in ,

मुम्बई ब्रिज हादसा : महज़ 55 मीटर की दूरी पर ब्रेक लगा, ड्राइवर ने बचाई यात्रियों की जान!

अँधेरी स्टेशन पर गिरा गोखले पुल व ड्राइवर चंद्रशेखर सावंत

ज सुबह लगभग 7:30 बजे मुंबई के अँधेरी में गोखले पुल का एक हिस्सा टूटकर गिर गया। यह पुल अँधेरी रेलवे स्टेशन का एक हिस्सा था और यह रेलवे पटरियों पर गिरा।

बताया जा रहा है कि इस हादसे में पांच लोग घायल हुए। हालाँकि, किसी भी गंभीर हालात की सुचना अभी तक नहीं मिली है।

रेल की पटरियों पर इस तरह पुल का गिरना यक़ीनन खतरनाक था। लेकिन, सबसे ज्यादा गंभीर बात यह थी कि उसी रेलवे ट्रैक पर आ रही एक लोकल ट्रेन कुछ ही मिनटों की दुरी पर थी।

दहानू से चर्चगेट की तरफ जा रही यह लोकल ट्रेन अँधेरी स्टेशन की तरफ बढ़ रही थी। और पुल गिरने के चंद सेकेंड पहले ही एक लोकल ट्रेन इसी ट्रैक से निकली थी।

 

द बेटर इंडिया से बात करते हुए, चंद्रशेखर सावंत, जो लोकल ट्रेन चला रहे थे, उन्होंने कहा, “ट्रेन लगभग 50 किमी / घंटा की गति से चल रही थी। जब पुल गिरने लगा तो हम केवल 50-60 मीटर दूर थे। यह सब मेरी आँखों के सामने हुआ। इसलिए मैंने आपातकालीन ब्रेक लगाए और बस समय रहते ट्रेन को रोक पाया।”

Promotion

यदि सावंत समय पर ब्रेक नहीं लगाते तो सभी यात्रियों के साथ बड़ी दुर्घटना घट सकती थी।

जब हमने सावंत को सम्पर्क किया तो, बिना इस घटना से घबराये हुए, वे अपनी ड्यूटी पर थे। उन्होंने बताया,

“हम अपना वाहन नहीं छोड़ सकते। ट्रेन रोकने के बाद मैंने गार्ड व अधिकारियों को सूचित किया। इसके अलावा सिग्नल के लिए फ़्लैश लाइट भी ऑन करवाई और स्वयं एक लाल झंडा लेकर खड़ा हो गया ताकि आने वाली ट्रेनों को रोका जा सके। हमे इस तरह की परिस्थितियों के लिए प्रशिक्षित किया जाता है।”

ट्रेन ड्राइवर सावंत के भतीजे, सिद्धेश सावंत ने बताया, “वो एक एक्स-आर्मी अफ़सर है। ज़िंदगियाँ बचाना उनका कर्तव्य है। हमें उन पर गर्व है।”

सुबह की इस लोकल ट्रेन में सैंकड़ों यात्री थे। ब्रेक लगाने में अगर चंद पलों की भी देरी हुई होती तो एक बड़ी त्रासदी घट सकती थी।

लोगों ने भी घटना के तुरंत बाद से ही ट्विटर पर सावंत को उनकी सूझ-बुझ के लिए धन्यवाद देना शुरू कर दिया। उन्होंने आज बहुत से मुंबईकरों की जान बचायी है।

( संपादन – मानबी कटोच )


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे।

 

शेयर करे

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है. निशा की कविताएँ आप https://kahakasha.blogspot.com/ पर पढ़ सकते हैं!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

फ़ोन से डिलीट हो जाएँ नंबर तो घबराये नहीं; इस तरह पाए जा सकते है कांटेक्ट वापस!

पैरों से ब्रश पकड़ पेंटिंग करने वाले ऋतिक को दिल्ली हाई कोर्ट का तोहफ़ा है कृत्रिम हाथ!