in ,

अरुणाचल प्रदेश : देश की रक्षा के लिए सदा तत्पर वायु सेना ने एक बार फिर बचाई कई जानें!

रुणाचल प्रदेश के पूर्व सियांग जिले में सियांग नदी के उफान पर होने की वजह से एक टापू पर 19 लोग फंस गए थे। जिन्हें भारतीय वायु सेना ने सुरक्षित बाहर निकाला।

पूर्व सियांग के जिला आयुक्त तमीयो तटाक ने कहा कि प्रशासन द्वारा ही जिले के जिले के सिल्ले ओयान के तहत आने वाले जामपानी में फंसे लोगों को निकालने का अनुरोध किया गया था।

उन्होंने बताया कि ये लोग असम से है और लगभग 24 घंटे से टापू पर फंसे हुए थे क्योंकि नदी का बहाव तेज होने के कारण इनके लिए अपनी नावों से वापिस आना मुश्किल था। जिला प्रशासन ने पहले ही रेड अलर्ट जारी कर दिया है और साथ ही, लोगों को नहाने, कपड़े धोने आदि कामों के लिए नदी के पास जाने से भी मना किया गया है।

जिला आयुक्त ने बताया कि इस पुरे बचाव अभियान को मुख्यमंत्री पेमा खांडू की निगरानी में किया गया। इसके अलावा स्थानीय लोगों के साथ मिलकर पुलिस व क्षेत्र के एमपी, एमएलए आदि जानवरों को वहां से निकालने में मदद कर रहे हैं।


हालांकि, नदी का बहाव तेज होता जा रहा है पर अभी भी इसका पानी खतरे के निशान से नीचे है। पर बहुत से क्षेत्रों में बाढ़ आने की सम्भावना है, इसलिए पहले से ही सावधानी बरती जा रही है।

जिले के सेरम रामकु गांव में पहले ही 15 परिवार बाढ़ के चलते अपने घर आदि खो चुके हैं। उन्हें अभी सुरक्षित स्थानों पर राहत शिविरों में रखा गया है। इन सभी लोगों को पुनर्वास के लिए एक-एक लाख रूपये देने का भी आश्वासन दिया है।

नदी के आसपास के क्षेत्रों, जैसे जर्कू, पगलिंक, एसएस मिशन, जर्कोंग, बंस्कोटा, बरंग, सिगार, बोर्गुली, सेराम, कोंगकुल, नम्सिंग और मेर में रह रहे लोगों को भी बाढ़ के लिए चेतावनी दी जा रही है।

कवर फोटो

संपादन – मानबी कटोच


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर भेज सकते हैं।

शेयर करे

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है. निशा की कविताएँ आप https://kahakasha.blogspot.com/ पर पढ़ सकते हैं!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

ये ज़ुबाँ हमसे सी नहीं जाती : दुष्यंत कुमार [इंक़लाब की आवाज़ और टूटे हुए साज़ का दर्द भी]

जानिए कैसे राहुल द्रविड़ के साथ ने दिलाया स्वप्ना बर्मन को गोल्ड!