in ,

1976 में सत्यजीत रे की लिखी यह लघु-कथा, हमें टेक्नोलॉजी से तभी आगाह कर चुकी थी!

त्यजीत रे की फिल्मों से मेरा प्रथम परिचय ‘गुपी गाइन, बाघा बाइन’ से हुआ। उस वक़्त एक किशोरी होने के नाते, इस फ़िल्म की जादुई दुनिया में मैं इस कदर खो गयी थी, कि भूतों के राजा पर मेरा विश्वास भगवान से भी बढ़कर हो गया था।

इसके बाद शोनार केला और फेलूदा ने सत्यजीत रे की अजब-गजब कहानियों से जोड़े रखा।
उनकी कहानियां बेशक कल्पनाओं की चरम सीमा पर पहुंचा देती हो, पर उनका आधार हमेशा मानवीयता से ही जुड़ा होता था।

ऐसी ही एक काल्पनिक कहानी है अनुकूल की, जो उनकी साइंस-फिक्शन जॉनर की एक लघु कहानी है।
1976 में लिखी गयी इस कहानी पर सुजॉय घोष ने एक शार्ट फ़िल्म बनाई है। सत्यजीत रे की इस अद्भुत लघुकथा पर आधारित इस फिल्म का नाम है ‘अनुकूल’।

फिल्म की कहानी एक शिक्षक की है जो अपनी जिंदगी को आसान बनाने के लिए ‘अनुकूल’ नाम के रोबोट को घर ले आते है। फ़िल्म में जिस रोबोट को ख़रीद कर वो किसी की नौकरी छीन लेते हैं, वैसे ही एक दिन किसी रोबोट की वजह से उनकी नौकरी छीन ली जाती है।

Promotion

हैरानी की बात यह है कि टेक्नोलॉजी की चरम सीमा पर पहुंचकर, जिन बातों का डर हमें आज सता रहा है, उस डर को, उस ख़तरे को स्ताय्जीत रे आज से 43 साल पहले ही भांप चुके थे।

फ़िल्म में बताया गया है कि टेक्नोलॉजी हमारी चेतना को किस तरह बनावटी चेतना में बदलती जा रही है। तो आइए इस जटिल मनोविज्ञान को समझने के लिए देखते है ‘अनुकूल’ –

Featured Image Source: Pinterest


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर भेज सकते हैं।

शेयर करे

Written by मानबी कटोच

मानबी बच्चर कटोच एक पूर्व अभियंता है तथा विप्रो और फ्रांकफिंन जैसी कंपनियो के साथ काम कर चुकी है. मानबी को बचपन से ही लिखने का शौक था और अब ये शौक ही उनका जीवन बन गया है. मानबी के निजी ब्लॉग्स पढ़ने के लिए उन्हे ट्विटर पर फॉलो करे @manabi5

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

इतवार के इतवार ज़िन्दगी!

बाबा बुल्ले शाह दा टूथपेस्ट!