Search Icon
Nav Arrow

IRFC IPO: जानिए इंडियन रेलवे फाइनेंस कॉरपोरेशन के बारे में 5 ज़रूरी बातें

इंडियन रेलवे फाइनेंस कॉरपोरेशन (IRFC) का 4600 करोड़ रुपए का इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग (IPO) इसी साल दिसंबर के अंत तक आ सकता है।

Advertisement

इंडियन रेलवे फाइनेंस कॉरपोरेशन (IRFC) का 4600 करोड़ रुपए का इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग (IPO) इसी साल दिसंबर के अंत तक आ सकता है।

आईआरएफसी के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक अमिताभ बनर्जी ने हाल ही में कहा था कि लगभग 4,600 करोड़ रुपये का आईपीओ दिसंबर महीने के अंत तक आ सकता है। ड्राफ्ट के मुताबिक, यह आईपीओ 178.20 करोड़ शेयरों का होगा और इसमें 118.80 करोड़ नए शेयर जारी किए जाएंगे जबकि सरकार 59.40 करोड़ रुपये की बिक्री पेशकश लाएगी।

आईआरएफसी एक सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी है जिसका स्वामित्व भारतीय रेलवे के माध्यम से भारत सरकार के हाथ में है। यह कंपनी भारतीय रिज़र्व बैंक के साथ इन्फ्रास्ट्रक्चर फाइनेंस कंपनी की श्रेणी में पंजीकृत है। आईआरएफसी की मार्किट लिस्टिंग ऐतिहासिक है क्योंकि यह सार्वजनिक क्षेत्र में एक गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी (एनबीएफसी) द्वारा पहला आईपीओ होगा।

अमिताभ ने प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया को बताया, “संभावना है कि यह इस महीने के तीसरे सप्ताह तक और अगर बाज़ार ठीक नहीं रहा तो जनवरी के पहले-दूसरे हफ्ते तक यह आ जाएगा। पीएसयू क्षेत्र में यह पहला एनबीएफसी है जो सार्वजनिक रूप से आ रहा है। यह आईपीओ दूसरों के लिए उदाहारण होगा।”

IRFC IPO
Rep Image

इस आईपीओ की 5 महत्वपूर्ण बातें:

1. कैसे करें आवेदन:

किसी भी दूसरे आईपीओ की तरह, अपने बैंक में उपलब्ध ब्लॉक्ड एमाउंट द्वारा समर्थित अनुप्रयोगों के माध्यम से कोई भी आवेदन कर सकता है। एक अन्य विकल्प आईपीओ फॉर्म द्वारा आवेदन करना है।

कंपनी के शेयर बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ इंडिया में सूचीबद्ध होने की संभावना है।

2. क्या IRFC IPO रिस्क-फ्री है?

अमिताभ ने बिज़नेस टुडे को बताया कि IRFC IPO एक रिस्क-फ्री बिज़नेस मॉडल है, क्योंकि सभी लीज रेंटल्स केंद्रीय बजट में एकीकृत किए गए थे।

“आईआरएफसी को कितने लीज रेंटल का भुगतान किया जाना है, यह बजट में है इसलिए ये लीज रेंटल हमारे लिए सुनिश्चित रेवेन्यु लाएंगे। यह सरकार की गारंटी से अधिक है। हमें इसकी गारंटी भी नहीं देनी चाहिए क्योंकि किराए के पुनर्भुगतान में कोई भी चूक सॉवरेन डिफ़ॉल्ट के बराबर होगी, जो कि संभव नहीं है,” उन्होंने कहा।

3. एंकर निवेशकों की भूमिका

एंकर निवेशकों की अवधारणा को 2009 में सिक्योरिटीज बोर्ड और एक्सचेंज द्वारा लॉन्च किया गया था। ये संस्थागत निवेशक हैं, जिन्हें आईपीओ को जनता के लिए सूचीबद्ध करने से पहले इन्वेस्ट के लिए आमंत्रित किया जाता है। एंकर शेयरों की स्थिर मांग सुनिश्चित करने और जनता में विश्वास बढ़ाने के लिए एक निश्चित दर पर शेयर खरीदते हैं।

आईआरएफसी में एंकर निवेशक भी होंगे, जिन्हें बिना बिडिंग के निर्गम का एक वांछित अंश प्राप्त होगा।

Advertisement

“वह बिडिंग के बिना ही वह राशि प्राप्त करने पाएंगे जो वह आईआरएफसी में निवेश करना चाहते हैं। इसके अलावा, यह बाजार में अन्य निवेशकों का विश्वास बनाएगा,” अमिताभ ने कहा

4. लीड मैनेजर्स का रोल:

IRFC ने मार्केट रिसर्च के आधार पर आईपीओ की कीमत तय करने के लिए प्रमुख प्रबंधकों (मर्चेंट बैंकर्स या सिंडिकेट सदस्यों) के साथ सहयोग किया। ये प्रमुख प्रबंधक आईपीओ के दस्तावेज, प्रॉस्पेक्टस, वैधानिक विज्ञापन और ज्ञापन का मसौदा तैयार करते हैं।

IRFC के लीडिंग मैनेजर के रूप में DAM कैपिटल एडवाइजर्स, HSBC सिक्योरिटीज एंड कैपिटल मार्केट्स, ICICI सिक्योरिटीज और SBI कैपिटल मार्केट्स हैं।

5. IRFC से कैसे होगा रेलवे को फायदा:

भारतीय रेलवे वित्त निगम (IRFC) की स्थापना 12 दिसंबर 1986 को भारतीय रेलवे की समर्पित वित्तपोषण शाखा के रूप में की गई थी ताकि घरेलू और साथ ही विदेशी पूंजी बाजार से फंड जुटाया जा सके। यहाँ यह भी ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि भले ही यह फंड रेलवे के लिए हो, लेकिन यह सीधे उनके पास नहीं जा सकता है। इसका मतलब है कि अर्जित संपत्ति को IRFC की किताबों में रखा जाएगा। ऐसी परिसंपत्तियों को कम मूल्य पर एक निश्चित अवधि के लिए भारतीय रेलवे को लीज पर दिया जाएगा। बदले में, IRFC को वार्षिक आधार पर लीज रेंटल मिलेगा।

फंड का उपयोग रोलिंग स्टॉक एसेट जैसे लोकोमोटिव, कोच, वैगन, ट्रक, फ्लैट, इलेक्ट्रिक मल्टीपल यूनिट, कंटेनर आदि खरीदने के लिए भी किया जाता है।

इसकी नेट वर्थ बढ़ाने के लिए, आईपीओ की 10 प्रतिशत आय आईआरएफसी की बैलेंस शीट पर जाएगी। इससे फर्म को बाजार से अधिक फंड जुटाने में मदद मिलेगी।

अमिताभ ने कहा कि आईपीओ कंपनी के मूल्य को और बढ़ाएगा और बेहतर कॉरपोरेट गवर्नेंस नॉर्म्स में लाएगा। “इससे कंपनी के कामकाज में और अधिक पारदर्शिता आएगी,” उन्होंने अंत में कहा।

मूल लेख: गोपी करेलिया

संपादन: जी. एन. झा

यह भी पढ़ें: Uttarakhand Metro: उत्तराखंड मेट्रो के लिए हो रही हैं भर्तियाँ, आज ही करें आवेदन


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें।

Advertisement
close-icon
_tbi-social-media__share-icon