ऑफर सिर्फ पाठकों के लिए: पाएं रू. 200 की अतिरिक्त छूट ' द बेटर होम ' पावरफुल नेचुरल क्लीनर्स पे।अभी खरीदें
X
कैसे शुरू करें टिफ़िन सर्विस बिज़नेस: गृहिणी से उद्यमी बनीं दिल्ली की जिनिषा से जानें

कैसे शुरू करें टिफ़िन सर्विस बिज़नेस: गृहिणी से उद्यमी बनीं दिल्ली की जिनिषा से जानें

सिर्फ एक टिफ़िन से भी कर सकते हैं अपने टिफ़िन सर्विस बिज़नेस की शुरुआत!

आजकल के दौर में अधिकतर युवा नौकरी व शिक्षा के लिए अपने घरों से दूर रहते हैं तो उनमें से अधिकतर लोग के लिए खुद से खाना बनाना संभव नहीं होता है। रोजाना होटल व कैंटीन का खाना खाने से सेहत खराब होने का भी डर रहता है। ऐसे में ये सभी टिफिन सर्विस पर निर्भर हो जाते हैं। घर जैसे खाने का स्वाद और रेस्तरां व ढाबों की भीड़भाड़ से बचने के लिए अधिकांश स्टूडेंट्स और बैचलर टिफिन सर्विस को प्राथमिकता देते हैं।

दिल्ली के मोती नगर में रहने वाली 41 वर्षीया जिनिषा जैन पिछले दो साल से टिफ़िन सर्विसेज का बिज़नेस चला रही हैं। उनके टिफ़िन नोएडा और दिल्ली में जाते हैं और हर महीने वह लगभग 350 ग्राहकों को सर्विस देती हैं। इसके साथ ही वह कैटरिंग सर्विसेज भी दे रही हैं।

जिनिषा बतातीं हैं कि उनका बिज़नेस बाय चांस शुरू हुआ है। उन्होंने कभी भी कोई बिज़नेस करने के बारे में नहीं सोचा था, लेकिन अक्सर अपनी एक पहचान के बारे में ज़रूर सोचतीं थीं। उन्हें खाना बनाने का काफी शौक है और स्वाद के साथ-साथ वह खाने में पोषण का भी भरपूर ख्याल रखतीं हैं।

Jinisha Jain, Zayka Tiffin Services

उन्होंने बताया, “मुझे याद है कि एक बार मेरी एक पड़ोसन ने पूछा था कि कोई हमारे कॉम्प्लेक्स में टिफ़िन देता है क्या? लेकिन हमारे यहाँ कोई टिफ़िन सर्विसेज नहीं थी। फिर उन्होंने मुझसे कहा कि अगर मैं उनके पति के लिए एक वक़्त का खाना भेज सकती हूँ क्या? मैंने बिना सोचे हाँ कह दी क्योंकि अगर हम पड़ोसी के ही काम नहीं आयेंगे तो फिर क्या फायदा।”

जिनिषा ने जो खाना उनके लिए भेजा वह उन्हें बहुत पसंद आया और उन्होंने जिनिषा से कहा कि उन्हें टिफ़िन सर्विस शुरू करनी चाहिए। “पहली बार जब उन्होंने कहा तो मैंने इस बारे में ज्यादा नहीं सोचा। लेकिन जब कुछ दूसरे लोगों ने भी मेरे बनाए खाने की तारीफ की और मुझे खाने का बिज़नेस करने की सलाह दी। तब मुझे भी लगा कि एक बार ट्राई करने में क्या हर्ज है,” जिनिषा ने बताया।

और इस तरह से 2018 में जिनिषा ने अपनी ‘ज़ायका टिफ़िन सर्विसेज’ की शुरूआत की।

Start Tiffin Services Business
Her Food

जिनिषा कहतीं हैं कि उन्होंने अपना बिज़नेस पैसे से ज्यादा पैशन के लिए शुरू किया था। लेकिन अगर कोई पैसे के लिए भी इस क्षेत्र में आगे बढ़ना चाहता है तो यह काफी अच्छा बिज़नेस विकल्प है। खासतौर पर ऐसे इलाकों में जहाँ नौकरी-पेशे के चक्कर में बाहर से लोग आकर रह रहे हैं।

टिफिन सर्विस शुरू करने के बारे में द बेटर इंडिया ने जिनिषा जैन से विस्तार से बातचीत की। उन्होंने हमें बताया कि यदि कोई घर से टिफ़िन सर्विस का बिज़नेस करना चाहता है तो उसे किन बातों का ख्याल रखना चाहिए।

1. टिफ़िन सर्विस का बिज़नेस शुरू करने से पहले क्या ध्यान में रखना चाहिए?

जिनिषा: सबसे पहले तो स्किल बहुत ज़रूरी है कि आपको अच्छा खाना बनाना आता है। लेकिन इसके साथ ही आपको खुद पर विश्वास होना चाहिए। आप किसी सही समय का इंतज़ार न करें, बस शुरूआत करें। कल या परसों पर न टालें क्योंकि ऐसे करेंगे तो कभी आगे नहीं बढ़ पाएंगे। इसलिए ज्यादा सोच-विचार में न पड़े और चाहे एक टिफिन से शुरू करें लेकिन शुरूआत करें। पहले कदम पर बहुत ज्यादा ऑर्डर्स ज़रूरी नहीं हैं बल्कि यह ज़रूरी है कि आप पूरे पैशन से कुछ करना चाहते हैं।

2. इस बिज़नेस में किन-किन चीजों की ज़रूरत होती है?

जिनिषा: सर्टिफिकेशन की अगर बात करें तो शुरूआत में आपको कोई सर्टिफिकेट लेने की ज़रूरत नहीं है। क्योंकि सर्टिफिकेशन की ज़रूरत तब आती है, जब आपका बिज़नेस बहुत ज्यादा बड़ा हो जाता है, मतलब कि आप महीने में 10-12 लाख रुपये कमाने लगे हैं। उस स्तर तक पहुँचने में कुछ वक़्त लगेगा तो आप उस समय FSSAI सर्टिफिकेट ले सकते हैं। बाकी फिलहाल के लिए आप बिना सर्टिफिकेशन भी शुरू कर सकते हैं।

इसके बाद, आप अपनी किचन से यह शुरू कर रहे हैं तो अलग से कोई बर्तन खरीदने की ज़रूरत नहीं पड़ेगी। लेकिन आप किस चीज़ में खाना देंगे, उसके लिए आपको सोचना होगा। यहाँ थोड़ी इन्वेस्टमेंट है कि आप टिफ़िन या फिर कोई और पैकिंग बॉक्स लेकर आएं। लेकिन वह भी बहुत ज्यादा न हों मतलब कि शुरू में जितने आपको ऑर्डर आ रहे हैं, उसी हिसाब से खरीदें। एक बार में खरीद कर न रख लें और वह भी ग्राहकों की मांग के हिसाब से।

4. मेनू कैसे तय करें?

जिनिषा: मेनू पर आपको ख़ास ध्यान देना है। शुरुआत में, आप एकदम से हर चीज़ फिक्स न करें। अगर आप पहले ही रविवार, सोमवार का मेनू फिक्स कर देंगे तो ग्राहक बहुत ज़ल्दी बोर होने लग जाएंगे। इसलिए हमेशा ग्राहकों से पूछते रहें कि वह क्या खाना चाहते हैं।

ग्राहकों की पसंद-नापसंद का ख्याल रखना बहुत ज़रूरी है। इससे आपका बिज़नेस काफी आगे बढ़ता है क्योंकि एक ग्राहक आपको और कई ग्राहकों से जोड़ेगा, लेकिन यह तभी होगा अगर आपके खाने से आपके ग्राहक संतुष्ट होंगे। इसलिए अगर कभी कोई आपको कुछ अलग बनाने के लिए भी कहता है तो बनाइए। क्योंकि इससे ग्राहकों का विश्वास बनता है।

5. अपने बिज़नेस की मार्केटिंग कैसे करें?

जिनिषा: मार्केटिंग के लिए आप शुरू में किसी अखबार के साथ अपने पैम्पलेट छपवा सकते हैं। इसके अलावा, फ़िलहाल एक अच्छा विकल्प फेसबुक और व्हाट्सअप भी है। सोशल मीडिया पर भी आप अपने बिज़नेस का एक पेज बनाइए। इससे भी बहुत से लोगों तक आपका बिज़नेस पहुँचेगा।

बाकी सबसे ज़्यादा मार्केटिंग लोगों द्वारा ही होती है। अगर आपके एक ग्राहक को भी आपका खाना पसंद आता है तो वह और लोगों को भी आपके बारे में बताते हैं। इससे आप और लोगों से जुड़ते हैं। आप खुद भी अपने काम्प्लेक्स, सोसाइटी में लोगों को बताइए कि आप क्या काम कर रहे हैं और अगर कोई टिफिन सर्विस का पूछे तो वह आपका नंबर दे सकते हैं!

6. पैकेजिंग और डिलीवरी में किन बातों का ध्यान रखना चाहिए?

जिनिषा: पैकेजिंग पर आपको ख़ास ध्यान देना होता है। क्योंकि कहते हैं ना ‘जो दिखता है, वही बिकता है।’ इसलिए आपको पैकेजिंग को थोड़ा आकर्षक रखना होगा। लोगों को यह पसंद आए और जब भी कोई आपका पार्सल देखे तो एक बार नाम ज़रूर पढ़े।

शुरूआत में, अच्छा होगा कि आप खुद ही डिलीवरी की ज़िम्मेदारी लें। क्योंकि एकदम शुरू में ही आप बहुत पैसे डिलीवरी पर खर्च नहीं कर सकते हैं। इसलिए शुरू में खुद ही सबकुछ मैनेज करने की कोशिश करें। जैसे-जैसे आपका काम बढ़ता है वैसे-वैसे आप बाकी सब चीज़ों पर इन्वेस्ट कर सकते हैं। जैसे अपने लिए कोई हेल्पर और डिलीवरी वाला रख सकते हैं।

7. किस तरह की परेशानी इस बिज़नेस में झेलनी पड़ती हैं और कैसे उनसे डील करना चाहिए?

जिनिषा: परेशानी तो किसी भी तरह की हो सकती है। आपको हर परिस्थिति के लिए तैयार रहना चाहिए। वैसे अक्सर टाइम पर डिलीवरी को लेकर परेशानी आती है। क्योंकि आप खुद खाना बना रहे हैं और खुद ही डिलीवर कर रहे हैं तो कई बार देर हो जाती है।

लेकिन कोशिश करें कि यह हर बार न हो। ग्राहकों से कभी उलझें नहीं, सबसे पहले आप उनकी परेशानी सुने और फिर अपनी परेशानी उन्हें बताएं। बहुत ही कम होता है कि लोग न समझने, वरना लोग आपको पूरा-पूरा समझने की कोशिश करते हैं। बाकी अगर आपका खाना उन्हें अच्छा मिल रहा है तो वो छोटी-छोटी गलतियाँ नज़रअंदाज भी कर देते हैं।

8. कुछ टिप्स ग्राहकों का भरोसा जीतने के लिए?

जिनिषा: ग्राहकों का भरोसा जीतने का एक ही तरीका है और वह है अच्छा, स्वादिष्ट और पौष्टिक खाना। अगर आपका खाना अच्छा है तो आपको और किसी भी जगह समझौता करने की ज़रूरत नहीं पड़ेगी। आपको हमेशा ऐसा खाना देना चाहिए, जिसे आप अपने परिवार को खिला सकें। अगर आपको लगता है कि कोई खाना आपके और आपके परिवार के खाने लायक नहीं है तो वह आप दूसरों को कैसे दे सकते हैं।

दूसरा, कोई भी काम छोटा या बड़ा नहीं होता है। अक्सर लोग आपको टिफ़िन डिलीवरी करते हुए देखते हैं तो बहुत-सी बातें कह देते हैं कि आपको क्या ज़रूरत है यह काम करने की। या फिर कोई और अच्छा काम किया जा सकता है। लेकिन हमेशा याद रखें कि जो काम आपको ख़ुशी दे और साथ ही, आपकी आर्थिक तौर पर मदद करे वही काम अच्छा है। आप खुश हैं और आपका खाना खाकर आपके ग्राहक खुश हैं, इससे ज़्यादा क्या चाहिए?

ग्राहकों का फीडबैक बहुत ज़रूरी है। उनसे हमेशा पूछते रहें कि उन्हें क्या पसंद आ रहा है और क्या नहीं? अगर वह कुछ कहते हैं तो उस पर गौर करें। हर एक ग्राहक का फीडबैक ज़रूरी है। साथ ही, कुछ न कुछ नया ट्राई करते रहें ताकि आपको और सीखने का मौका मिलें।

वीडियो देखें: 

“कई बार आपको लगेगा कि आपसे नहीं हो रहा है और आपको यह काम छोड़ देना चाहिए। परेशानियाँ आएँगी लेकिन आपको समाधान भी मिलेंगे। बस खुद पर भरोसा रखें और शुरूआत करें,” उन्होंने अंत में कहा।

अगर आप जिनिषा जैन से इस बारे में और अधिक जानकारी चाहते हैं तो उन्हें 9999356933, 7678515894 पर कॉल कर सकते हैं!

यह भी पढ़ें: मुंबई के ‘वीकेंड शेफ’ से जानिए घर से कैसे शुरू कर सकते हैं फूड डिलीवरी बिज़नेस


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है.
Let’s be friends :)
सब्सक्राइब करिए और पाइए ये मुफ्त उपहार
  • देश भर से जुड़ी अच्छी ख़बरें सीधे आपके ईमेल में
  • देश में हो रहे अच्छे बदलावों की खबर सबसे पहले आप तक पहुंचेगी
  • जुड़िए उन हज़ारों भारतीयों से, जो रख रहे हैं बदलाव की नींव