Search Icon
Nav Arrow

4 इलेक्ट्रिक वाहन करते हैं चार्ज, फिर भी बिजली बिल रु.5000 से घटकर हुआ रु.70, जानिए कैसे

पुणे के रहने वाले अभिषेक माने और उनका परिवार पिछले 4 सालों से घर में बिजली की आपूर्ति तथा अपने चार इलेक्ट्रिक वाहन चार्ज करने के लिए, सौर ऊर्जा का इस्तेमाल कर रहे हैं। महीने में उनका बिजली बिल सिर्फ 70 रूपये आता है।

Advertisement

पुणे के रहने वाले अभिषेक माने ने साल 2004 में, रक्षा मंत्रालय में अपनी नौकरी छोड़कर खुद का व्यवसाय करने का फैसला किया। उन्हें पर्यावरण के प्रति बहुत लगाव है और साथ ही, तकनीक में गहरी दिलचस्पी भी है। इसलिए उन्होंने सौर ऊर्जा के क्षेत्र में (Solar Power) काम शुरू किया। 

वह बताते हैं, “मैंने कई वर्षों तक सौर ऊर्जा के बारे में सीखा और समझा कि ये पैनल कैसे लगाए जाते हैं और कैसे इनसे बिजली बनती है। साथ ही, मैंने सोलर इंडस्ट्री में भी कई लोगों के साथ काम किया और जाना कि सौर पैनल कैसे बनाये जाते हैं।” साल 2015 में उन्होंने अपनी बहन दीपाली शिंदे के साथ मिलकर अपना बिजनेस ‘दीवा सोलर पावर सॉल्यूशन्स’ शुरू किया। सौर पैनल तथा अन्य कल-पुर्जों के निर्माण के लिए पुणे में उन्होंने एक निर्माण इकाई स्थापित की। 

सौर ऊर्जा में बिजनेस शुरू करने के साथ-साथ, अभिषेक ने अपने घर पर भी सौर ऊर्जा का इस्तेमाल करना शुरू किया। आज उनके घर में रसोई के उपकरण, टेलीविजन, कपडे धोने की मशीन, पानी का पंप और तो और इलेक्ट्रिक वाहन भी सौर ऊर्जा से ही चार्ज किये जाते हैं। अभिषेक कहते हैं, “हमारे परिवार में पाँच सदस्य हैं। पहले हमारा बिजली बिल हर महीने 5000 रूपये तक आता था लेकिन, अब हम सिर्फ 70 रूपये प्रतिमाह बिजली बिल देते हैं।”

प्रक्रिया:

Solar Power
His Solar Panel

साल 2016 में, अभिषेक ने अपने घर में सौर पैनल लगाने का फैसला किया। उन्होंने सोचा कि अगर वह यह व्यवसाय कर रहे हैं तो उन्हें खुद भी इसमें पूरा विश्वास होना चाहिए। इसलिए, उन्होंने अपने घरवालों से बात की और उन्हें समझाया कि अगर, वे सौर ऊर्जा अपनाते हैं तो उनका घर पर्यावरण के अनुकूल बन जाएगा। 

अभिषेक आगे कहते हैं, “हमारे यहाँ धीरे-धीरे बदलाव हुआ। हमने सिर्फ एक रात में सबकुछ नहीं कर लिया। शुरुआती कुछ महीने हमने, अपनी बिजली की खपत को कम करने में लगाए। धीरे-धीरे मेरे परिवार ने अपने व्यवहार में कई बड़े बदलाव किए।” उन्होंने अपने घर में बिजली से चलने वाले उपकरणों पर भी ध्यान दिया। उन्होंने देखा कि उनका फ्रिज काफी ज्यादा बिजली खपत करता है। इसलिए, उन्होंने इसे बदलकर दूसरा फ्रिज लिया, जिससे बिजली की खपत कम होने में सहायता मिली। 

जब उनका परिवार इसके लिए तैयार हो गया तो उन्होंने अपनी छत पर 250 वाट के 10 सौर पैनल लगाए, जो दिन में 2.5 किलोवाट बिजली बनाते हैं। यह सिस्टम सीधा ग्रिड से जुड़ा है और बैटरी में ऊर्जा संरक्षित की जाती है। ये लोग इस ऊर्जा का प्रयोग, रात को बिजली की आपूर्ति और इलेक्ट्रिक वाहन चार्ज करने के लिए करते हैं। 

अभिषेक कहते हैं, “2019 में हमने कुछ पैनल निकालकर 330 वाट के पैनल लगा दिए। जिससे, अब सिस्टम से हर रोज 7 किलोवाट ऊर्जा उत्पन्न होती है। हमने एक्स्ट्रा पैनल इसलिए लगाए ताकि अपनी कार को भी चार्ज कर सकें।”

पर्यावरण के अनुकूल कदम:

Advertisement
Solar Power Helps pune family
Abhishek Mane on his Electric Scooter

परिवार को बिजली की खपत में कोई परेशानी न हो इसलिए, वह एक नियम के अनुसार बिजली खर्च करते हैं। जैसे दिन में धूप होने की वजह से ऊर्जा ज्यादा बनती है इसलिए, पानी का पंप, कपडे धोने वाली मशीन और रसोई के उपकरण आदि जैसे सभी बड़े उपकरण दिन में ही उपयोग किए जाते हैं। साथ ही, एक इलेक्ट्रिक वाहन को भी दिन में ही चार्ज कर लिया जाता है। इसके बाद बैटरी को चार्ज होने के लिए, कुछ घंटे का समय मिल जाता है। संरक्षित ऊर्जा से, अन्य दो इलेक्ट्रिक वाहनों को रात में ही चार्ज कर लिया जाता है। 

अभिषेक कहते हैं, “ओकिनावा इलेक्ट्रिक स्कूटर को चार्ज होने में चार घंटे लगते हैं और फिर यह 100 किमी तक चल सकता है। हमारी इलेक्ट्रिक कार, महिंद्रा e2o को हर तीन दिन में एक बार चार्ज करने की जरूरत पड़ती है क्योंकि, इसका इस्तेमाल स्कूटर से कम होता है। अब जहां पेट्रोल का मूल्य 98 रूपये प्रति लीटर से ज्यादा हो गया है, वहीं मैं अपनी कार को एक किमी चलाने में 40 पैसे से भी कम खर्च करता हूँ और हर महीने सिर्फ 70 रूपये बिजली बिल देता हूँ।”

पिछले चार सालों से मेरा परिवार बिना किसी परेशानी के सिर्फ सौर ऊर्जा से बनी बिजली का इस्तेमाल कर रहा है। वह कहते हैं कि लोग अक्सर इलेक्ट्रिक वाहन लेने में झिझक महसूस करते हैं। लेकिन उनके लिए यह स्मार्टफोन इस्तेमाल करने जैसा ही है। अगर आप इसे अगले दिन इस्तेमाल करना चाहते हैं तो इसे रात में चार्ज कर लीजिए। अपनी कंपनी के जरिए अभिषेक ने 500 परिवारों को सौर ऊर्जा अपनाने और उनके घरों को पर्यावरण के अनुकूल बनाने में मदद की है। 

अधिक जानने के लिए आप उनकी वेबसाइट पर जा सकते हैं, या अभिषेक को +91 9422002721 पर कॉल कर सकते हैं।

मूल लेख: रौशनी मुथुकुमार 

संपादन- जी एन झा

यह भी पढ़ें: इनकी तरह छत पर लगाएं ‘ऑन ग्रिड सौर प्लांट’, बिजली बिल होगा ज़ीरो

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें।

Solar Power, Solar Power, Solar Power, Solar Power, Solar Power

Advertisement
close-icon
_tbi-social-media__share-icon