in

कभी शराबी रह चुके अज्जप्पा शिवलिंगप्पा आज अपने गाँव को बना रहे है नशामुक्त

अजप्पा, एक ५४ वर्षीय वृद्ध, जिसने न सिर्फ स्वयं को शराब की लत से छुटकारा दिलवाया, बल्कि अपने पुरे गाँव को एक शराब- मुक्त क्षेत्र बनाने में सफल हुआ। जानें एक प्रेरणादायक कहानी।

घोड़ागेरी निवासी, अजप्पा शिवालिंगाप्पा प्याती, कुछ वर्ष पूर्व तक, कभी किसी सड़क के किनारे, तो कभी किसी गटर में पाया जाने वाला नशेडी था। एक संपन्न परिवार का सदस्य हो कर भी अपने शराब की ज़रुरतो को पूरा करने के लिए लोगो से कई बार भीख मांगनी पड़ जाती थी। धीरे धीरे न सिर्फ उसके अपने बल्कि गाँव के साथी भी उस से दूर होते चले गए।

यह साधारणतः हर उस व्यक्ति की कहानी है जिन्हें अपनी किसी बुरी लत के कारण,पैसे एवं इज्ज़त, दोनों ही गंवानी पड़ी हो। किन्तु ५४ वर्षीय अज्जप्पा निश्चित ही उन लोगों से अलग था।

उसने न सिर्फ स्वयं को इस लत से निजात दिलवाया बल्कि अपने पुरे गाँव को एक शराब मुक्त क्षेत्र बनाया।

alcohol

सात वर्ष पूर्व, उसके जीवन ने एक नया मोड़ तब लिया जब उसने एक जागरूकता कार्यक्रम में भाग लिया, जिसमे शराब तथा उससे होने वाली बीमारियों एवं उसके परिणामो से अवगत कराया जा रहा था। इस दौरान उसे यह एहसास हुआ कि शराब की लत ने उसे सामाजिक एवं आर्थिक रूप से कितना नुक्सान पहुँचाया है। इसी समय उसने यह प्रण लिया कि वह न सिर्फ स्वयं को, बल्कि पुरे गाँव को इस से मुक्त करेगा।

Promotion

 

अज्जप्पा ने 60 स्वयंसेवकों का एक दल गठित किया और शराब के ठेके बंद करवाने के प्रण से इस उद्देशय की शुरूवात की। काफी कठिनायों एवं जद्दोजहद के बाद आख़िरकार घोड़ागेरी शराब ठेकों से मुक्त हो पाया।

उसका अगला कदम शराबियो को शराब के नुकसान से अवगत करवा कर इस नशे से निजात दिलवाना था, जिसमे वह काफी हद तक सफल भी हो गया। करीब ९० प्रतिशत व्यक्तियों को इस लत से पूर्णतः छुटकारा मिल गया है, बाकी के १० प्रतिशत भी गाँव में शराब न मिलने के कारण लाभान्वित हुए और पूरी तरह इस लत को छोड़ने में मदद भी मिल रही है।

अजप्पा को यह पूर्ण विश्वास है कि गाँव को १०० प्रतिशत शराब मुक्त क्षेत्र बनाने का सपना अब दूर नहीं है।

 

अजप्पा एक मिसाल है उन लोगों के लिए जो अपनी बुरी लतों को अपनी मजबूरी मान कर उनसे समझौता कर लेते है। अज्जप्पा ने सिद्ध किया है कि यदि हम समाज में कुछ बदलाव लाना चाहते है तो वह तभी प्रभावशाली होगी अगर शुरूवात स्वयं से हो।

मूल लेख – श्रेया परीक

शेयर करे

mm

Written by निधि निहार दत्ता

निधि निहार दत्ता राँची के एक कोचिंग सेंटर, 'स्टडी लाइन' की संचालिका रह चुकी है. हिन्दी साहित्य मे उनकी ख़ास रूचि रही है. एक बेहतरीन लेखिका होने के साथ साथ वे एक कुशल गृहिणी भी है तथा पाक कला मे भी परिपक्व है.

2 Comments

Leave a Reply

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

यह पूर्व सैनिक और उनकी पत्नी आज भी छोटी-छोटी खुशियाँ बाँटकर, कर रहें हैं देश-सेवा!

१३ साल का अमन अपने नगर परिषद के पाठशाला मे अपने दोस्तों की पढाई में सहायता कर रहा है