in ,

डॉक्टर की सूझ-बूझ से बची हवाई जहाज में, दो साल के बच्चे की जान!

जब डॉ गुरु ने सुना कि उन्ही की फ्लाइट में किसी बच्चे को अस्थमा का अटैक आया है, तो उन्होंने जल्दी से एक प्लास्टिक की बोतल का इनहेलर बनाया। इस उपकरण से उस बच्चे को समय पर काफी आराम पहुचा।
धरती से २०० फीट की ऊँचाई पर जब एक दो साल के बच्चे को अस्थमा का दौरा पड़ा, तब उसके माँ बाप के लिए एक चिंता की स्थिति उत्पन्न हो गयी क्यूंकि गलती से उन्होंने उसकी दवाई अपने चेक इन लगेज के साथ रख दी थी।
प्लेन में मौजूद इनहेलर बड़े लोगो के लिए था, जिसे बच्चे को देना संभव नहीं था।

उस बच्चे के लिए ये सफ़र बहोत तकलीफदेह और लम्बा हो जाता अगर उसके साथ मौजूद इस डॉक्टर ने एक इनहेलर बना कर उसकी जान न बचायी होती।

Screen Shot 2015-09-28 at 11.18.15 am
स्पेन से यू एस जा रहे इस विमान में मौजूद डॉक्टर थे, डॉ खुर्शीद गुरु जो न्यू यॉर्क स्थित रोसवैल पार्क कैंसर इंस्टिट्यूट के निदेशक हैं।
जब इन्हें पता चला कि विमान में एक बच्चे को अचानक ही दौरा पड़ा है, तो उन्होने जल्दी से एक प्लास्टिक की बोतल, कप, टेप और ऑक्सीजन टैंक से एक इनहेलर बना डाला।

दरअसल उन्होंने बड़ों के ही इनहेलर को बच्चो के काम में आने वाले निम्बुलैसेर में तब्दील कर दिया। निम्बुलैज़र एक ऐसी मशीन है जो अस्थमा की दवाई को भाप में बदल देती है, जिसे एक मास्क की मदद से बच्चो द्वारा आसानी से लिया जा सकता है।

Screen Shot 2015-09-28 at 11.18.00 am
उन्होंने बड़ो द्वारा उपयोग में लायी जाने वाले इनहेलर को बोतल के मुह में लगा कर दूसरी तरफ से ऑक्सीजन मास्क लगा दिया ताकि बच्चा दोनों को साथ ही ले पाए। बच्चे के लिए इसे और आसान बनाने के लिए डॉ गुरु ने एक कप लिया और उसमे छेद कर दिया। फिर इसे बोतल के ऊपर लगा दिया ताकि बच्चे के मुह और नाक से लगा कर इसे रखा जा सके।

उन्होंने बच्चे के माता पिता से इस कप को बच्चे के मुह पर लगा कर थोड़ी देर रखने को कहा, और आधे घंटे के बाद बच्चे के भीतर ऑक्सीजन की मात्र सामान्य हो गयी।

khurshid1
डॉ गुरु ने कहा कि हर परिवार को इस घटना से सबक लेकर हमेशा अपनी दवाई अपने साथ रखनी चाहिए क्यूंकि ऐसी स्थिति कभी भी और कहीं भी आ सकती है। डॉ. गुरु  ने पहले भी कई  हाई टेक रोबोटों की मदद से रोगियों का इलाज किया है।

All pics: Twitter

शेयर करे

Written by निधि निहार दत्ता

निधि निहार दत्ता राँची के एक कोचिंग सेंटर, 'स्टडी लाइन' की संचालिका रह चुकी है. हिन्दी साहित्य मे उनकी ख़ास रूचि रही है. एक बेहतरीन लेखिका होने के साथ साथ वे एक कुशल गृहणी भी है तथा पाक कला मे भी परिपक्व है.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

नेत्रहीनो के प्रति जागरूकता फैलाने के लिए इस बारह वर्षीय छात्र ने आँखों पर पट्टी बांध कर अपनी परीक्षा दी!

‘हेल्पिंग हैंड’ के ज़रिये ज़रूरतमंदों को मिल रहे है व्हीलचेयर जैसे कई उपकरण सिर्फ १ रूपये में !