Search Icon
Nav Arrow
Seed to sow in September month

सितम्बर के महीने में लगाएं ये बीज और ठंड में खाएं घर की ताज़ी सब्जियां

मौसम के अनुसार सितम्बर के महीने में कौनसी सब्जियों के बीज बोने चाहिए, चलिए जानें गार्डनिंग एक्सपर्ट से।

Advertisement

सभी सब्जियों की अपनी अलग प्रकृति और ख़ासियत होती है। इन्हें उगाने और कटाई का समय भी अलग-अलग होता है। कुछ सब्जियां ठंड के मौसम में अच्छी उगती हैं, तो कुछ गर्मियों में। ऐसे में, अगर पौधों को उनकी प्रकृति के हिसाब से लगाया जाए, तो उनका स्वाद और उपज दोनों अच्छे होते हैं। होम गार्डन में भी आपको मौसम के हिसाब से सब्जियां लगानी चाहिए।   

फ़िलहाल गर्मियों के मौसम की सभी सब्जियों की कटाई हो गई है और कुछ महीनों में सर्दियों का मौसम आ जाएगा। ऐसे में टेरेस गार्डन से जुड़े लोग अभी से ठंड के मौसम में उगने वाली सब्जियों की तैयारी में लग जाते हैं।  इस महीने में बीज बोकर पौधे तैयार किए जाते हैं और फिर उन्हें बड़े गमलों और ग्रो बैग्स में लगाया जाता है। तकरीबन दो-तीन महीने बाद, सर्दियों में आपको अपने गार्डन से अच्छी उपज मिलने लगती है।   

सूरत में होम गार्डनिंग और टेरेस गार्डन वर्कशॉप ऑर्गेनाइज़ करने वाली, अनुपमा देसाई से जानें कि कौनसी सब्जियां हैं, जिसके बीजों को सितम्बर के महीने में लगाना चाहिए।   

Anupama Desai Gardening expert

अनुपमा ने बताया, “सामान्य तौर पर सितम्बर से मौसम में नमी होने लगती है और तापमान भी कम होता है। इस तापमान में कई फूलों और सब्जियों के बीज लगाए जा सकते हैं। हालांकि, सभी जगहों का अलग-अलग तापमान होता है, उसी के अनुसार बीज रोपने चाहिए। जैसे मटर के पौधे ठंड में ही उगते हैं, लेकिन गुजरात का तापमान इसके लिए सही नहीं,  इसलिए हम इसे नहीं उगाते। लेकिन यहां गाजर, फूलगोभी, शिमला मिर्च, पत्तागोभी, ब्रॉकली, हरी मिर्च, मूली, बैंगन, टमाटर आदि के बीज को सितम्बर में रोपने से आपको नवम्बर, दिसम्बर तक आराम से उपज मिल जाएगी।”  

 आज अनुपमा हमें फूलगोभी, गाजर, शिमला मिर्च, और टमाटर के बीज रोपने की विधि बता रही हैं।  

 फूलगोभी का पौधा लगाना 

फूलगोभी और ब्रॉकली दोनों ही समान तरीके से लगाई जा सकती हैं, इसके लिए आपको बाजार से बीज लाने होंगे। अगर आपके पास घर पर बीज मौजूद हैं, तो इसे ट्राइकोडर्मा पाउडर में या हल्दी के पानी की कोटिंग देकर तैयार कर सकते हैं। बीज से फूलगोभी की अलग-अलग वराइटी आप लगा सकते हैं। 

cauliflower plant from seed
  • सबसे पहले एक मध्यम आकर के गमले में या सैपलिंग ट्रे में बीज को अंकुरित करें।  
  • चार से पांच पत्ते निकलते ही, इसे मिट्टी सहित या अंकुरित पौधे को बड़े गमले में डाल दें। 
  • आप बड़े ग्रो बैग, गमले या पुराने टब में, पॉटिंग मिक्स डालकर इस्तेमाल कर सकते हैं। 
  • पॉटिंग मिक्स के लिए, आप 50%सामान्य मिट्टी और बाकि 50% में कोकोपीट और कम्पोस्ट का मिश्रण ले सकते हैं। 
  • नियमित तौर पर पानी देते रहने से लगभग एक महीने में आपके पौध तैयार हो जाएंगे। 
  • तक़रीबन 45 दिनों में इसमें फूल निकलने लगेंगे। 
  • अनुपमा बताती हैं कि फूल आने के बाद, आपको सही खाद का ध्यान रखना होगा ताकि समय पर इसमें फल भी निकलने लगें। 
  • इस तरह सही देखभाल के साथ दो-ढाई महीने में गोभी की उपज तैयार हो जाएगी।  

नोट- कीड़े आदि से बचाव के लिए आप जैविक कीटनाशक, नीम की खली या  गाय के दूध का छिड़काव करते रहें। 

गाजर का पौधा लगाना 

गाजर ठण्ड में खाई जाने वाली सबसे पसंदीदा सब्जी है। घर पर गाजर उगाने के लिए, आप इनके बीजों को सितम्बर के महीने में ही लगाएं। ज्यादा गर्मी में गाजर के पौधे अच्छे नहीं उगते, इसलिए जैसे ही मौसम थोड़ा ठंडा हो जाए,  बीज रोप देने चाहिए। 

carrot plant from seed

चूँकि यह एक कंद है, इसलिए इसके बीज को सीधे उसी गमले में लगाएं जहां आपको इसे उगाना है। गाजर के बीज साइज में काफी छोटे होते हैं। इसलिए इसे लगते समय ध्यान दें कि ऊपर से ज्यादा मिट्टी या पानी न डालें। 

इसे बड़े गोल गमलों या कंटेनर्स में भी उगाया जा सकता है। 18 इंच की चौड़ाई वाले या कम से कम 1 फुट की गहराई वाले कंटेनर का उपयोग करें। इन्हें ग्रो बैग में भी लगाया जा सकता है। 

Advertisement
  • जिस कंटेनर में इसे लगाना है, उसे पॉटिंग मिक्स डालकर तैयार करें। 
  • पॉटिंग मिक्स के लिए आप 50% सामान्य मिट्टी और बाकि 50% में कोकोपीट और कम्पोस्ट का मिश्रण ले सकते हैं। 
  • अपनी ऊंगली की मदद से गढ्ढे करके, इनके बीजों को थोड़ी-थोड़ी दूरी पर लगाएं।  
  • शुरुआत में इसमें हल्का-हल्का पानी डालें, जब तक कि बीज अच्छे से अंकुरित न हो जाएं।
  • इस मौसम में धूप ज्यादा तेज नहीं होती, इसलिए इसे सीधी सूरज की रोशनी में रखा जा सकता है।  
  • तक़रीबन 45 दिनों बाद इसके पौधे अच्छे, बड़े हो जाएंगे। आप जैसी जरूरत है, उस हिसाब से इसे निकाल सकते हैं। 

टमाटर का पौधा लगाना 

टमाटर के बीज आपको घर से मिल जाएंगे। इसे आप सुखाकर हल्दी की कोटिंग करके लगा सकते हैं। अगर आप बाहर से बीज ला रहे  हैं, तो ध्यान दें कि बीज ज्यादा पुराने न हों। आप टमाटर के छोटे-छोटे पौधे बोतल या छोटे कंटेनर में भी लगा सकते हैं। लेकिन अगर आप बड़ा पौधा और ज्यादा उपज चाहते हैं, तो इसे इस तरह से लगाएं- 

Tomato plant from seed
  • सबसे पहले मिट्टी भरकर एक बड़ा ग्रो बैग या गमला तैयार करें। आप गाजर और फूलगोभी वाली पॉटिंग मिक्स ही इस्तेमाल कर सकते हैं। 
  • इसके बाद इसके सैपलिंग तैयार करें। 
  • एक इंच तक मिट्टी डालकर गमले को भरें।
  • फिर टमाटर के बीज डालें, उसके बाद ऊपर से मिट्टी डालकर बीजों को ढंक दें।  
  • कुछ दिनों तक थोड़े-थोड़े पानी का छिड़काव करते रहें। 
  • तकरीबन 10 दिनों के बाद आपको अंकुर आते दिखेंगे। 
  • जब पौधे की लंबाई लगभग एक इंच हो जाए, तब पौधे को गमले में प्लांट कर दें। 
  • एक गमले में केवल एक पौधा लगाएं। 
  • अगर गमले में एक से ज़्यादा पौधे होंगे, तो टमाटरों का उत्पादन कम होगा। 

शिमला मिर्च का पौधा लगाना 

Capsicum plant from seeds

शिमला मिर्च या मिर्च का पौधा आप आराम से घर के बीजों से ही लगा सकते हैं। आप बाजार से लाई हुई शिमला मिर्च के बीज को हल्दी के पानी की कोटिंग करके, धूप में सुखाकर बीज तैयार करें। पॉटिंग मिक्स और बीज रोपने का तरीका टमाटर के पौधे जैसा ही है। लेकिन अनुपमा बताती हैं कि किसी भी मिर्च के बीज को अंकुरित होने में थोड़ा ज्यादा समय लगता है। वहीं, इसके पौधे में पानी की जरूरत कम होती है, तो आप एक दिन छोड़कर पानी दें। मिर्च के पौधे में पत्तियां पीली होने लगती हैं। जो सामान्य रूप से फंगस के कारण होता है। इसके लिए आप पानी का ध्यान रखें और साथ ही शाम के समय दूध व पानी के मिश्रण का छिड़काव करते रहें। 

इन सभी पौधों  को आप अच्छी सूरज की रोशनी में रखें। 

तो आप भी इस महीने कुछ एक पौधे जरूर लगाएं। ताकि ठंड आते-आते, आपको घर की ताज़ी सब्जियां खाने को मिलें। ज्यादा जानकारी के लिए आप अनुपमा से यहां 9427111881 संपर्क कर सकते हैं। 

हैप्पी गार्डनिंग!

संपादनः अर्चना दुबे

यह भी पढ़ेंः दिल्ली के बीचों-बीच एक मकान, जहाँ है जंगल जैसा सुकून, बसते हैं पंछी और हंसती है प्रकृति

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें।

Advertisement
close-icon
_tbi-social-media__share-icon