in , ,

यूट्यूब से हर महीने 2 लाख रुपए कमाता है हरियाणा का यह किसान!

आज दर्शन सिंह की बदौलत देश के सुदूर हिस्से में बसे किसानों को उस तकनीक और तरीके को समझने का मौका मिला है जिसे सफल किसान अपना रहे हैं।

darsan singh farming leader
1 मिलियन सब्सक्राइबर्स होने पर ख़ुशी मनाते दर्शन सिंह।

रियाणा के किसान दर्शन सिंह प्रतिमाह लगभग दो लाख रुपए कमाते हैं,

लेकिन खेती से नहीं।

तो आप पूछेंगे कैसे?

YouTube से

जी हाँ, आपने सही सुना।

अम्बाला जिले के नारायणगढ़ तहसील के पाटवी गाँव के रहने वाले दर्शन का चैनल फार्मिंग लीडर YouTube पर सबसे प्रभावशाली कृषि चैनलों में से एक है। अपने लॉन्च के एक साल के अंदर ही यह 2 मिलियन से अधिक सब्सक्राइबर्स हासिल करने में कामयाब रहा है और हर दिन लाखों लोग इनके चैनल पर वीडियोज देखते हैं।

इनोवेटिव, देसी खेती के जुगाड़ से लेकर फसलों को उगाने के विज्ञान तक, डेयरी फार्मों की स्थापना और कृषि उत्पादों की समीक्षा करने के लिए, दर्शन का चैनल किसानों के उन सभी जवाबों को खोजने के लिए एक मंच है, जिनकी उन्हें आवश्यकता है।

एक कृषि परिवार में पले बढ़े दर्शन को पता था कि वे खेती को एक पेशे के रूप में आगे बढ़ाना चाहते हैं। 2015 तक, उन्होंने पढ़ाई के साथ ही अपने 12 एकड़ के खेत में कृषि का अभ्यास करना शुरू कर दिया।

 

ऐसे समय में जब उनके आस-पास के अधिकांश किसान रासायनिक खेती कर रहे थे, तब दर्शन ने जैविक खेती करने का फैसला किया।

darsan singh farming leader
दर्शन सिंह।

हालाँकि अब दर्शन ने अपने खेत का काम एक दोस्त को हस्तांतरित कर दिया है, जिनके साथ वे पार्टनरशिप में औषधीय खेती कर रहे हैं।

जब उनसे पूछा गया कि YouTube चैनल शुरू करने का विचार उन्हें कैसे आया, तो वे कहते हैं, “एक आवश्यकता से।”

“2017 में, मैंने अपनी आय को बढ़ाने के लिए डेयरी फार्मिंग शुरू करने का फैसला किया, तब मेरे सामने अपने मवेशियों को प्रशिक्षित करने से लेकर सही तरह का चारा तैयार करना, उनका इलाज आदि करना, जैसी कई तरह की चुनौतियां थी। ऐसे में जब मैंने इसके समाधान के लिए ऑनलाइन चीज़ें सर्च करनी शुरू की तो इंटरनेट पर ऐसी सामग्री मिली जिसमें खेती के बारे में कोई विस्तार से जानकारी नहीं थी।”

ऐसे में एक किसान के रूप में दर्शन ने महसूस किया कि कुछ सीखने का एकमात्र तरीका यह है कि इसे मौके पर ही जाकर देखा जाए। इसलिए उन्होंने पंजाब और हरियाणा के सफल किसानों से मिलना शुरू कर दिया। अपनी यात्रा के दौरान, दर्शन ने खेती से जुड़ी ऐसी चीज़ों के बारे में सोचना शुरू किया जो सुलभ हो सकती थी और किसानों को लाभान्वित कर सकती थी।

darshan singh farming leader
किसानों के साथ दर्शन सिंह।

सफल किसानों से मिलने के दौरान उन्हें इन किसानों की सफलता और इनके द्वारा अपनाए गए तरीके दूसरे किसानों तक पहुंचाने का ख्याल आया।

“मैंने सोचा कि क्यूँ न मैं उन सफल किसानों के वीडियो रिकॉर्ड करना शुरू करूँ, जिनसे मैं मिलता हूँ और उन्हें YouTube पर पोस्ट करूँ?,”दर्शन ने कहा।

दर्शन ने चैनल बनाया और वीडियो पोस्ट करने लगे। इस प्रकार, फार्मिंग लीडर की शुरुआत सितंबर 2017 में हुई।

दर्शन शुरुआत में अपने फोन पर ही वीडियो शूट करते थे। लोगों की अच्छी प्रतिक्रिया को देखते हुए उन्होंने एक कैमरा व लैपेल माइक खरीदा और सप्ताह में तीन से चार वीडियो पोस्ट करना शुरू कर दिया। यह काम वे खेती के दौरान ही कर रहे थे। चैनल लॉन्च होने के छह महीने के अंदर ही उनके वीडियोज को लाखों व्यूज मिलने लगे और मार्च 2018 तक चैनल मॉनिटाइज भी हो गया।

 

दर्शन को जब YouTube से होने वाली आय खेती की कमाई से अधिक लगी, तो उन्होंने YouTube को अपना पूर्णकालिक पेशा बनाने का फैसला किया। आज उनके चैनल पर 500 से अधिक वीडियोज हैं।

darsan singh farming leader
1 मिलियन सब्सक्राइबर्स होने पर ख़ुशी मनाते दर्शन सिंह।

इन वीडियोज ने किसानों के जीवन पर जो प्रभाव डाला, उसे समझने के लिए ‘द बेटर इंडिया’ ने ऐसे दो किसानों से संपर्क किया, जो अब अपने गांवों में मिनी YouTube स्टार बन गए थे।

Promotion

सिरसा, हरियाणा में एसआर कमर्शियल बकरी फार्म के मालिक संदीप सिंह, जिनके वीडियो ने 1.4 मिलियन व्यू प्राप्त किए हैं, कहते हैं:

“दर्शनजी ने हमारे वीडियो को 1.5 साल पहले शूट किया था, उसके बाद जिस तरह की प्रतिक्रिया हमें मिली, वह मन को लुभाने वाली थी। हमारे ग्राहकों की मांग इस हद तक बढ़ गई है कि हमारे लिए उनसे मिलना मुश्किल हो रहा है। YouTube के माध्यम से हम सात से अधिक राज्यों के किसानों को प्रशिक्षित करते हैं। उन्होंने हमें अपना YouTube चैनल बनाने में भी मदद की, जिसके अब 40,000 सब्सक्राइबर्स हैं।”

संदीप सिंह की तरह ही हरविलास सिंह के वीडियो को भी 5 मिलियन बार देखा गया है। हरविलास सिंह डेयरी फार्म क्षेत्र में वर्षों से काम कर रहे हैं और ऐसी तकनीकों को अपना रहे हैं जिससे मवेशी स्वस्थ रहें। वीडियो आने से पहले उनके काम के बारे में कोई नहीं जानता था। लेकिन दर्शन सिंह के चैनल पर वीडियो आने के बाद देश भर से उनके पास कॉल आते हैं। वीडियो ने उनके व्यापार को तीन गुना बढ़ा दिया है।

darshan singh farming leader
एक खेत पर वीडियो शूट करने से पूर्व दर्शन सिंह।

दर्शन की खासियत यह है कि वे क्लिकबाइट सामग्री बनाते हैं यानी जिसे देखते ही उस पर क्लिक करने का मन करे। वह किसानों के पास जाते हैं, उनकी खेती की प्रक्रिया को पूरा समझते हैं। उसके बाद ही वह वीडियो को अपने चैनल पर अपलोड करने का फैसला करते हैं।

सबसे यादगार शूटिंग के अनुभवों में से एक को याद करते हुए, दर्शन कहते हैं,

“एक बार जब मैं एक किसान कार्यक्रम के लिए जयपुर गया, तो मुझे पूरे राजस्थान के कुछ सबसे सफल और प्रेरणादायक किसानों से मिलने का सौभाग्य मिला। उन्होंने अपने क्षेत्रों में जिन तकनीकों और नवाचारों को शामिल करने में कामयाबी हासिल की थी, उससे साबित होता है कि किसान सचमुच कृषि-वैज्ञानिक हैं। एक दिन में मैंने 30 से अधिक किसानों का साक्षात्कार लिया। उन वीडियोज में से प्रत्येक में लगभग एक मिलियन व्यूज हैं।”

दर्शन सिंह उन विषयों को समझने के लिए बड़े पैमाने पर यात्रा करते हैं जिनके बारे में किसान अधिक जानना चाहते हैं। अक्सर, वह विभिन्न चैनलों या फेसबुक पर सफल किसानों की कहानियां देखते और पढ़ते रहते हैं। इस दौरान अगर उन्हें लगता है कि वह किसान कुछ अनोखा और अलग कर रहे हैं और उनकी विधि सफल और नैतिक है तो वे उनसे संपर्क कर शेड्यूल तय करते हैं।

 

कभी-कभी किसान की व्यस्तता के चलते इसमें हफ़्तों लग जाते हैं, लेकिन जब वीडियो शूट हो जाता है तो उसे एक दिन में ही एडिट कर अपलोड कर दिया जाता है।

darshan singh farming leader
वीडियो शूट करने के दौरान अपने सहयोगी के साथ दर्शन सिंह।

दर्शन हमेशा सीखने की कोशिश करते रहते हैं। उनका ध्यान हमेशा प्रामाणिक जानकारी देने पर रहता है ताकि किसान को कोई गलत या भ्रामक जानकारी नहीं मिले।

अपनी बात के अंत में दर्शन किसानों के लिए विपणन की आवश्यकता पर जोर देते हैं। वे कहते हैं कि किसान हमारी सभी बुनियादी जरूरतों को पूरा करते हैं। इसमें कोई संदेह नहीं है कि भारतीय किसान कुछ भी उगा सकते हैं, लेकिन उनमें उद्यमशीलता की भावना की कमी होती है। इसलिए उन्हें अपनी उपज का विपणन करना, ऑन-ग्राउंड मार्केटिंग करना, ग्राहकों से मिलकर अपना नेटवर्क बनाना सीखना होगा। इसके बाद ही वे अपनी फसलों और उत्पादों का सही बाजार मूल्य प्राप्त कर पाएंगे।

अगर आपको यह कहानी अच्छी लगी और आप दर्शन सिंह से सम्पर्क करना चाहते हैं तो उन्हें  ई-मेल कर सकते हैं। उनके YouTube चैनल को देखने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें।

संपादन – मानबी कटोच 

मूल लेख – जोविटा अरान्हा 


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं।

शेयर करे

mm

Written by भरत

उदयपुर, राजस्थान से हूँ। गजल, शायरियां, लप्रेक कहानियां लिखने व पढ़ने का शौक है, जिसे आप मेरे ब्लॉग pagalbetu.blogspot.com / yourquote.in/bharatborana पर पढ़ सकते हैं। पहाड़, झील, शांत सड़कें, चाय अच्छी लगती है। घूमना व बतियाना पसंद है। कभी-कभी यूं ही बेवजह उदास हो जाता हूँ, बाकी जिंदगी अच्छी कट रही है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

पिता से सीखा ऑर्गेनिक अचार बनाने का गुर, नौकरी छोड़ कर शुरू किया स्टार्टअप!

first woman engineer of india.

15 की उम्र में शादी, 18 में विधवा : कहानी भारत की पहली महिला इंजीनियर की!