in

डिब्बा बड़ी काम की चीज़: पहले डिब्बे में बनाएं खाद और फिर उसी में बो दें बीज

सबसे अच्छी बात यह है कि इन डिब्बों में खाद बनाने के बाद आप इनमें सीधा धनिया, पुदीना, मेथी, वीटग्रास जैसी हर्ब्स उगा सकते हैं!

बेंगलुरू में रहने वाले वासुकी आयंगर ने लंबे वक्त तक कॉर्पोरेट सेक्टर में काम करने के बाद 2016 में सोशल एंटरप्राइज, सॉयल एंड हेल्द की नींव रखी। इसके ज़रिए वह लोगों को घरेलू कम्पोस्टिंग से लेकर सामुदायिक कम्पोस्टिंग तक के विकल्प दे रहे हैं। घरेलू कम्पोस्टिंग के लिए ज़रूरी नहीं कि आप अलग से कम्पोस्टिंग सिस्टम ही खरीदें या फिर ड्रम का इस्तेमाल करें। इसके लिए आप अपने घर में पुराने पड़े दही, आइसक्रीम आदि के डिब्बों का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

हाल ही में वासुकी ने लोगों के लिए जुगाड़ डिब्बा कम्पोस्टिंग की तकनीक साझा की है। आप अपने घर में खाली पड़े डिब्बे में कम्पोस्टिंग तो कर ही सकते हैं, इसके साथ ही इसी में बीज बोकर पेड़-पौधे भी उगा सकते हैं। वासुकी के मुताबिक, आप इनमें हर्ब्स जैसे मेथी, वीटग्रास, धनिया, पुदीना आदि आसानी से उगा सकते हैं।

#DIY Container Composting
Vasuki Iyengar

जुगाड़ डिब्बा कम्पोस्टिंग #DIY तरीका:

क्या-क्या चाहिए:

  • खाली डिब्बा (1 लीटर से 5 लीटर तक की क्षमता वाले),
  • मिट्टी
  • कोकोपीट
  • सब्ज़ी-फलों के छिलके
  • सूखे पत्ते
  • छाछ
  • लकड़ी का बुरादा आदि

प्रक्रिया:

You need fruits/vegetable peels along with soil, cocopeat, dry leaves, etc.

1. सबसे पहले आप सभी छिलकों को छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लें।
2. अब डिब्बे में सबसे पहले एक मिट्टी की लेयर डालें और फिर एक लेयर कोकोपीट की डालें।
3. अब एक लेयर कटे हुए छिलकों की डालें।
4. अब फिर से एक लेयर मिट्टी की डालें और फिर कोकोपीट की।
5. इस प्रक्रिया को तब तक करें जब तक कि डिब्बा भर न जाए।
6. अब इसमें दो-तीन बूँद ऊपर से छाछ की डालें। अगर छाछ खट्टी हो तो ज्यादा अच्छा है।
7. आप छाछ न होने पर गोबर की स्लरी भी डाल सकते हैं।

अब इन डिब्बों को ऐसी जगह रखने जहां ये बारिश से बचें और चूहे आदि से भी। साथ ही, इनके चारों और अगर आप मैश वायर रख सकते हैं तो भी अच्छा है। बीच-बीच में आप लकड़ी का बुरादा, एप्सोम साल्ट आदि डाल सकते हैं।

2-3 हफ्तों के बाद आप इन डिब्बों पर हल्का-हल्का पानी छिडकें या फिर गिले कपड़े से ढ़क दें। ध्यान रहे कि गलती से भी डिब्बे के ढक्कन को बंद नहीं करना है।

Promotion
Banner

#DIY Container Composting

लगभग एक-डेढ़ महीने बाद आप देखेंगे कि डिब्बों में आपने जो मिट्टी आदि डाली थी वह धीरे-धीरे आधी हो गई है। इसका मतलब है कि खाद तैयार है। अब आप इसमें ही सीधा बीज लगा सकते हैं।

कैसे लगाएं बीज:

  • अगर आप मेथी या फिर वीटग्रास उगाना चाहते हैं तो सबसे पहले मेथी और गेहूँ के कुछ दाने लेकर अलग-अलग कटोरी में रातभर भिगो कर रख दें।
  • अब इन्हें अलग-अलग कपड़ों में बाँध दें। कुछ दिन बाद आपको इनके स्प्राउट्स मिलेंगे।
  • अब इन स्प्राउट्स को आप खाद के डिब्बों में डालें और पानी छिड़कें।

तो देर किस बात की, आज ही शुरू करें यह काम और साझा करें अपने जानने वालों से।

हैप्पी कम्पोस्टिंग एंड हैप्पी ग्रोइंग!

आप यह वीडियो भी देख सकते हैं:


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

Promotion
Banner

देश में हो रही हर अच्छी ख़बर को द बेटर इंडिया आप तक पहुँचाना चाहता है। सकारात्मक पत्रकारिता के ज़रिए हम भारत को बेहतर बनाना चाहते हैं, जो आपके साथ के बिना मुमकिन नहीं है। यदि आप द बेटर इंडिया पर छपी इन अच्छी ख़बरों को पढ़ते हैं, पसंद करते हैं और इन्हें पढ़कर अपने देश पर गर्व महसूस करते हैं, तो इस मुहिम को आगे बढ़ाने में हमारा साथ दें। नीचे दिए बटन पर क्लिक करें -

₹   999 ₹   2999

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है.

जानिए कैसे हेमा, रेखा, जया और सुषमा समेत करोड़ों भारतीयों का फेवरेट बना स्वदेशी ‘निरमा’

chadrapal singh

उगाते हैं जड़ी बूटियों का जंगल, बाँटते हैं मुफ्त गिलोय और लेमन ग्रास से कमाते हैं लाखों