ऑफर सिर्फ पाठकों के लिए: पाएं रू. 200 की अतिरिक्त छूट ' द बेटर होम ' पावरफुल नेचुरल क्लीनर्स पे।अभी खरीदें
X
शादियों में बनातीं हैं खाना पर TikTok पर इस माँ के रोबोट डांसिंग के हैं 10 लाख+ फैन

शादियों में बनातीं हैं खाना पर TikTok पर इस माँ के रोबोट डांसिंग के हैं 10 लाख+ फैन

“मैं अपने वीडियोज़ में कोई मेकअप नहीं करती, घर के कपड़ों में होती हूँ और अपने छोटे से घर में ही रिकॉर्ड करती हूँ, ताकि मैं उन सब लोगों तक ये बात पहुँचा सकूं कि अगर आप में टैलेंट है तो ये सारी चीज़ें बिल्कुल मायने नहीं रखतीं,” ममता कहती हैं।

शादियों और पार्टियों में खाना बनानेवाली, एक सिक्योरिटी गार्ड की पत्नी और 3 साल की बच्ची की माँ – 1 सितंबर 2019 से पहले बस यही पहचान थी ममता वर्मा की।
  पर फिर उस रोज़ ऐसा क्या हुआ कि ममता रातों-रात एक स्टार बन गयी, जिसे हज़ार नहीं, लाख नहीं बल्कि 10 लाख से ज़्यादा लोग फॉलो करते हैं। हम बात कर रहे हैं मध्यप्रदेश के एक छोटे से नगर, मानपुर की रहनेवाली ममता वर्मा की। ममता शादियों में खाना बनातीं हैं, तो आप सोच रहे होंगे कि उनकी किसी रेसिपी का वीडियो वायरल हुआ होगा। लेकिन नहीं जनाब! ममता तो छायी हुई हैं अपने रोबोटिक स्टाइल डांस के लिए।

1 सितंबर 2019 को ममता ने एक पंजाबी गाने ‘लंबरगिन्नी’ पर अपना पहला डांस वीडियो टिकटोक पर डाला। इसके एक घंटे के भीतर ही उनके इस वीडियो पर 6000 लाइक्स हो चुके थे। और अगली सुबह जब वह उठी तो उन्हें 4 लाख लोग फॉलो कर चुके थे। अगले 2-3 दिन में ही ममता के टिकटोक पर 10 लाख याने की एक मिलियन से ज़्यादा फॉलोवर्स बन चुके थे।


असान नहीं है टिकटोक के बाहर ज़िंदगी

ममता मानपुर में ही पैदा हुई और पली-बढ़ीं। पर बचपन के बारे में पूछते ही उनकी आँखें नम हो जाती हैं। “मेरा बचपन बहुत बुरा बीता। मेरी माँ ने बर्तन मांज-मांजकर हम छह भाई बहनों को पाला है। बचपन के बारे में और क्या बताऊं मैं आपको,” ये कहते हुए ममता सिसकने लगतीं हैं।   ममता के पिता रेलवे में गार्ड की नौकरी करते थे। जीवन संघर्ष से भरा तो पहले भी था। पर जब ममता सिर्फ चार साल की थी, तब उनके पिता चल बसे। छह छोटे-छोटे बच्चों की ज़िम्मेदारी पूरी तरह ममता की माँ पर आ गयी। ज़िंदगी मानों काँटों की शैय्या बन गयी।   अपने बच्चों को पालने के लिए ममता की माँ शादियों और आयोजनों में बर्तन साफ़ करने लगीं। धीरे-धीरे उन्हें खाना बनाने का भी काम मिलने लगा।

“माँ दिन-रात मेहनत करती थीं। उनका एक ही सपना था कि हम सभी भाई बहन पढ़-लिखकर कुछ बन जाएँ। इसलिए वह कभी ये नहीं जताती थी कि वह कितनी तकलीफ में हैं,” ममता कहती हैं।

अपनी माँ और भाई बहनों के साथ ममता

ममता बचपन से ही पुलिस में भर्ती होना चाहती थीं, या फिर एक सिंगर बनना चाहती थीं। पर न तो उन्हें पता था कि इसके लिए उन्हें क्या पढ़ाई करनी है और न ही कोई मार्गदर्शन करने वाला था। फिर भी जैसे-तैसे अपनी माँ की ही तरह मज़दूरी करके ममता ने ग्रैजूएशन तक की पढ़ाई पूरी की। वह आगे भी पढ़ना चाहती थी, लेकिन अपनी माँ के हालात को देखते हुए ममता ने पढ़ाई छोड़ दी।

“हमारे नगर में कोई भी कॉलेज नहीं है। मैंने यहाँ से 20-22 किमी दूर महु (डॉ. आम्बेडकर नगर) से BHSc की। रोज़ बस से जाना पड़ता था, तो उसका किराया, फिर पढ़ाई का खर्चा। मज़दूरी कर करके मैंने कॉलेज की पढ़ाई पूरी की। लेकिन फिर और भी कई खर्चे होते हैं, आसान तो नहीं होता न? माँ अकेले कब तक करतीं, इसलिए मैंने पढ़ाई छोड़ दी,” ममता बतातीं हैं।

ममता अब जॉब करके अपनी माँ का सहारा बनना चाहती थीं। पर मानपुर जैसे छोटे से नगर में जॉब कहाँ से मिलती? और बाहर रहकर नौकरी करतीं तो लोग बातें बनाते।

“यह बहुत छोटा सा नगर है, गाँव ही समझ लिजिए। यहाँ लोगों की सोच भी उतनी ही छोटी है। मेरी माँ जानती थीं कि मैं बाहर नौकरी करूंगी तो लोग बाते करेंगे और मेरी शादी में अड़चने आयेंगी। इसलिए उन्होंने मेरी शादी करा देने का फैसला किया,” ममता ने आगे बताया।
 

साल 2014 में ममता की शादी सूरज वर्मा से हुई, जो सिक्योरिटी गार्ड का काम करते हैं। सूरज महिने के 10-12 हज़ार रुपये कमा लेते हैं, जिससे गुजारा मुश्किल है। इसलिए ममता ने शादी के बाद भी शादियों में खाना बनाने का काम जारी रखा। 2016 में इन दोनों की एक प्यारी सी बेटी हुई।

कहानी शायद यही खत्म हो सकती थी, यह कहते हुए कि ‘..और फिर वे हमेशा खुश रहें…’

 पर पिक्चर अभी बाकी है मेरे दोस्त…

साल 2019

रोटी कपड़ा और मकान के लिए जीवन से संघर्ष जारी था। ममता की बिटिया, रागिनी अब 3 साल की हो चुकी थी। ममता को खाना बनाना अच्छा तो नहीं लगता था, पर महंगाई के आगे गरीब की इच्छा-अनइच्छा कहाँ मायने रखती है। वह अब भी शादियों में, आयोजनों में खाना बनातीं रहीं।

 कमाने और खाने में ही ज़िंदगी बीत रही थी, कि एक दिन अचानक ममता की पड़ोस में रहने वाली एक बच्ची ने ममता की बेटी, रागिनी को एक TikTok वीडियो दिखाया। देखकर वह खूब हंसी।

  अब रागिनी रोज़ अपनी माँ से उस वीडियो को दिखाने की फर्मायिश करती। थककर ममता ने एक दिन ये ऐप अपने मोबाइल में भी डाउनलोड कर लिया। इन वीडियोज़ को देखकर ममता को भी मज़ा आने लगा था। शुरु-शुरु में तो वह इन्हें सिर्फ देखती थीं। फिर खुद ट्राई भी करने लगीं।
पर उन्हें ज़्यादा से ज़्यादा 3-4 लाइक मिल जाते।

फिर एक दिन रात को टीवी पर आ रहे डांस प्लस शो में अमरदीप सिंह नट का रोबोटिक स्टाइल देखकर ममता बहुत प्रभावित हुई। अगले ही दिन उन्होंने मशहूर पंजाबी गाने, लंबरगिन्नी पर इसी डांस स्टाइल में डांस किया और इसे टिकटोक पर अपलोड कर दिया।

यह वीडियो ऐसा वायरल हुआ कि ममता रातों-रात TikTok स्टार बन गयीं।

 “मैंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि मेरा डांस लोगों को इतना पसंद आएगा। सच कहूँ तो मुझे तो डांस आता भी नहीं है। पर लोगों का इतना प्यार देखकर मैं अपनी सारी टेंशन भूल जाती हूँ। शायद ये पहली ऐसी चीज़ है जिसे करते हुए मुझे इतनी खुशी हो रही है,” ममता कहती हैं।

 ममता का मानना है कि हमारे देश में टैलेंट की कोई कमी नहीं है। हमारे गाँव, झुग्गियां इन सब में टैलेंट का खज़ाना है खज़ाना। दिन भर घर का काम करने वाली गृहणियों की कला हो या भट्टी पर काम करते बच्चों का टैलेंट, ये सब अक्सर छुप कर ही रह जाते हैं, क्योंकि ये सभी दुनिया के सामने आने से शर्माते हैं। ये सोचकर कि ये दिखने में साधारण से है, या इनके पास अच्छे कपड़ें नहीं है या फिर ये किसी खूबसूरत लोकेशन पर जाकर अपनी वीडियो नहीं बना सकते।

 “मैं अपने वीडियोज़ में कोई मेकअप नहीं करती, घर के कपड़ों में होती हूँ और अपने छोटे से घर में ही रिकॉर्ड करती हूँ, ताकि मैं उन सब लोगों तक ये बात पहुँचा सकूं कि अगर आप में टैलेंट है तो ये सारी चीज़ें बिल्कुल मायने नहीं रखतीं,” ममता कहती हैं।

ममता सभी कलाकारों से बस यही कहना चाहतीं हैं कि वे किसीसे भी अपनी तुलना न करें, बस जैसे हैं वैसे ही रहें।

 तो, एक मिलियन फैन्स के बाद क्या बदला?

 जब हम ममता से ये सवाल पूछते हैं, तो वह हँसते हुए कहती हैं, “बस पहले मैं सबकुछ अच्छे से समेट के रखती थी। अब मेरा सारा घर बिखरा हुआ रहता है। सारा वक़्त वीडियो बनाने में और लोगों के कमेंट्स पढ़ने में निकल जाता है।”   पर फिर गम्भीर होते हुए वह बताती हैं, “सबसे बड़ा बदलाव यह है कि अब मैं बहुत खुश रहती हूँ। प्रॉब्लम्स उतनी ही हैं जितनी पहले थीं। पर अब मेरे पास टाईम ही नहीं होता उनके बारे में सोचने का।”

 आजकल लॉकडाउन की वजह से ममता घर पर ही हैं। दरअसल ये शादियों का सीज़न होता है और इस समय सामान्य हालातों में ममता की अच्छी कमाई हो जाया करती थी। पर अब उन्हें जितना है उतने में ही गुजारा करना पड़ रहा है। पर ममता खुश है कि उन्हें ये समय अपनी मनपसंद वीडियो बनाने को और अपने परिवार के साथ वक़्त बिताने को मिल रहा है।

मौका मिलने पर ममता किसी प्रोफेशनल से डांस सीखना चाहती हैं।  तो, यदि आप ममता को निःशुल्क ट्रेनिंग दे सकते हैं तो हमें manabi@thebetterindia.com पर ज़रूर लिखें।

और हाँ TikTok पर ममता को फॉलो करना न भूलें।  उनका आईडी है – mamtaverma000210290   हम कामना करते हैं कि ममता एक दिन उन उंचाईयों तक ज़रूर पहुंचे, जिसकी वह हक़दार हैं। यह भी पढ़ें –दूसरों के घरों में काम करके इस माँ ने बेटे को पहुँचाया इसरो तक!


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com(opens in new tab) पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

मानबी कटोच

मानबी बच्चर कटोच एक पूर्व अभियंता है तथा विप्रो और फ्रांकफिंन जैसी कंपनियो के साथ काम कर चुकी है. मानबी को बचपन से ही लिखने का शौक था और अब ये शौक ही उनका जीवन बन गया है. मानबी के निजी ब्लॉग्स पढ़ने के लिए उन्हे ट्विटर पर फॉलो करे @manabi5
Let’s be friends :)
सब्सक्राइब करिए और पाइए ये मुफ्त उपहार
  • देश भर से जुड़ी अच्छी ख़बरें सीधे आपके ईमेल में
  • देश में हो रहे अच्छे बदलावों की खबर सबसे पहले आप तक पहुंचेगी
  • जुड़िए उन हज़ारों भारतीयों से, जो रख रहे हैं बदलाव की नींव