ऑफर सिर्फ पाठकों के लिए: पाएं रू. 200 की अतिरिक्त छूट ' द बेटर होम ' पावरफुल नेचुरल क्लीनर्स पे।अभी खरीदें
X
90 किमी/चार्ज : इस इलेक्ट्रिक बाइक को कर सकते हैं घर-ऑफिस में भी चार्ज!

90 किमी/चार्ज : इस इलेक्ट्रिक बाइक को कर सकते हैं घर-ऑफिस में भी चार्ज!

इसमें रिमूवेबल लिथियम आयन बैटरी लगाई गयी है और इसे पूरा चार्ज होने में 4 घंटे का समय लगता है!

क्टूबर 2018 में लॉन्च हुआ, ‘जेमोपाई रायडर’ एक इलेक्ट्रिक स्कूटर है जो कि ईंधन से चलने वाले दुपहिया वाहनों का एक अच्छा विकल्प है। इस स्कूटर को लॉन्च किया है उत्तर प्रदेश के नोएडा में स्थित कंपनी ‘जेमोपाई इलेक्ट्रिक्स’ ने। जेमोपाई इलेक्ट्रिक्स, दिल्ली के स्टार्टअप ‘गोरीन ई-मोबिलिटी’ और 15 साल से इलेक्ट्रिक व्हीकल के क्षेत्र में काम कर रही ‘ओपाई इलेक्ट्रिक कंपनी’ का जॉइंट वेंचर है।

जेमोपाई रायडर लिथियम आयन बैटरी से चलने वाला एक स्कूटर है, जिसकी कीमत लगभग 60 हज़ार रुपए है। पूरे देश में 50 से भी ज़्यादा डीलरशिप के साथ, यह इलेक्ट्रिक स्कूटर सही मायनों में ग्रीन मोबिलिटी की तस्वीर को सच कर रहा है।

जेमोपाई इलेक्ट्रिक्स के को-फाउंडर अमित राज सिंह ने द बेटर इंडिया से बताया कि जेमोपाई रायडर की लिथियम आयन बैटरी को चार्ज करने के लिए बाहर भी निकाला जा सकता है, क्योंकि यह रिमूवेबल बैटरी है। यह इलेक्ट्रिक स्कूटर एक चार्जिंग के बाद 90 किमी तक चल सकता है।

जेमोपाई रायडर (साभार: जेमोपाई इलेक्ट्रिक्स)

पांच रंगों में उपलब्ध इस स्कूटर में और भी बहुत-सी खूबियां है जैसे कि हाइड्रोलिक सस्पेंशन, डिस्क ब्रेक्स, डिजिटल स्पीडोमीटर, एलईडी हेडलाइट, कीलेस एंट्री, एंटी-थेफ़्ट अलार्म और मोबाइल के लिए यूएसबी चार्जिंग का विकल्प आदि। इसके अलावा, इस इलेक्ट्रिक स्कूटर को बहुत ज़्यादा सर्विस की ज़रूरत भी नहीं होती है।

लेकिन जब भी हम इलेक्ट्रिक वाहनों की बात करते हैं तो भारत में सबसे बड़ी समस्या है चार्जिंग की। बैटरी चार्ज होने में कितना वक़्त लेती है और फिर हर जगह चार्जिंग की सुविधा भी नहीं मिल पाती है क्योंकि भारत में अधिकांश जगहों पर इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए चार्जिंग स्टेशन नहीं है। ऐसे में, इलेक्ट्रिक वाहन बनाने वाली ज़्यादातर कंपनियों की कोशिश यह रहती है कि वे इन वाहनों में रिमूवेबल बैटरी लगाए।

इस बारे में बात करते हुए सिंह ने आगे कहा, “इलेक्ट्रिक स्कूटर के बारे में ग्राहकों का सबसे ज़रूरी सवाल बैटरी ही होता है। इसलिए जब हमने रायडर लॉन्च की तो सबसे पहले हमने इस समस्या को हल करने के लिए बैटरी को रिमूवेबल और छोटा बनाया। हमारी बैटरी काफ़ी हल्की है लेकिन उसकी क्षमता काफ़ी अच्छी है, लिथियम आयन बैटरी पोर्टेबल है और चार्ज की जा सकती है। अब हम दो और इलेक्ट्रिक स्कूटर लॉन्च करने की सोच रहे हैं ताकि अपने पोर्टफोलियो को बढ़ा सकें।”

आप इस स्कूटर की बैटरी को 4 घंटे में पूरा चार्ज कर सकते हैं और इस बैटरी को घर, ऑफिस और तो और लैपटॉप से भी चार्ज कर सकते हैं!

मैन्युफैक्चरिंग यूनिट नोएडा में स्थित है (साभार: जेमोपाई इलेक्ट्रिक्स)

रिमूवेबल लिथियम आयन बैटरी बारे में द फाइनेंसियल एक्सप्रेस के एडिटोरियल में भी लिखा है,

“…रिमूवेबल बैटरी आने से लोगों के लिए चीज़ें आसान हुई है क्योंकि इसे कहीं भी चार्ज किया जा सकता है। ज़रूरी नहीं कि आप वाहन को भी वहां तक लेकर जाएं, इससे न सिर्फ़ वक़्त बचता है बल्कि आपको कोई चार्जिंग पॉइंट ढूंढने में भी मेहनत करने की ज़रूरत नहीं पड़ती। बैटरी को चार्ज होने में भी ज़्यादा समय नहीं लगता है, यह सिर्फ 2 से 4 घंटों में चार्ज हो सकती है। जब आप लंबी यात्रा करते हैं तो सुविधा के लिए मॉल, रेस्तरां आदि भी चार्जिंग स्टेशन के एक विकल्प के तौर पर इस्तेमाल कर सकते हैं। वाहन की क्षमता पर फोकस करके और बैटरी बदलने की सुविधा देकर, इलेक्ट्रिक वाहनों की प्रति किमी लागत भी कम होकर ईंधन से चलने वाले वाहनों के बराबर हो गई है।”

इस बात में कोई शक नहीं है कि परिवहन का भविष्य इलेक्ट्रिक है, ख़ासकर शहरी क्षेत्रों में। अच्छी चार्जिंग क्षमता, स्पीड (ज़्यादा ट्रैफिक वाली जगहों पर) और अन्य फीचर के साथ, जेमोपाई रायडर आपके पेट्रोल-डीज़ल से चलने वाले स्कूटर का एक अच्छा विकल्प है। फ़िलहाल तो सवाल बस यह है कि अब कितनी जल्दी ग्राहक अपने पुराने वाहनों को छोड़ इलेक्ट्रिक वाहन अपनाने के लिए तैयार होते हैं।

संपादन: भगवती लाल तेली
मूल लेख: रिनचेन नोरबू वांगचुक 


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है.
Let’s be friends :)
सब्सक्राइब करिए और पाइए ये मुफ्त उपहार
  • देश भर से जुड़ी अच्छी ख़बरें सीधे आपके ईमेल में
  • देश में हो रहे अच्छे बदलावों की खबर सबसे पहले आप तक पहुंचेगी
  • जुड़िए उन हज़ारों भारतीयों से, जो रख रहे हैं बदलाव की नींव