in ,

अच्छे मूड के लिए अपनी डाइट में शामिल करें ये 5 चीज़ें!

सिर्फ सेहत के लिए नहीं, अपनी ख़ुशी के लिए भी खाइये!

शारीरिक और मानसिक, दोनों रूप से सेहतमंद रहने के लिए बहुत ज़रूरी है कि हम पोषण से भरपूर आहार लें। और यह सिर्फ हम नहीं कह रहे बल्कि यह बात ‘न्यूट्रिशनल न्यूरोसाइंस’ जर्नल की एक स्टडी ने साबित भी किया है।

यदि आपका खाना-पीना सही न हो तो इसका सीधा असर आपकी मेन्टल हेल्थ पर भी होता है। बहुत बार खाने-पीने की गलत आदतों की वजह से हमें तनाव हो जाता है। इसलिए स्टडी के मुताबिक, इस तनाव से बाहर निकलने का सबसे अच्छा तरीका है कि हम अपने खाने में कुछ ज़रूरी पोषक तत्वों को शामिल करें।

हम आज आपको ऐसे कुछ तरीके बता रहे हैं जिससे कि आप अपनी ज़िंदगी में ज़्यादा से ज़्यादा पोषण शामिल कर सकते हैं। इन सभी खाद्य पदार्थों में एंडोर्फिन और सेरोटोनिन की भरपूर मात्रा है- इन दोनों को ‘फील गुड’ केमिकल भी कहा जा सकता है। एंडोर्फिन और सेरोटोनिन, उन तमाम केमिकल्स में से हैं जो कि हमारा दिमाग समय-समय पर रिलीज़ करता है तनाव और उदासी को कम करने के लिए। ये केमिकल्स हमारी ख़ुशी की भावना को बढ़ाते हैं और इसलिए इन्हें ‘फील गुड’ केमिकल कहते हैं।

‘हैप्पी फ़ूड’ से करें दिन की शुरुआत:

दिन का पहला खाना, यानी कि नाश्ता- हमेशा ही पोषण से भरपूर होना चाहिए। इसलिए सुबह आपको डार्क चॉकलेट, केला और ओट्स जैसी चीज़ें खाना चाहिए क्योंकि इनमें प्राकृतिक रूप से ही ‘फील गुड’ तत्व होते हैं।

अपने दिन के पहले मील को खुशनुमा बनाने के लिए बस एक रात पहले ये ‘बनाना चॉकलेट ओवरनाइट ओट्स‘ भिगोइये और सुबह नाश्ते में खाइये। और फिर देखिये, आप पूरा दिन एनर्जेटिक महसूस करेंगे।

छोटी भूख के लिए हैं ये स्मार्ट स्नैक:

अक्सर शाम के वक़्त लगने वाली छोटी भूख को नजर-अंदाज करना हमारे शरीर पर बुरा असर डालता है। यदि आप जॉब करते हैं या फिर पढ़ाई, अच्छा यही है कि आप अपने पास हमेशा ऐसे स्नैक्स रखें जो कि हेल्दी भी हों और लाइट भी।

इसलिए आज ही खरीदिए ब्राज़ील नट्स– क्रीमी टेस्ट और पोषण से भरपूर ये नट्स आपको तनाव और चिड़चिड़ेपन से कोसों दूर रखेंगे।

एक फुल-हेल्दी डाइट:

एक अच्छी मील में दाल होनी ही चाहिए क्योंकि इसमें कॉम्प्लेक्स कार्बोहाइड्रेट्स होते हैं, जो सेरोटोनिन बढ़ाने के लिए अच्छा विकल्प है। दादी-नानी के मुताबिक भी यह बहुत सेहतमंद है। इसलिए अपनी डाइट में दाल-चावल के और भी ऑप्शन शामिल करें।

Promotion

फटाफट पक जाने वाले दाल-चावल पोषण के मामले में किसी से कम नहीं। इसलिए आप चावल की अलग-अलग वैरायटी के साथ एक्सपेरिमेंट कर सकते हैं जैसे कि ब्लैक राइस यानी कि काले चावल।

सबसे ज़रूरी… पानी:

अब आप कोला पियें या फिर डाइट कोला- दोनों में से कोई भी हमारी सेहत के लिए अच्छा नहीं है। बल्कि आज ही अपना लक्ष्य बनाएं कि इस साल से आप एयरेटड ड्रिंक पीना छोड़ देंगे।

इसलिए आज से ही दिन में आने वाले आलस का इलाज करने के लिए ऐसा कोई विकल्प ढूंढे जो मुफ्त हो और साथ ही सेहतमंद भी। वैसे, हम गारंटी से कह सकते हैं कि इसके लिए पानी से अच्छा कुछ नहीं।

बस आपको अपनी लाइफस्टाइल में थोड़ी सी तब्दीली करनी है जैसे कि आप पानी प्लास्टिक के नहीं तांबे की बोतल में रखिए। तांबे के पोषक तत्व हमारी शारीरिक और मानसिक सेहत के लिए बहुत ही अच्छे हैं।

डार्क चॉकलेट:

चॉकलेट जितनी डार्क हो, उतनी ही हमारे लिए अच्छी है। वैसे तो शुगर वाले पदार्थों से तौबा करनी चाहिए पर अगर कभी मन हो तो सबसे बेहतर विकल्प, ऑर्गेनिक डार्क चॉकलेट हैं। अगर इसमें निम्बू, अदरक जैसे प्राकृतिक तत्व मिले हो तो और भी बढ़िया।

तो बस आज से ही अच्छी सेहत और हैप्पी मूड के लिए खाना खाइये!

मूल लेख: चारू चौधरी

कवर फोटो

संपादन – मानबी कटोच 


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

Promotion

देश में हो रही हर अच्छी ख़बर को द बेटर इंडिया आप तक पहुँचाना चाहता है। सकारात्मक पत्रकारिता के ज़रिए हम भारत को बेहतर बनाना चाहते हैं, जो आपके साथ के बिना मुमकिन नहीं है। यदि आप द बेटर इंडिया पर छपी इन अच्छी ख़बरों को पढ़ते हैं, पसंद करते हैं और इन्हें पढ़कर अपने देश पर गर्व महसूस करते हैं, तो इस मुहिम को आगे बढ़ाने में हमारा साथ दें। नीचे दिए बटन पर क्लिक करें -

₹   999 ₹   2999

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है.

जंगल मॉडल खेती: केवल 5 एकड़ पर उगाए 187 किस्म के पेड़-पौधे, है न कमाल?

हर महीने बचाते हैं कुछ पैसे, ताकि गरीब बच्चों का जीवन संवार सकें!