in

वीडियो : इस पुलिस वाले ने अकेले ही एक युवक को गुस्साई भीड़ से बचाया!

YouTube

भारत में पुलिसवालों के नाम से यदि कोई भाव जोड़ा जाता है तो वह है डर और संवेदनहीनता! पर हाल ही में  उत्तराखंड के एक पुलिसवाले ने अपनी संवेदनशीलता से हमारी इस सोच को बदल कर रख दिया है।

उत्तराखंड पुलिस के सब-इंस्पेक्टर गगनदीप सिंह ने रामनगर में एक मुसलमान युवक को भीड़ के हाथों मरने से बचा लिया। एक न्यूज़ रिपोर्ट के मुताबिक यह घटना 22 मई 2018 को हुई जब रामनगर के प्रसिद्द गिरिजा देवी मंदिर में एक युगल छुपकर मिलने आया। दरअसल जब लोगों को पता चला कि लड़की हिन्दू है और लड़का मुस्लमान है तो बवाल खड़ा हो गया।

देखते ही देखते भीड़ इकट्ठा हो गयी और युवक को पीटने लगी। यदि पुलिस सही समय पर नहीं आती तो शायद लड़का भीड़ के हाथों मारा जाता।

इस युवक की जान बचाने का पूरा श्रेय जाता है सब-इंस्पेक्टर गगनदीप सिंह को, जिन्होंने अपनी जान जोख़िम में डालकर भीड़ से इस युवक को बचाया।

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो में देखा जा सकता है कि कैसे गगनदीप उस युवक को थामे हुए भीड़ को समझाने की कोशिश कर रहे हैं। लोग उस युवक को पीटना चाहते हैं पर गगनदीप ने युवक को सीने से लगाया हुआ है, उनकी कोशिश बस इतनी है की युवक  को सुरक्षित बाहर निकाला जाये। बाद में दूसरे पुलिस अफ़सर भी गगनदीप की मदद को आगे आते है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक पुलिस पर पूरा दबाब बनाया गया कि युवक को भीड़ के हवाले कर दिया जाये। पर गगनदीप ने अपनी ड्यूटी करते हुए युवक को छोड़ने से मना कर दिया। इसके बाद भीड़ पुलिस के ख़िलाफ़ भी नारेबाजी करती नज़र आ रही है वीडियो में। आप देखेंगे कि लड़की भी भीड़ के साथ बहस करती नज़र आ रही है।

ख़बरों के अनुसार उस क्षेत्र के प्रभारी पुलिस अफ़सर विक्रम राठोड़ ने घटना की पुष्टि की है और बताया कि दोनों ही युवक व युवती बालिग हैं। 

राजनीती और धर्म से परे हटकर इस घटना में गगनदीप सिंह ने जो हिम्मत और हौसला दिखाया वह सराहनीय है। किसी को भी कानून अपने हाथ में लेने का अधिकार नहीं है और गगनदीप न केवल आम लोगों के लिए बल्कि अन्य पुलिस वालों के लिए भी एक उदाहरण हैं।

नीचे आप सब-इंस्पेक्टर गगनदीप सिंह के सहसनीय कार्य की वीडियो देख सकते हैं।

( संपादन – मानबी कटोच )


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे।

शेयर करे

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है. निशा की कविताएँ आप https://kahakasha.blogspot.com/ पर पढ़ सकते हैं!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

कभी गांव में पशु चराने जाती थी आज है आईएएस अफसर

दिल्ली : सरकारी स्कूलों में सीबीएसई टॉपर है प्रिंस; पिता है डीटीसी बस चालक!