ऑफर सिर्फ पाठकों के लिए: पाएं रू. 200 की अतिरिक्त छूट ' द बेटर होम ' पावरफुल नेचुरल क्लीनर्स पे।अभी खरीदें
X
नानी-नातिन की जोड़ी ने शुरू किया मिठाई बिज़नेस, 8 महीने में 4 लाख रुपए तक पहुंचा रेवेन्यू

नानी-नातिन की जोड़ी ने शुरू किया मिठाई बिज़नेस, 8 महीने में 4 लाख रुपए तक पहुंचा रेवेन्यू

कोलकाता की रहने वाली 65 वर्षीया मंजू देवी पोद्दार और उनकी 21 वर्षीया नातिन, याशी चौधरी ने अगस्त 2020 में अपने मिठाई बिज़नेस, ‘नानीज़ स्पेशल’ की शुरुआत की थी। जिससे उन्हें मात्र आठ महीने में, चार लाख रुपए की कमाई हुई है।

हमारे देश का खान-पान, हमारी संस्कृति का एक अभिन्न अंग है और मिठाइयां इसमें एक खास भूमिका निभाती हैं। मिठाइयों के मामले में, वैसे तो हर इलाके की अपनी एक खासियत होती ही है। लेकिन, कोलकाता की मिठाइयां न सिर्फ भारत में बल्कि विदेशों में भी खासी मशहूर हैं। आज कोलकाता की ही एक महिला उद्यमी से हम आपको मिलवा रहे हैं, जिनके हाथों का स्वाद कोलकाता के बाहर भी पहुँच रहा है। हम बात कर रहे हैं, कोलकाता में रहने वाली 65 वर्षीया मंजू देवी पोद्दार की, जिन्होंने अपने घर से ही मिठाई का बिज़नेस (Homemade Sweets Business) शुरू किया है। 

हमेशा से खाना बनाने और खिलाने की शौकीन, मंजू ने अगस्त 2020 में अपनी 21 वर्षीया नातिन, याशी चौधरी के साथ मिलकर अपने फूड बिज़नेस, ‘नानीज़ स्पेशल’ की शुरुआत की। इसके जरिए, वे ग्राहकों को दस से ज्यादा तरह की मिठाइयां, भुजिया, नमकीन चिवड़ा, कचौड़ी, मटर की पूड़ी आदि उपलब्ध करा रही हैं। उनके बिज़नेस को शुरू हुए मुश्किल से आठ महीने हुए हैं लेकिन, उनके ऑर्डर की संख्या लगातार बढ़ी है। 

द बेटर इंडिया से बात करते हुए याशी ने बताया कि कोरोना महामारी के कारण लगे लॉकडाउन के दौरान, उन्हें अपनी नानी के साथ एक लंबा वक्त बिताने का मौका मिला।

उन्होंने कहना है, “नानी की बनी मिठाइयां घर में सभी को पसंद हैं। मैं पहले भी जब नानी के घर आती थी तो वह हमेशा तरह-तरह की चीजें तैयार रखती थीं। लेकिन, लॉकडाउन में मैंने नानी के साथ पूरा समय बिताया और जब मैं उन्हें मिठाइयां बनाते और सबको खिलाते हुए देखती थी तो मुझे लगता था कि नानी ने कभी अपना बिज़नेस क्यों नहीं शुरू किया? एक दिन बातों-बातों में, मैंने नानी को कहा कि उन्हें अपना फूड बिज़नेस शुरू करना चाहिए। वह एकदम से नहीं मानी लेकिन मेरे कई बार कहने पर, एक बार कोशिश करने के लिए तैयार हो गयीं।” 

पिछले साल, अगस्त में जन्माष्टमी आने से पहले, याशी बिज़नेस शुरू करने की तैयारियां करने लगीं। वह बताती हैं कि वह एक कोशिश करके देखना चाहती थीं इसलिए, बहुत छोटे स्तर पर उन्होंने काम शुरू किया। अपनी मौसी की बेटी के साथ मिलकर उन्होंने ‘नानीज़ स्पेशल’ का एक बेसिक लोगो डिज़ाइन किया। परिवार और दोस्तों के व्हाट्सएप ग्रुप्स में, नानी के बिज़नेस के बारे में बताने के लिए कुछ मैसेज तैयार किए। जिनमें बताया गया था कि नानी अपना काम शुरू कर रही हैं और अगर कोई मिठाइयों का ऑर्डर देना चाहता है तो दे सकता है। 

Homemade Sweets Business
नानी की बनाई मिठाइयां

याशी कहती हैं, “पहली बार में ही जन्माष्टमी के लिए, हमें 40 थाल मिठाइयों के ऑर्डर मिले। एक थाल में चार अलग-अलग तरह की मिठाइयां थीं- मावे की परवल, नारियल चक्की, पेड़ा और अजवाइन चक्की। ये सभी मिठाइयां नानी ने खुद तैयार कीं। फिर हमने सभी मिठाइयों को बहुत अच्छे से पैक करके, लोगों के यहाँ पहुँचाया। पहले ऑर्डर में ही हमें इतनी अच्छी प्रतिक्रिया मिली कि पीछे मुड़ने का तो सवाल ही नहीं था और बस वहीं से शुरू हुआ नानी का यह बिज़नेस।” 

सास ने सिखाया खाना बनाना 

अपने खाना बनाने के शौक के बारे में मंजू बताती हैं कि उनकी शादी मात्र 15 साल की उम्र में हो गयी थी। शादी से पहले, उन्हें खाना बनाना नहीं आता था और शादी के बाद, जब उन्होंने खाना बनाना शुरू किया तो वह खाना अच्छे से नहीं बना पाती थीं। लेकिन, उनकी सास ने उन्हें धीरे-धीरे सब कुछ सिखाया। मंजू को भी खाना बनाने तथा नई-नई रेसिपी सीखने में मजा आने लगा। शादी के दो-तीन साल बाद ही, वह खाना बनाने में एकदम माहिर हो गईं। 

याशी कहती हैं कि नानी के हाथ में न सिर्फ स्वाद है बल्कि वह कम समय में अच्छे से अच्छा काम करने में भी माहिर हैं। उन्हें इस उम्र में भी खाना बनाने में कोई तकलीफ नहीं होती है। अपनी मदद के लिए उन्होंने कभी कोई घरेलू सहायिका भी नहीं रखी। लेकिन, याशी को अपनी नानी के स्वास्थ्य की भी चिंता है। इसलिए, अगर ऑर्डर ज्यादा होते हैं तो वे दोनों, कई बार बाहर से एक-दो लोगों को काम के लिए बुला लेते हैं। हालांकि, मिठाइयां बनाने का सभी काम मंजू खुद करती हैं। फिलहाल, उन्हें हर दिन लगभग 10 ऑर्डर मिल रहे हैं, जो त्यौहारों के मौकों पर बहुत ज्यादा बढ़ जाते हैं। 

Homemade Sweets Business
मिठाई बनाते हुए

दिवाली और मकर संक्रांति के मौके पर, उन्हें न सिर्फ कोलकाता और इसके आसपास के शहरों बल्कि हॉन्ग कॉन्ग और अमेरिका से भी ऑर्डर आए। इसके अलावा, वह बेंगलुरु, जयपुर, अहमदाबाद, दिल्ली, डिब्रूगढ़ जैसी जगहों पर भी अपनी डिशेज भेज रही हैं। हालांकि कोलकाता के बाहर, वह जल्दी खराब न होने वाले स्नैक्स जैसे- भुजिया, मट्ठी, पापड़, अचार आदि ही एयरटाइट कंटेनर में पैक करके भेजती हैं। मिठाइयों के सभी ऑर्डर, वह कोलकाता से ही लेती हैं। पिछले कुछ महीने में ही ‘नानीज़ स्पेशल’ चार लाख रुपए तक की कमाई करने में सफल रहा है। 

कैसे शुरू कर सकते हैं, घर से मिठाइयों का बिज़नेस 

याशी और मंजू ने सिर्फ एक ट्रायल के आधार पर, अपनी शुरुआत की और इसलिए, उन्होंने पहले ऑर्डर लेने पर काम किया और फिर निवेश किया। याशी बताती हैं कि उनका शुरूआती निवेश मात्र 8000 रुपए का था, जिसमें उन्होंने मिठाइयों के लिए पैकेजिंग और रॉ मटीरियल की लागत को कवर किया। पहले ऑर्डर पर उनकी कमाई 3000 रुपए हुई, जो मंजू के जीवन की पहली कमाई थी। वह बताती हैं कि उन्होंने इन पैसों को बहुत संभालकर रखा है और इन्हें वह कभी खर्च नहीं करेंगी। साथ ही, उन्होंने मिठाई का बिज़नेस शुरू करने के लिए कुछ सुझाव भी दिए हैं: 

1. कुछ अलग हों व्यंजन 

याशी कहती हैं कि अगर आप अपना व्यवसाय शुरू करना चाहते हैं तो सबसे पहले इस बात पर ध्यान दें कि ऐसा क्या है, जो बाहर बाजार में नहीं मिलता। अगर आपकी अपनी कोई खास रेसिपी या मिठाई है, जिसका स्वाद एकदम अलग और लोगों को पसंद आने वाला है तो इससे शुरुआत करें। मिठाई के बिज़नेस में आप कुछ भी स्टोर नहीं कर सकते हैं। इसलिए, ऑर्डर के हिसाब से ही काम करें। जैसे हमने पहले ऑर्डर लिए, उसके बाद ही काम शुरू किया। मिठाइयों का स्वाद और उनकी गुणवत्ता सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है। 

2. कम निवेश से करें शुरुआत 

किसी भी बिज़नेस की शुरुआत, कम से कम निवेश से करनी चाहिए ताकि अगर किसी वजह से, यह सफल नहीं भी होता है तो आपका ज्यादा नुकसान न हो। आपको ऑर्डर के हिसाब से काम करना चाहिए और ज्यादातर काम खुद करने की कोशिश करें। अगर आपके ऑर्डर बढ़ रहे हैं तो आप जरूरत के हिसाब से मदद के लिए कोई सहायक रख सकते हैं। लेकिन, कोशिश यही करें कि लागत कम से कम रहे। कमाई बढ़ने पर भी उतना ही निवेश करें, जितनी जरूरत है। जितने समय तक हो सके अपने घर से ही काम करने की कोशिश करें क्योंकि, अगर आप बाहर जगह लेंगे तो इससे आपका खर्च बढ़ेगा। 

3. FSSAI सर्टिफिकेट है जरूरी 

Homemade Sweets Business
ऑनलाइन करें FSSAI रजिस्ट्रेशन

किसी भी फूड बिज़नेस में FSSAI सर्टिफिकेट जरूरी होता है। लेकिन, अगर आप सिर्फ एक ट्रायल कर रहे हैं तो शुरुआत के एक-दो ऑर्डर लेकर, ग्राहकों की प्रतिक्रिया देख लें। इसके बाद ही आगे की योजना बनाए। याशी आगे कहती हैं, “शुरू के कुछ ऑर्डर के बाद, जब हम बिज़नेस को लेकर निश्चिंत हो गए तो हमने सर्टिफिकेशन की प्रक्रिया पूरी की। FSSAI और ब्रांड रजिस्ट्रेशन के लिए ऑनलाइन आवेदन किया जा सकता है और ऐसा करना जरूरी भी है। इसलिए, अगर आप अपने बिज़नेस को आगे बढ़ाने के लिए निश्चिन्त हैं तो आपको सर्टिफिकेशन जरूर करवा लेना चाहिए।” 

4. तय करें मेन्यू, मूल्य और पैकेजिंग 

याशी कहती हैं कि उन्होंने शुरू में उन मिठाइयों को मेन्यू में रखा, जिनमें नानी की विशेषता है। इसके बाद, ग्राहकों की मांग के हिसाब से उन्होंने मेन्यू बढ़ाया। वह आगे बताती हैं कि शुरुआत में, उन्हें ज्यादा समझ नहीं थी इसलिए, उन्होंने मूल्य तय करते समय सिर्फ रॉ मटीरियल और पैकेजिंग को ही ध्यान में रखा। लेकिन, धीरे-धीरे उन्होंने समझा कि इसमें दूसरी चीजें जैसे बिजली, गैस, जगह और हमारी मेहनत का भी मूल्य जुड़ना चाहिए। इसलिए, मूल्य तय करते समय इन सब बातों को ध्यान में रखें और अपने मुनाफे का मार्जिन जोड़ें। शुरुआत से ही ऐसा करना इसलिए सही है क्योंकि, अगर आगे आपका बिज़नेस बढ़ता है और आप कोई कर्मचारी रखते हैं तो आपको उनकी सैलरी भी, अपनी कमाई में से ही निकालनी होगी। 

वह कहती हैं कि मिठाइयों की पैकेजिंग आकर्षक होनी चाहिए, जिसमें मिठाइयां खराब न हों। साथ ही, ग्राहकों की मांग के हिसाब से भी आपको विकल्प रखने चाहिए और आप त्यौहारों के मौकों पर भी पैकेजिंग में बदलाव कर, उन्हें अधिक आकर्षक बना सकते हैं। 

5. मार्केटिंग के टिप्स 

याशी कहती हैं कि व्हाट्सएप, इंस्टाग्राम और फेसबुक जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का अच्छा इस्तेमाल,आप मार्केटिंग के लिए कर सकते हैं। शुरुआत अपने दोस्तों, पड़ोसियों और रिश्तेदारों से करें। व्हाट्सएप ग्रुप्स में अपने बिज़नेस के बारे में बताएं। अपना इंस्टाग्राम और फेसबुक पेज बनाएं और यहाँ पर अपनी मिठाइयों की फोटो और पोस्ट अपलोड करें। फेसबुक पर आप अपने शहर से संबंधित, अलग-अलग ग्रुप्स से भी जुड़ सकते हैं। इसके अलावा, आपके लिए सबसे अच्छी मार्केटिंग, आपके ग्राहक करते हैं।

इसलिए, सबसे ज्यादा जरूरी है कि आपकी मिठाइयों का स्वाद और गुणवत्ता बरकरार रहे। साथ ही, ग्राहकों को हमेशा कुछ न कुछ नया देने की भी कोशिश करें। उनसे फीडबैक लेते रहें ताकि आपको आगे बढ़ने में मदद मिले। 

Homemade Sweets Business
सोशल मीडिया पेज

याशी कहती हैं कि अक्सर ऑर्डर की डिलीवरी में परेशानियां आने लगती हैं। इसलिए, आप अपनी सहूलियत के हिसाब से अपना डिलीवरी सिस्टम तैयार करें। अगर आपके लिए मुमकिन हो तो आप खुद ही, ऑर्डर की डिलीवरी करने की कोशिश करें। अगर ग्राहक, आपके यहाँ से ऑर्डर ले जा सकते हैं तो यह भी एक अच्छा तरीका है। लेकिन, अगर आप डिलीवरी पर निवेश कर रहे हैं तो आपको इसकी लागत भी, अपने मूल्य में जोड़नी चाहिए ताकि आगे परेशानी न बढ़े। 

आप ‘नानीज़ स्पेशल’ के इंस्टाग्राम या फेसबुक पेज पर मिठाई आदि का ऑर्डर कर सकते हैं या उन्हें +91 9830755381 पर कॉल कर सकते हैं। 

संपादन- जी एन झा

यह भी पढ़ें: केला, अमरुद, नींबू जैसे फलों के अचार व जैम बना लाखों में कमा रही है यह 64 वर्षीया महिला

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें।

Homemade Sweets Business, Homemade Sweets Business, Homemade Sweets Business, Homemade Sweets Business, Homemade Sweets Business

निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है.
Let’s be friends :)
सब्सक्राइब करिए और पाइए ये मुफ्त उपहार
  • देश भर से जुड़ी अच्छी ख़बरें सीधे आपके ईमेल में
  • देश में हो रहे अच्छे बदलावों की खबर सबसे पहले आप तक पहुंचेगी
  • जुड़िए उन हज़ारों भारतीयों से, जो रख रहे हैं बदलाव की नींव