in ,

कश्मीर: भारी बर्फ़बारी के बीच भारतीय सेना ने गर्भवती महिला को पहुँचाया अस्पताल!

बीते शुक्रवार, 8 फरवरी 2019 को उत्तर-कश्मीर के बांदीपुर जिले में स्थित पनार आर्मी कैंप के कंपनी कमांडर को एक फोन आया। फोन पर पास के गाँव के एक निवासी ने उसकी गर्भवती पत्नी, गुलशाना बेगम को अस्पताल ले जाने के लिए सेना की मदद मांगी।

द हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, उस दिन मौसम बेहद खराब था और साथ ही, भारी बर्फ़बारी होने के चलते सभी रास्ते बंद थे। तापमान भी माइनस सात डिग्री सेल्सियस था। ऐसे में, किसी भी वाहन या फिर एम्बुलेंस का आना-जाना नामुमकिन था। लेकिन उस महिला का अस्पताल पहुँचना बहुत ज़रुरी था। इसलिए, उस व्यक्ति ने भारतीय सेना से ही मदद की गुहार लगायी।

भारतीय सेना के जवान तुरंत उनकी मदद करने के लिए उनके घर पहुँचे। बांदीपुर राष्ट्रीय राइफल्स के सैनिक सड़क पर कमर तक जम चुकी बर्फ़ को पार करते हुए, उस महिला को ढाई किलोमीटर तक एक स्ट्रेचर पर ले कर आये और फिर सेना की एम्बुलेंस से उसे अस्पताल पहुँचाया गया।

Promotion

अस्पताल में भी भारतीय सेना ने पहले से ही डॉक्टरों को इस बारे में बता दिया था और इसलिए यहाँ पहुँचते ही महिला का इलाज शुरू हो गया। उसकी स्वास्थ्य जाँच में पता चला कि वह जुड़वाँ बच्चों को जन्म देने वाली है और इसके लिए उसका ऑपरेशन करना पड़ेगा।

ऑपरेशन के लिए उसे श्रीनगर अस्पताल ले जाया गया और वहाँ उसने सुरक्षित रूप से दो बच्चियों को जन्म दिया।

कवर फोटो


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर भेज सकते हैं।

शेयर करे

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है. निशा की कविताएँ आप https://kahakasha.blogspot.com/ पर पढ़ सकते हैं!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

वीटी कृष्णमाचारी : भारत के मास्टर प्लानर, जिन्होंने रखी थी ‘पंचायती राज’ की नींव!

फील्ड मार्शल के. एम. करिअप्पा, जिन्होंने सही मायनों में सेना को ‘भारतीय सेना’ बनाया!