in

पहली बार प्रयाग कुंभ मेला 2019 का हिस्सा बनेगा ‘किन्नर अखाड़ा’!

प्रतीकात्मक तस्वीर

त्तर-प्रदेश की संगमनगरी इलाहाबाद में 15 जनवरी 2019 से गंगा, यमुना व अदृश्य सरस्वती की मिलन स्थली संगम तट पर श्रद्धा व समर्पण का प्रतीक कुंभ मेले की शुरुआत होगी। इस मेले का समापन 4 मार्च, 2019 को होगा।

और पहली बार किन्नर अखाडा लगभग 2, 500 सन्यासी और संतों के साथ इस मेले में अपनी उपस्थिति दर्ज कराएगा। साथ ही यह भी बताया जा रहा है कि इनकी पेशवाई भी निकलेगी।

दरअसल, कुंभ मेला क्षेत्र में अखाड़ों का प्रवेश धूम-धाम से होता है। इसे पेशवाई कहा जाता है। अब तक सिर्फ 13 अखाड़ों को ही अखाड़ा परिषद ने मान्यता दी है और इनकी ही पेशवाई निकलती रही है। इनमें किन्नर अखाड़ा शामिल नहीं है। लेकिन इस बार किन्नर अखाड़े के महामंडलेश्वर लक्ष्मी नारायण त्रिपाठी ने बताया कि किन्नर अखाड़ा इस बार कुम्भ मेले में पहुंच कर सुप्रीम कोर्ट द्वारा लिए गए फैसले के बारे में जागरूकता फैलाने का काम करेगा।

साथ ही, आम लोगों को किन्नर समाज के बारे में जागरूक किया जायेगा। “चूंकि देश के विभिन्न हिस्सों से ट्रांसजेंडर लोग कुंभ के दौरान आएंगे, हमारा उद्देश्य इस समुदाय को एकजुट करना है, उनके मुद्दों को हल करना, उनके बारे में गलत धारणाओं को खत्म करना, लोगों को उनके अधिकारों और सुप्रीम कोर्ट के फैसले (धारा 377 को रद्द करना) के बारे में सूचित करना होगा,” उन्होंने कहा

उन्होंने आगे बताया कि वे केएमए के अधिकारीयों से बातचीत कर रहे हैं ताकि उन्हें कुम्भ के मेले में आखाड़े के लिए पर्याप्त जगह मिल सके और जल्द ही वे इस संबंध में इलाहाबाद डिवीजन के कमिश्नर से मिलेंगे। हालांकि, अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद इसके पक्ष में नहीं है। उन्होंने किसी भी अन्य 14वें अखाड़े को परिषद में शामिल करने से मना कर दिया है।

कुंभ मेला अधिकारी विजय किरण आनंद ने कहा कि केएमए नवंबर-दिसंबर से शिविर स्थापित करने के लिए भूमि आवंटित करने की प्रक्रिया शुरू कर देगा। यदि किन्नर अखाड़ा के सदस्य अधिकारियों से संपर्क करते हैं, तो उनके अनुरोध पर सकारत्मक रूप से विचार किया जायेगा।


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर भेज सकते हैं।

शेयर करे

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है. निशा की कविताएँ आप https://kahakasha.blogspot.com/ पर पढ़ सकते हैं!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

यदि बच्चा 10वीं क्लास में है तो दिलवाएं ये टेस्ट, मिलेगी पीएचडी तक के लिए स्कॉलरशिप!

जानिए कैसे कर्नाटक में व्हाट्सअप ग्रुप के जरिये डॉक्टर बचा रहे हैं ज़िंदगियाँ!