in

पिछले 26 सालों से गरीब और बेसहारा मरीजों की देखभाल कर रहे हैं पटना के गुरमीत सिंह!

टना के चिरायतंद इलाके में रेडीमेड कपड़ों की दुकान के मालिक गुरमीत सिंह पटना मेडिकल कॉलेज और अस्पताल (पीएमसीएच) के ग़रीब और बेसहारा मरीजों के लिए किसी मसीहा से कम नहीं हैं।

हर रात लगभग 9:00 बजे गुरमीत सिंह अस्पताल के ‘लावारिस वार्ड’ (बेसहारा मरीजों के लिए वार्ड) का दौरा करते हैं और साथ ही, इन सभी मरीजों के लिए खाना लाते हैं। यह सारा खाना वे अपनी जेब से पैसे खर्च करके खरीदते हैं। वे इन सभी मरीजों को खाना खिलाते हैं और उनका हाल-चाल पूछते हैं।

यदि कोई दर्द या तकलीफ़ में हो तो तुरंत डॉक्टरों को इत्तिला करते हैं। इतना ही नहीं बहुत बार जरूरत पड़ने पर गुरमीत इन मरीजों के लिए दवाइयाँ भी खरीद कर लाते हैं।

सभी मरीजों को खाना खिलाकर और फिर खुद उनके बर्तन साफ़ करने के बाद ही गुरमीत अस्पताल से घर जाते हैं।

एक मरीज को खाना खिलाते हए गुरमीत सिंह

60 की उम्र पार कर चुके गुरमीत पिछले लगभग तीन दशकों से बिना किसीको बताये चुप-चाप यह नेक काम करते आ रहें हैं। वे कहते हैं कि वे अपनी संतुष्टि और ख़ुशी के लिए यह करते हैं।

बहुत से मरीजों के लिए गुरमीत सिंह द्वारा लाया हुआ खाना ही उनका पूरे दिन का पहला निवाला होता है। वार्ड में एक मरीज़ ने बताया, “यदि सरदारजी हर रात खाना और दवा नहीं लाते हमारे लिए, तो हम में से कई लोग अब तक मर चुके होते।”

एक 70 वर्षीय मरीज, कमला देवी ने कहा कि जब से उनके बेटे ने उन्हें घर से निकाला है, तब से इस अस्पताल में ‘सरदार जी और उनका खाना’ ही ज़िन्दगी के अंतिम दिनों में उनकी उम्मीद हैं। कमला देवी के पैर में गहरी चोट है और इसीलिए वे अस्पताल में हैं।

Promotion
Banner
मरीजों से हालचाल पूछते गुरमीत

सिर्फ़ खाना ही नहीं, गुरमीत इतने सालों में अनगिनत बार रक्तदान भी कर चुके हैं ताकि लोगों की जान बचायी जा सके। पर अभी डॉक्टरों ने उन्हें उनकी बढ़ती उम्र के चलते रक्तदान करने से मना किया है। ऐसे में गुरमीत के बच्चे और रिश्तेदार नियमित रूप से रक्तदान करते हैं।

गुरमीत को समाज की इस निःस्वार्थ सेवा के लिए साल 2016 में यूके-स्थित एक सिख संगठन ‘द सिख डायरेक्टरी’ ने ‘वर्ल्ड सिख अवॉर्ड’ से नवाज़ा

गुरमीत सिंह

गुरमीत से प्रेरित होकर और दो लोगों ने निःस्वार्थ सेवा शुरू की है और अब वे भी इन बेसहारा लोगों के लिए खाना लाते हैं। उनकी यह सेवा सिख धर्म के दसवंद की सीख से प्रेरित है जिसके अनुसार सिख धर्म का पालन करने वाले लोगों को अपनी कमाई का दसवा हिस्सा लोगों की भलाई के लिए देना होता है।

मूल लेख: रिनचेन नोरबू वांगचुक

( संपादन – मानबी कटोच )


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर भेज सकते हैं।

Promotion
Banner

देश में हो रही हर अच्छी ख़बर को द बेटर इंडिया आप तक पहुँचाना चाहता है। सकारात्मक पत्रकारिता के ज़रिए हम भारत को बेहतर बनाना चाहते हैं, जो आपके साथ के बिना मुमकिन नहीं है। यदि आप द बेटर इंडिया पर छपी इन अच्छी ख़बरों को पढ़ते हैं, पसंद करते हैं और इन्हें पढ़कर अपने देश पर गर्व महसूस करते हैं, तो इस मुहिम को आगे बढ़ाने में हमारा साथ दें। नीचे दिए बटन पर क्लिक करें -

₹   999 ₹   2999

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है.

उत्तर-प्रदेश: आइएएस अफ़सर ने शुरू किया ‘विद्यादान अभियान’, लगभग 700 नागरिक आये स्वयंसेवा के लिए आगे!

“बड़े ‘परफेक्ट’ घर को छोटे-से कमरे के लिए छोड़ा… पर अब मैं आज़ाद हूँ!”