Holi 2022: छोटी सी खुशविका ने खुद बनाये हैं होली के रंग, आप भी सीखिए उनसे तरीका

घर पर मौजूद चीजों से ही बना सकते हैं बच्चों के लिए होली के रंग, जानें कैसे?

होली आते ही, बच्चों के साथ-साथ बड़ों के मन में भी कई रंगों की छवियां बनने लगती हैं और बने भी क्यों न, होली त्यौहार ही रंगों का है।  बावजूद इसके आजकल हममें से ज्यादातर लोगों ने रंगों से परहेज कर लिया है। हम बच्चों को रंगों से दूर रखते हैं, क्योंकि हमें रंग के साथ मिलाए गए केमिकल का खतरा रहता है।

लेकिन सालों पहले हमारी संस्कृति में फूलों की होली खेलने का चलन था। टेसू के फूल तो इस मौसम में ही खिलते हैं, जिससे पारम्परिक रंग बनाए जाते हैं। 

इसके लिए टेसू के फूलों को पानी में भिगोया जाता है। इसमें थोड़ा चूना डालने से रंग तेज हो जाता है। इसके अलावा, सुबह अगर इस पानी को खौला लिया जाए तो रंग पक्का हो जाता है। इसके बाद, इसे छानकर पानी ठंडा करके होली खेली जाती है। 

kids making holi colour
Khushvika

हालांकि, बाजार में आजकल हर्बल रंग मिलते हैं। लेकिन खुद के बनाए रंगों (homemade holi colours) से होली खेलने का मज़ा कुछ अलग ही होता है। आप अपने रसोई में मौजूद कुछ चीजों से अपने लिए गुलाल (How to make gulal at home) बना सकते हैं, तो चलिए जानें होली के प्राकृतिक रंग कैसे बनाएं (how to make holi colours at home)-

रंग बनाने के लिए आपको सबसे पहले बेस चुनना होगा। आप किचन से बेसन, मैदा या मकई (कॉर्न फ्लोर) का आटा ले सकते हैं। आप थोड़ी कम मात्रा में इन सामग्रियों के साथ प्रयोग करें। फिर अपने पसंद के रंग के लिए, आप इसमें अलग-अलग प्राकृतिक रस मिला सकते हैं।

पीला रंग (How To Make Yellow Holi Colour At Home)

पीला रंग बनाने के लिए आप तीन तरीकों का उपयोग कर सकते हैं। पहले तरिके में आप हल्दी और बेसन को 20:80 के अनुपात में मिलाकर तीन से चार बार छननी से छान लें। इससे इसका महीन पाउडर बन जाएगा, जिसे आप गुलाल की तरह इस्तेमाल कर सकते हैं। 

दूसरे तरीके में आप हल्दी का पानी बना लें,  फिर इसमें जरूरत के अनुसार कॉर्न फ्लोर मिलाकर अच्छे से तब तक मिलाएं, जब तक यह ड्राई पाउडर न बन जाए। फिर आप इसे छननी से छान लें, आपका पीला गुलाल बनकर तैयार है। 

तीसरे तरीके में आप पीले रंग के गेंदे के फूल का इस्तेमाल कर सकते हैं। आप फूलों की पंखुड़ियों को अच्छे से सुखाकर महीन ड्राई पाउडर बनाएं और इसे रंग की तरह उपयोग करें।  

homemade organic colour
Organic Colour Made By Khushvika

गुलाबी रंग (How To Make Pink Holi Colour At Home)

गुलाबी रंग बनाने के लिए आप लाल गुलाब के फूलों को हाथ से मसलकर या कपड़े से दबाकर इसका रस निकाल लें। अच्छा गुलाबी रस बनने के बाद, इसमें कॉर्न फ्लोर मिलाकर सूखा गुलाल बनाएं।  

लाल रंग (How To Make Red Holi Colour At Home)

लाल रंग बनाने के लिए, आप बीटरूट का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके लिए आप एक बीटरूट को अच्छे से कद्दूकस करके रस निकाल लें और फिर इसमें मैदा या कॉर्नफ्लोर मिलाकर थोड़ी देर सुखा लें। जब यह सूख जाए, तो इसे अच्छे से मसलकर पाउडर तैयार करें। आपका बढ़िया लाल रंग का गुलाल बनकर तैयार हो गया। 

हरा रंग (How To Make Green Holi Colour At Home)

हरा रंग बनाने के लिए आप कई तरह की हरी पत्तेदार सब्जियों का उपयोग कर सकते हैं। पालक और धनिया के पत्तों का रस मिलाकर, आप प्यूरी बना लें। फिर इसमें आप कॉर्नफ्लोर  मिलाकर थोड़ी देर सूखने दें। जब यह पूरी तरह सूख जाएगा, तब हाथ से मसलकर अच्छा पाउडर तैयार करें। आप इसे एक बार मिक्सर ग्राइंडर में डालकर भी पाउडर बना सकते हैं। 

आपका सुन्दर हरा रंग बड़ी आसानी से घर पर ही बन जाएगा।  

बैगनी (How To Make Purple Holi Colour At Home)

बैगनी रंग के लिए आप बैगनी रंग की गोभी ख़रीद लें, जो आजकल बाजार में आसानी से मिल जाती है। इसे काटकर आप गर्म पानी में  उबाल लें, इससे गोभी का बैगनी रंग पानी में आ जाएगा। फिर इसे थोड़ा गाढ़ा होने तक उबालें और फिर इसमें कॉर्न फ्लोर मिलाकर गुलाल तैयार कर सकते हैं।  

holi colours

नारंगी रंग (How To Make Orange Holi Colour At Home)

नारंगी रंग के लिए आप नारंगी गेंदा फूल की पंखुड़ियों को सुखा लें, फिर इससे पाउडर बनाकर इस्तेमाल करें। इससे अच्छे खुशबूदार रंग बनकर तैयार हो जाएंगे। 

तो देखा आपने कितनी आसानी से घर पर पड़ी चीजों से ही गुलाल बनाया जा सकता है।  इन सभी रंगों में अपनी-अपनी खुशबू और फायदे भी होंगे, जो आपकी त्वचा को बिल्कुल नुकसान नहीं पहुंचाएंगे। तो इस होली बच्चों के साथ मिलकर आप अपनी पसंद के रंग जरूर बनाएं।

हैप्पी होली!

संपादन-अर्चना दुबे

यह भी पढ़ें: मुंबई की इस सोसाइटी में, लोगों ने फूलों के कुछ आसन तरीकों से बनाएं, होली के ऑर्गेनिक रंग

We at The Better India want to showcase everything that is working in this country. By using the power of constructive journalism, we want to change India – one story at a time. If you read us, like us and want this positive movement to grow, then do consider supporting us via the following buttons.

Please read these FAQs before contributing.

Let us know how you felt

  • love
  • like
  • inspired
  • support
  • appreciate
X