केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री, मेनका गाँधी ने बीते मंगलवार को घोषणा की है, कि सोशल मीडिया पर महिलाओ के ऊपर भद्दे कमेंट और बदसलूकी करने वालो के ऊपर अब कार्यवाही की जाएगी। जिन महिलाओ के पोस्ट के ऊपर भद्दे कमेंट या उनके साथ बदसलूकी की गयी है वो महिलाये अपने फेसबुक और ट्विटर पेज पर  हैशटैग #ImTrolledHelp  के साथ अपनी शिकायत दर्ज करा सकती है। या फिर अपनी शिकायत सीधे मेनका गाँधी को मेल भी कर सकती है।

मेनका गाँधी ने आगे  कहा कि ये शिकायते सीधे राष्ट्रीय महिला आयोग के पास भेजी जायेंगी और इसके साथ ही राष्ट्रीय महिला आयोग सोशल मीडिया पर होने वाले महिलाओ के साथ दुर्व्यवहार पर निगरानी भी रखेगा।

मेनका गाँधी ने ट्वीट कियाक्या आप भी उन महिलाओ में से एक है जिसके साथ ऐसा दुर्व्यवहार किआ गया है? तो मुझे इस बारे में [email protected] पर  सूचना दीजिये ।”

 

 1

Photo Source

मेनका गाँधी का ये ट्वीट अभी बीते दिनों घटित हुयी एक घटना के सन्दर्भ में आया है। पिछले दिनों  सलमान खान ने अपने एक ट्वीट में बॉलीवुड कलाकारों को रेप से पीड़ित महिला के साथ तुलना की।  इस पर एक प्रसिद्ध बॉलीवुड गायिका सोना महापात्रा ने सलमान की आलोचना करते हुए ट्वीट किया । इसकी वजह से वजह से उन्हें सलमान खान के प्रसंशको की नाराजगी और  सोशल मीडिया पर बदसलूकी का सामना करना पड़ा।
मेनका गाँधी ने इंडियन एक्सप्रेस को दिए अपने इंटरव्यू में बताया, “ गायिका के साथ सोशल मीडिया पर  हुए इस तरह के दुर्व्यवहार को नोटिस किया गया और तुरंत इस सन्दर्भ में आगे कार्यवाही करते हुए उस व्यक्ति का ट्विटर अकाउंट बंद करवा दिया गया। सोशल मीडिया पर काफी भद्दे कमेंट्स किये गये थे। इस बात का पता चलते ही हमने तुरंत राष्ट्रीय महिला आयोग को इस मामले में दखल देने को कहा और सम्बंधित व्यक्ति द्वारा  इस तरह की अभद्र टिप्पणिया करने के लिए तुरंत कार्यवाही करने को कहा।”
लेखिका अपर्णा जैन ने वर्ष 2014 में अपने ट्विटर अकाउंट में अनजान व्यक्ति के ट्विटर अकाउंट से बलात्कार करने की धमकियां मिलने के बाद साइबर सेल में अपनी शिकायत दर्ज करवाई थी।
अपर्णा ने टाइम्स ऑफ़ इंडिया को बताया, “ मुझे इस बात की बेहद ख़ुशी है कि किसी ने इस मामले में ध्यान दिया ,कि सच में ये एक समस्या है। पर एक बार शिकायत दर्ज करने के बाद वो आगे क्या करेंगे … क्या इसके बाद भी उन्हें पुलिस के पास जाना पड़ सकता है?”
उच्चतम न्यायालय की वकील करुना नंदी का कहना है, “जबसे राष्ट्रीय महिला आयोग को महिला अधिकारों के उल्लंघन की जाँच में सिविल कोर्ट की तरह कार्यवाही करने का अधिकार दिया गया है , तबसे ही इस तरह के मामलो में आनेवाली शिकायतों की संख्या में भारी इजाफा हुआ है। “

 

वो आगे कहती है कि अगर आयोग पुलिस को सीधे शिकायत दर्ज करने के लिए कहे तो इस मामले को लोग ज्यादा गंभीरता से लेंगे और ऐसा करने से पहले कई बार सोचेगे।
पर विडम्बना यह है कि, मंत्रीजी को उनके सम्बंधित ट्वीट के बाद बड़ी संख्या में उनके पुरुष फालोवार्स के द्वारा लिंग समानता के नाम पर उपहास का पात्र बनाया गया।

 

बॉलीवुड के प्रसिद्ध गायक अभिजीत भटटाचार्य जिन पर बीते दिनों पत्रकार स्वाति चतुर्वेदी के साथ सोशल मीडिया पर बदसलूकी करने का आरोप है, ट्वीट करते है, “मै भी एक आदमी, एक बेटा, एक पिता, एक भाई हूँ और मुझे सोशल मीडिया पर कुछ महिला पत्रकारों और उनके कुछ पाकिस्तानी दोस्तों के द्वारा गाली गलौज  का सामना करना पड़ा और उन्होंने मेरे देश को भी गाली दी तब मुझे कहाँ पर अपनी शिकायत दर्ज करनी चाहिए? ”

 
मेनका गाँधी ने सोशल मीडिया पर इस तरह की बदसलूकी की घटनाओ पर पहले भी कई बार अपने विचार व्यक्त किये है। इस साल मई में उन्होंने कहा था, “सरकार सोशल मीडिया पर महिलाओ के साथ हो रहे अभद्र व्यवहार पर कड़ी कारवाही करने पर विचार कर रही है।”

मूल लेख – निशि मल्होत्रा

 

यदि आपको ये कहानी पसंद आई हो या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें [email protected] पर लिखे, या Facebook और Twitter (@thebetterindia) पर संपर्क करे।

शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published.