in

विडियो – भीख मांगकर पाला बेसहारो को! हज़ारो की माई-सिंधुताई सपकाळ!

आज़ादी के महज़ 15 महीनो बाद, देश, चाचा नेहरू का जन्मदिन बाल दिवस के रूप में मना रहा था। इसी दिन यानी 14 नवंबर 1948 को, पिंपरी मेघे, वर्धा गाँव के एक गरीब भैंस चराने वाले अभिमान साठे के घर एक बच्ची का जन्म हुआ। किसी को नहीं पता था कि बाल दिवस के दिन पैदा हुई ये लड़की एक दिन हज़ारो बच्चों की माई बन जायेगी।

आईये इस वीडियो में देखिये माई का अब तक का सफ़र!

शेयर करे

Written by मानबी कटोच

मानबी बच्चर कटोच एक पूर्व अभियंता है तथा विप्रो और फ्रांकफिंन जैसी कंपनियो के साथ काम कर चुकी है. मानबी को बचपन से ही लिखने का शौक था और अब ये शौक ही उनका जीवन बन गया है. मानबी के निजी ब्लॉग्स पढ़ने के लिए उन्हे ट्विटर पर फॉलो करे @manabi5

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

5 दिन की बच्ची को लेकर शहीद पति के अंतिम संस्कार में पहुंची मेजर कुमुद डोगरा को सलाम

मनोज बाजपेयी के गर्दिश के दिनों की साथी : रश्मिरथी!