनों की ज़रूरत थी, जो सुपाच्य हों। माना जाता है कि यमुना नदी का पानी भारी हुआ करता, पचने में मुश्क़िल था, तो कोशिश यह थी कि बादशाहों और बेगमों के खाने में पानी की जगह दही का इस्तेमाल किया जाए। 

कई नामों से लोकप्रिय है चटपटा दही वड़ा

दही वड़ा लगभग पूरे देश में किसी न किसी अवसर पर हर घर में बनाया जाता है और शौक़ से खाया जाता है, तो ज़ाहिर है कि हर कोने की अलग-अलग भाषा और बोली के हिसाब से इसके कई नाम भी होंगे। मराठी में इसे दही वड़े, पंजाबी में दही भल्ला, तमिल में थयरी वडै और उड़ीसा-बंगाल में दोई बोरा कहते हैं।

भोजपुर इलाके में यह ‘फुलौरा’ के नाम से मशहूर है। चाट के ठेलों पर मिलने वाली दही-पापड़ी में भी भल्ला यानि वड़ा का ही बेस होता है। आज हमारे देश में कई ऐसे रेस्टोरेंट और चाट कॉर्नर हैं, जो सिर्फ़ अपने दही वड़े के स्वाद के लिए लोगों के बीच काफ़ी प्रसिद्ध हैं। 

संपादन- अर्चना दुबे

यह भी पढ़ें- एक चम्मच इतिहास ‘आलू’ का!

We at The Better India want to showcase everything that is working in this country. By using the power of constructive journalism, we want to change India – one story at a time. If you read us, like us and want this positive movement to grow, then do consider supporting us via the following buttons:

Let us know how you felt

  • love
  • like
  • inspired
  • support
  • appreciate

We at The Better India want to showcase everything that is working in this country. By using the power of constructive journalism, we want to change India – one story at a time. If you read us, like us and want this positive movement to grow, then do consider supporting us via the following buttons:

Let us know how you felt

  • love
  • like
  • inspired
  • support
  • appreciate
X