Search Icon
Nav Arrow

#KnowYourPalm: जानिए क्यों ज़रूरी है सस्टेनेबल तरीकों से बना पाम ऑइल इस्तेमाल करना

#KnowYourPalm- एक ग्राहक के तौर पर यह हमारी ज़िम्मेदारी है कि हम वही उत्पाद खरीदें जिनमें सस्टेनेबल तरीकों से बनाया हुआ पाम ऑयल इस्तेमाल होता है। इसके लिए पहला कदम होना चाहिए कि हम उत्पादों में इस्तेमाल होने वाली सामग्री में पाम तेल की पहचान करें।

Advertisement

(यह लेख RSPO के साथ पार्टनरशिप में प्रकाशित किया गया है।)

अक्सर ग्रोसरी, कॉस्मेटिक और अन्य चीजों की शॉपिंग करने हुए हम किसी भी डिब्बे को पलटकर, उत्पाद का दाम और इसकी एक्सपायरी डेट चेक करते हैं लेकिन हम कितनी बार यह चेक करते हैं कि इसे बनाने में किन-किन चीजों का इस्तेमाल हुआ है और इनका हम पर क्या प्रभाव पड़ता है? दरअसल ऐसा हम बहुत ही कम बार करते हैं।

इसलिए यह जानकर शायद हम सबको हैरानी हो कि दैनिक इस्तेमाल में आने वाली ज़्यादातर चीजों- जैसे ब्रेड, चॉकलेट, लिपस्टिक, आइस-क्रीम, साबुन, शैम्पू और तो और टूथपेस्ट आदि को बनाने में एक तत्व का प्रयोग बहुत कॉमन है और वह है- पाम ऑयल यानी कि ताड़ का तेल। यह दुनिया में इस्तेमाल होने वाला सबसे कॉमन एडिबल तेल है।

अगर ताड़ का तेल सस्टेनेबल तरीकों से निकाला गया है और सर्टिफाइड है तो कोई परेशानी वाली बात नहीं है।

कुछ क्षेत्रों में ताड़ की खेती अत्यधिक रूप से हुई है और यह वनों की कटाई का कारण बनी है। वह भूमि जहाँ पर पहले कभी प्राथमिक रूप से वन हुआ करते थे और वन्यजीव- जंतुओं का संरक्षण करते थे, वहाँ ताड़ के पेड़ लगाए गए ताकि तेल की आपूर्ति की जा सके।

हालांकि, ताड़ की खेती सस्टेनेबल है- क्योंकि यह सिर्फ एक पौधा है- लेकिन प्रोडक्शन के तरीकों ने पिछले कुछ दशकों में पर्यावरण और सामाजिक मुद्दों को बढ़ाया है। इन परेशानियों को हल करने के लिए ही साल 2004 में, राउंडटेबल ऑन सस्टेनेबल पाम ऑयल की स्थापना की गई ताकि ताड़ के तेल के सस्टेनेबल उत्पादन को बढ़ावा दिया जा सके।

आरएसपीओ के संदर्भ में- सस्टेनेबल पाम ऑयल पर्यावरणीय और सामाजिक मानदंडों के एक सेट के अनुसार उगाया और उत्पादित किया जाता है, जिन्हें सामान्य तौर पर पी एंड सी कहा जाता है।

आरएसपीओ के मानकों के अनुसार ताड़ उगाते समय ध्यान रखा जाता है कि यह ऐसी जगह हो जहाँ ताड़ की खेती, पर्यावरण और स्थानीय समुदाय में सामंजस्य स्थापित कर सकते हों।

Know Your Palm

RSPO के मानक प्राथमिक और द्वितीयक वनों की सुरक्षा के लिए काम करते हैं, यह सुनिश्चित करते हैं कि वन्यजीवों के आवासों को नुकसान नहीं पहुँचाया जाता है और यह पाम ऑयल उत्पादक क्षेत्रों में श्रमिकों, समुदायों और स्थानीय लोगों की सुरक्षा भी करता है।

सस्टेनेबल पाम ऑयल की एक अच्छी बात यह है कि ताड़ बहुत ही प्रभावी खेती है जिसे किसी अन्य तेल वाली फसल से 10 गुना कम ज़मीन की आवश्यकता होती है।

उदाहरण के लिए, एक हेक्टेयर भूमि में प्रति वर्ष कम से कम 4.17 मीट्रिक टन पाम ऑयल का उत्पादन करने की क्षमता है, जबकि इतनी ही ज़मीन पर सिर्फ 0.56 मीट्रिक टन सूरजमुखी तेल, 0.39 मीट्रिक टन सोयाबीन तेल और 0.16 मीट्रिक टन मूंगफली तेल का उत्पादन होता है। इस वजह से, सेंटर फॉर इंटरनेशनल फॉरेस्ट्री रिसर्च (CIFOR) द्वारा प्रकाशित एक किताब के मुताबिक, दुनिया में उपलब्ध तेल के लिए खेती की ज़मीन का मात्र 7% हिस्सा पाम ऑयल के उत्पादन के लिए इस्तेमाल होता है। और यह कुल तेल के उत्पादन में अपना 39% हिस्सा देता है।

इसके साथ-साथ, इसकी उच्च उत्पादन क्षमता और कम लागत की वजह से यह कई उत्पादक देशों में लाखों छोटे किसानों के लिए आय और आजीविका का एक महत्वपूर्ण स्रोत भी है।

ताड़ के तेल उत्पादन से जुड़ी समस्याओं को कम करना

Know Your Palm

#KnowYourPalm पहल के तहत, आरएसपीओ द बेटर इंडिया के साथ उपभोक्ताओं, व्यवसायों और अन्य हितधारकों को प्रोत्साहित करने के लिए एक सचेत कदम उठा रहा है ताकि मांग की जा सके कि उत्पादों में केवल सर्टिफाइड सस्टेनेबल पाम ऑयल (CSPO) हो।

उपभोक्ता के तौर पर यह हमारी ज़िम्मेदारी है कि हम वही उत्पाद खरीदें जिनमें सस्टेनेबल तरीकों से बनाया हुआ पाम ऑयल इस्तेमाल होता है।

इसके लिए पहला कदम होना चाहिए कि हम उत्पादों में इस्तेमाल होने वाली सामग्री में पाम तेल की पहचान करें।

ताड़ के तेल और उसके डेरिवेटिव या अंश के कई नाम हैं जैसे; PKO (पाम कर्नेल ऑयल), पामेट, PKO पार्टिशन जैसे पाम कर्नेल स्टिरिन (PKs) या पाम कर्नेल ऑलिन (PKOo), OPKO (ऑर्गेनिक पाम कर्नेल ऑयल), सोडियम लॉरेथ सल्फेट, पालमिटेट (विटामिन ए या एस्कॉर्बेल पामिटेट) और सोडियम लॉरिल सल्फेट।

Advertisement

यदि आपको सामग्री की सूची में इनमें से कोई नाम मिलता है, तो अगला कदम है यह पता करना कि क्या इस उत्पाद के लिए इस्तेमाल हुआ ताड़ का तेल सस्टेनेबल तरीकों से उगाया और बनाया गया है।

Know Your Palm

कई बहुराष्ट्रीय कंपनियों ने खुद से ही अपने सभी उत्पादों में सस्टेनेबल ताड़ के तेल का उपयोग करने के लिए प्रतिबद्धता व्यक्त की है। भारत की कुछ प्रमुख कंपनियां जो अपने उत्पादों में सस्टेनेबल ताड़ के तेल का इस्तेमाल करती हैं, उनमें हिंदुस्तान यूनिलीवर, प्रॉक्टर एंड गैंबल (पीएंडजी), फेरेरो, मार्स और द बॉडी शॉप शामिल हैं।

उनकी यह प्रतिबद्धता पर्यावरणीय रूप से जिम्मेदार नीतियों, रणनीतियों और उत्पाद रिलीज सहित विभिन्न पहलों के ज़रिए पता चलती है।

यहाँ पर हम ऐसी कुछ कंपनियों के बारे में बता रहे हैं:

1. हिंदुस्तान यूनीलीवर (HUL): एचयूएल प्रमुख ब्रांड जैसे सनसिल्क, डव, नॉर, एक्स, लिप्टन और ब्रू बेचता है और मई 2004 से आरएसपीओ का सदस्य है। आज, एचयूएल एक स्पष्ट रणनीति और कार्यान्वयन योजना के माध्यम से एक सस्टेनेबल पाम ऑयल की सप्लाई चैन बनाने दिशा में प्रगति कर रहा है।

यह सस्टेनेबल ताड़ के तेल के उत्पादन के लिए एक पाँच-सिद्धांत मॉडल की सहायता लेता है, जो प्रक्रिया में पूरी पारदर्शिता और किसी भी तरह से वनों की कटाई नहीं होने की वकालत करता है। उनकी रणनीति है कि वनों और वन्यजीवों की रक्षा करते हुए, छोटे-छोटे उत्पादकों और महिलाओं के लिए सामाजिक-आर्थिक परिवर्तन को बढ़ावा देना। अधिक पढ़ें!

2. प्रोक्टर एंड गैम्बल (P&G): पी एंड जी, सकारात्मक परिवर्तन के लिए नवाचार का उपयोग करते हुए, ताड़ के तेल की सप्लाई चैन/आपूर्ति श्रृंखला में वनों की शून्य कटाई के लिए प्रतिबद्ध है। 2010 से आरएसपीओ का एक सदस्य है, और वह पहले से ही सप्लायर मिलों का एक स्थायी नेटवर्क बनाने में सक्षम रहे हैं जो सस्टेनेबल ताड़ के तेल का उत्पादन करते हैं, और उन्होंने सुनिश्चित किया है कि इनके यहाँ किसी भी तरह से वनों की कोई कटाई नहीं होती है। वह कई हितधारकों के साथ काम कर रहे हैं, जिनमें आपूर्तिकर्ता, अकादमिक विशेषज्ञ, गैर सरकारी संगठन और उद्योग शामिल हैं, जो सस्टेनेबल तरीकों से पाम ऑयल सोर्स करने के बेहतर मानकों और तरीकों को बढ़ावा देते हैं। अधिक पढ़ें!

3. फेरेरो: आधिकारिक तौर पर, फेरेरो ट्रेडिंग लक्स एस.ए., फरेरो पारिवारिक हलवाई का व्यवसाय था, जिसकी स्थापना 1946 में हुई और आज यह उद्योग क्षेत्र में एक वैश्विक लीडर बन चुका है। पर्यावरण की दृष्टि से अनुकूल गुणवत्ता वाले उत्पादों को बनाने के लिए प्रतिबद्ध, यह कंपनी 2005 में सस्टेनेबल ताड़ के तेल के उत्पादन और उपयोग के आरएसपीओ के मिशन में शामिल हुई थी।

उनके लगातार प्रयासों के कारण, 1 जनवरी 2015 तक, वे अपने सभी उत्पादों का उत्पादन ऐसे ताड़ के तेल के साथ करने में सक्षम रहे हैं जो आरएसपीओ सप्लाई चैन के अनुसार 100% स्थायी और प्रमाणित था। उन्होंने अपने इस लक्ष्य को तय समय से एक वर्ष पहले ही हासिल कर लिया। 2013 में, उन्होंने फेरेरो पाम ऑयल चार्टर भी स्थापित किया, ताकि गैर-जिम्मेदारी से होने वाले ताड़ के तेल के उत्पादन से पर्यावरण संबंधी परेशानियों को संबोधित किया जा सके और आर्थिक लाभ और व्यवहार्यता और पर्यावरण संरक्षण के बीच संतुलन बनाया जा सके। अधिक पढ़ें!

4. मार्स: सितंबर 2019 में, मार्स ने पाम पॉजिटिव प्लान लॉन्च किया, जिसका उद्देश्य 2020 तक 100% वनों की कटाई से मुक्त ताड़ के तेल की आपूर्ति करना और सप्लाई चैन में परिवर्तन के ज़रिए मानवाधिकारों के क्षेत्र में सकारात्मक बदलाव लाना है। उनके उठाए गए कदमों में से एक था, उत्पादन की पूरी प्रक्रिया में वेरिफिकेशन के लेवल को बढ़ाना, जिसके लिए मार्स की सप्लाई चैन मिल की गिनती 2021 तक 1500 से कम करके 100 करना और फिर आगे 2022 तक इन्हें और आधा करना है। अधिक पढ़ें!

5. द बॉडी शॉप: यह कंपनी 2010 से आरएसपीओ का सदस्य है। वह अपने उत्पादों के लिए केवल सस्टेनेबल पाम ऑयल लेते हैं और सुनिश्चित करते हैं कि किसी भी तरह से वनों की कटाई नहीं हो रही है। अधिक पढ़ें!

इन के अलावा, आप या तो अन्य ब्रांडों या कंपनियों को उनके ताड़ के तेल उत्पादन या सोर्सिंग प्रक्रियाओं के बारे में पूछ सकते हैं, या फिर यहां क्लिक करके जान सकते हैं कि कौन सी कंपनियाँ आरएसपीओ के साथ हैं। वर्ल्ड वाइल्डलाइफ फंड (डब्ल्यूडब्ल्यूएफ) पाम ऑयल स्कोरकार्ड रेटिंग टूल भी ऐसा करने का एक और तरीका है, इसके लिए यहाँ क्लिक करें!

पाम ऑयल उत्पादकों, व्यापारियों, उपभोक्ता वस्तुओं के निर्माताओं, खुदरा विक्रेताओं, बैंकों, निवेशकों, गैर सरकारी संगठनों से लेकर ग्राहकों तक, हर एक व्यक्ति इस साइकिल का हिस्सा है, जिसे अगर सही दिशा में चलाया जाए तो हमारी धरती को बचाया जा सकता है।


संपादन: जी. एन. झा 

मूल लेख: अनन्या बरुआ

यह भी पढ़ें: जानिए कैसे बीज उगाने के लिए घर पर पत्तों से बना सकते हैं कंपोस्टेबल ‘ग्रो ट्रे’


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें।

Know Your Palm, Know Your Palm Oil, Know Your Palm, Know Your Palm Initiative, Know Your Palm, Know Your Palm

Advertisement
close-icon
_tbi-social-media__share-icon