in ,

प्लास्टिक से लड़ता एक परिवार: पत्नी बनातीं हैं कपड़े के थैले, पति और बच्चे मुफ्त बांटते हैं लोगों में!

बैरागी परिवार अब तक 1000 कपड़े के थैले को बांट चुका है।

bairagi__1_
सुरेंद्र बैरागी व परिवार।

क्या अपने कभी गौर किया है कि हर रोज़ आप प्लास्टिक से बनी कितनी चीज़ों का उपयोग करते हैं, टूथब्रश से सुबह ब्रश करना हो या ऑफिस में दिन भर कम्प्यूटर पर काम, बाज़ार से कोई सामान लाना हो या टिफिन और वॉटर बॉटल में खाना व पानी लेकर चलना। प्लास्टिक हर जगह है, हर समय है। पॉलिथीन और प्लास्टिक गाँव से लेकर शहर तक लोगों की सेहत बिगाड़ रहे हैं। शहर का ड्रेनेज सिस्टम अक्सर पॉलिथीन से भरा मिलता है। इसके चलते नालियाँ और नाले जाम हो जाते हैं। हम सभी जानते है कि प्लास्टिक से होने वाली यह समस्याएं बेहद गम्भीर है, प्लास्टिक को पूरी तरह से खत्म होने में 500 से 1,000 साल तक लगते हैं लेकिन हम इस समस्या को ख़त्म करने के लिए क्या कर रहे हैं?

प्लास्टिक एवं पॉलिथीन से होने वाले नुकसान को देखते हुए रायपुर के एक परिवार ने प्लास्टिक के खिलाफ जंग छेड़ी है। छत्तीसगढ़ के रायपुर में रहने वाले सुरेंद्र बैरागी और उनके परिवार ने शहर को प्लास्टिक मुक्त करने के लिए एक नेक पहल की शुरुआत की है। सुरेंद्र की पत्नी आशा पुराने कपड़े, चादर या फिर अनुपयोगी कपड़ों से थैला सिलने का कार्य करती हैं, वही सुरेंद्र अपने मित्रों और बच्चों के साथ इन थैलों को बाज़ार में बाँट देते हैं।

 

अपने परिवार के सदस्य और मित्रों के साथ वह हर शाम बाज़ार जाते हैं और कपड़े के थैले बांटते हैं। साथ ही लोगों से पॉलिथिन का उपयोग बंद करने के लिए निवेदन भी करते हैं।

surendra bairagi raipur
बाज़ार में कपड़े का थैला बांटते सुरेंद्र ।

इस नेक कार्य की शुरुआत उन्होंने 15 अगस्त 2019 से की थी। सुरेंद्र बताते हैं, “हम दोनों पति-पत्नी टीवी देख रहे थे, प्रधानमंत्री ने इस दौरान लोगों से अपील करते हुए कहा कि वह पॉलिथिन का इस्तेमाल न करें और दुकानदारों से भी ऐसा ही करने को कहा। प्रधानमंत्री ने कहा कि आपको कपड़े के थैले का इस्तेमाल करना चाहिए।”

प्रधानमंत्री की इस बात को सुनकर सुरेंद्र और उनकी पत्नी आशा ने निर्णय लिया कि वे अब शहर को प्लास्टिक मुक्त करने के लिए काम शुरू करेंगे। उसी दिन आशा ने 60 कपड़े के थैले बनाए और पास के सब्ज़ी बाज़ार में लोगों को बांट दिए।

surendra bairagi
कपड़े के थैले।

उन्होंने थैले के साथ-साथ लोगों से हाथ जोड़कर अपील भी की, कि कृपा करके कपड़े से बना हुआ थैला उपयोग करे। इस दंपत्ति ने जब यह मुहिम शुरू की तब वे दोनों ही थे, लेकिन आज उनके साथ लगभग 30 लोग जुड़ गए हैं जो बिना किसी स्वार्थ के काम कर रहे हैं। सुरेंद्र एक सरिया बनाने वाली कम्पनी में काम करते हैं। उनको आस-पड़ोस, दोस्तों, रिश्तेदारों आदि से पुराने कपड़े मिल जाते हैं।

सुरेंद्र कहते हैं, “मुझे मालूम है कि मैं अकेले पूरे शहर को पॉलिथिन मुक्त नहीं कर सकता, लेकिन मैं अपने स्तर पर कुछ तो बेहतर करने का प्रयास कर ही सकता हूँ।”

Promotion

सुरेंद्र का मानना है कि हम सभी समाधान का हिस्सा बनें। हर शहर में लोग पॉलिथिन का उपयोग बंद कर दें, कोशिश करें कि हमारी आदत में बदलाव आए। जो ऐसे थैले बनाकर लोगों को वितरित कर सकते हैं, वह यह काम करें।

surendra bairagi
सुरेंद्र बैरागी एवं उनका परिवार।

सुरेंद्र और उनका परिवार अब तक 1000 थैले बनाकर वितरित कर चुका है, इसके साथ-साथ हर रोज़ नए लोग इस मुहिम से जुड़ रहे हैं। उनकी योजना है कि आने वाले 2 महीने में तीन हज़ार थैले बांटे जाएंगे और आगे भी यह प्रयास जारी रखेंगे।

सुरेंद्र की पत्नी आशा कहती हैं, “जब देखती हूँ मेरे प्रतिदिन दो घंटे की मेहनत से कुछ लोग अपनी आदत को बदलकर पॉलिथिन का उपयोग बंद कर रहे हैं तो बहुत अच्छा लगता है। बहुत लोग कहते हैं कि तुम्हारे अकेले के थैला बनाने और बाँटने से क्या होगा, तो मैं कहती हूँ आप भी जुड़ जाइए हमारे साथ इस कार्य में तो हम अकेले नहीं रहेंगे।”

 

आशा घर का काम करने के बाद थैले बनाने का काम करती हैं और अब तो उनके बच्चे भी इस काम में उनकी मदद करने लगे हैं।

surendra bairagi
घर में कपड़े का थैला बनाता सुरेंद्र का परिवार।

इस मुहिम का असर भी दिखने लगा है, पास के बाज़ार में अब लोग कपड़े के थैले उपयोग करने लगे हैं। इसके साथ-साथ सब्ज़ी और फल बेचने वाले भी ग्राहकों को पॉलिथीन उपयोग करने के लिए मना करने लगे हैं। सुरेंद्र बताते हैं कि उनके दोस्त एवं पड़ोस के लोगों ने खुद तो पॉलिथिन का उपयोग बंद किया ही है और साथ ही दूसरों को भी प्रेरित कर रहे हैं।

निश्चित ही सुरेंद्र के इस प्रयास की सराहना होनी चाहिए, शासन-प्रशासन नियम बना सकते हैं किन्तु समाज को बेहतर बनाने के लिए एक आम आदमी को अपने ज़िम्मेदारियों को ईमानदारी से निभाना चाहिए।

सुरेंद्र बैरागी एवं उनके परिवार के इस कार्य को सलाम।

अगर आपको सुरेंद्र बैरागी की यह मुहिम अच्छी लगी और आप उनसे जुड़ना चाहते हैं तो 97133 80001 पर सम्पर्क कर सकते हैं।

संपादन  – भगवती लाल तेली 


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

शेयर करे

mm

Written by जिनेन्द्र पारख

जिनेन्द्र पारख हिदायतुल्लाह राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय, रायपुर के छात्र हैं. छत्तीसगढ़ के राजनांदगांव से आते हैं. इनकी रुचियों में शुमार है – समकालीन विषयों पर पढ़ना, लिखना जीवन के हर हिस्से को सकारात्मक रूप से देखना , इतिहास पढ़ना एवं समझना.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

गाँव में उपलब्ध साधनों से ही की पानी की समस्या हल, 25 साल में 500 गांवों की बदली तस्वीर!

operation sulaimani

Video : IAS अफसर की अनोखी पहल, अब कोई नहीं सोता भूखा यहां!