दिल्ली के इस उपेक्षित रेलवे स्टेशन को कैनवास की तरह सजा रहे है ये कलाकार !

उत्तर रेलवे ने स्टेशन को स्वच्छ एवं सुसज्जित करने के अपने प्रयास को और मज़बूत करते हुए, दिल्ली स्ट्रीट आर्ट ग्रुप के कलाकारों से संपर्क कर नरेला स्टेशन को एक नया रूप दिया। दिल्ली स्ट्रीट आर्ट, फोटोग्राफर योगेश सैनी द्वारा आरम्भ की गयी, एक ऐसी संस्था है जो देश में कला को बढ़ावा दे रही है। अलग अलग जगह के कलाकारों की मदद से इसे आगे बढाया जा रहा है।

त्तर रेलवे ने स्टेशन को स्वच्छ एवं सुसज्जित करने के अपने प्रयास को और मज़बूत करते हुए, दिल्ली स्ट्रीट आर्ट ग्रुप के कलाकारों से संपर्क कर नरेला स्टेशन को एक नया रूप दिया। दिल्ली स्ट्रीट आर्ट, फोटोग्राफर योगेश सैनी द्वारा आरम्भ की गयी, एक ऐसी संस्था है जो देश में कला को बढ़ावा दे रही है। अलग अलग जगह के कलाकारों की मदद से इसे आगे बढाया जा रहा है।

नयी दिल्ली स्टेशन से 42 की मी की दूरी पर स्थित नरेला स्टेशन बड़ी बुरी अवस्था में था। इस स्टेशन का अधिकतर क्षेत्र स्टोर के लिए उपयोग किया जाता था।

योगेश बताते हैं, ” इस स्टेशन का अपना ही इतिहास है जिसे बचाना बेहद आवश्यक है। स्टेशन की मूल इमारत सन 1890 में बनी थी। 7 कलाकारों के समूह ने इस स्टेशन के अलग अलग हिस्सों पर काम किया है। “

दिल्ली स्ट्रीट आर्ट के मूल कलाकार और डिज़ाइनर योगेश ने इसे 2 साल पहले तब शुरू किया था जब वे कुछ दिन विदेश में बिता कर आये थे। वे अपने देश को स्वच्छ बनाने के लिए कुछ करना चाहते थे। लोधी गार्डन में पड़े कूड़ेदान को आकर्षक रंगों से पेंट कर उन्होंने इस प्रोजेक्ट की शुरुआत की। उनकी सोच थी कि ऐसा कर लोगो का ध्यान इन कुडेदानो पर जाएगा जिस से इसका इस्तेमाल करना लोगो के लिए सहज हो जाएगा।  आज की तारीख में यह ग्रुप दिल्ली के अलावा अन्य राज्यों में भी अपनी सेवा प्रदान करता है।

आइये इनके कार्य पर एक नज़र डालते हैं :

Narela2

Narela3

Narela4

Narela5

Narela6

Narela7

Narela8

Narela10

Narela11

Narela12

Narela14

Narela15

image (1)

image (2)

image

यदि आपको ये कहानी पसंद आई हो या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें contact@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter (@thebetterindia) पर संपर्क करे।

We at The Better India want to showcase everything that is working in this country. By using the power of constructive journalism, we want to change India – one story at a time. If you read us, like us and want this positive movement to grow, then do consider supporting us via the following buttons.

Please read these FAQs before contributing.

X