उत्तर प्रदेश के इन दो IPS अफसरों को मिला अमेरिका का प्रतिष्ठित IACP अवॉर्ड

ips

एसपी संतोष कुमार सिंह और एसपी अमित कुमार को छत्तीसगढ़ और यूपी में उनके बेहतरीन पुलिसिंग सर्विस के लिए इंटरनेशनल एसोसिएशन ऑफ चीफ्स ऑफ पुलिस (IACP) का 2021 '40 अंडर 40' पुरस्कार मिला है।

भारत के दो IPS अधिकारियों को  इंटरनेशनल एसोसिएशन ऑफ चीफ्स ऑफ पुलिस (IACP) 2021 के  ‘40 अंडर 40’ पुरस्कार के लिए चुना गया  है। उन्हें इस साल अक्टूबर महीने में USA में यह अवॉर्ड  दिया जाएगा।  

IACP वेबसाइट के अनुसार, ये दुनियाभर के छह देशों के सबसे बेहतरीन 40 पुलिस अधिकारियों में शामिल हैं। इन दोनों अधिकारियों को अपना  काम पूरे  समर्पण और सेवा भाव से करने  के लिए ये सम्मान दिया गया है। 

इंटरनेशनल असोसिएशन ऑफ चीफ्स ऑफ पुलिस अमेरिका की एक संस्था है,  जिसमें विश्व के 165 देशों के पुलिस अधिकारी शामिल हैं। सन्  1893 से ये संस्था काम कर रही है और हर साल तमाम देशों के पुलिसकर्मियों को उनके अच्छे कार्यों के लिए  सम्मानित करती है। इस बार अवॉर्ड के लिए अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, UAE  समेत कई देशों से  40 पुलिसकर्मियों का चयन किया गया है। भारत के संतोष सिंह और अमित कुमार को यह अवॉर्ड 40 अंडर 40 कैटेगरी में दिया जा रहा है।

ये दोनों IPS अधिकारी हैं- छत्तीसगढ़ के कोरबा जिले के पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार सिंह और उत्तर प्रदेश के चंदौली जिले के एसपी अमित कुमार।

चलिए जानें इन दो होनहार IPS अधिकारीयों के बारे में 

संतोष कुमार सिंह 

IPS Santosh Singh
संतोष कुमार सिंह

संतोष कुमार सिंह उत्तर प्रदेश के गाजीपुर जिले के देवकली गांव के रहने वाले हैं और  छत्तीसगढ़ कैडर के 2011 बैच के IPS हैं। उनकी प्रारंभिक शिक्षा गांव में ही हुई थी, जिसके बाद उन्होंने बनारस हिंदू विश्वविद्यालय से अपनी  पढ़ाई पूरी की है। संतोष कुमार ने  JNU से इंटरनेशनल रिलेशंस में MPhill भी किया है, जिसके बाद वह सिविल सेवा से जुड़े। उनकी पहली पोस्टिंग छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले में थी। इसके बाद उन्होंने नक्सल प्रभावित, सुकमा क्षेत्र में बतौर एडिशनल एसपी नक्सल ऑपरेशंस जॉइन किया। उन्होंने छत्तीसगढ़ के कई जिलों में अपनी सेवा दी है।   

पुलिस अधीक्षक के पद पर रहते हुए संतोष कुमार सिंह को पिछले आठ सालों में बेहतर पुलिसिंग और पुलिस की छवि सुधारने में किए गए उनके कामों के लिए यह अवार्ड दिया जा रहा है। उन्होंने महासमुंद (छत्तीसगढ़) में काम करने के दौरान लगभग एक लाख बच्चों को सेल्फ-डिफेंस का प्रशिक्षण दिलाया था, जो विश्व रिकॉर्ड के रूप में दर्ज हुआ था। उनके इस काम के लिए उन्हें साल 2018 में पूर्व उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू की ओर से ‘चैंपियंस ऑफ चेंज’ पुरस्कार भी दिया गया था।

  

अमित कुमार

SP Amit Kumar
अमित कुमार

वहीं दूसरी ओर, अमित कुमार 2015 बैच के आईपीएस अफसर हैं। वर्तमान में वह चंदौली (उत्तर प्रदेश) के एसपी हैं। मूल रूप से दिल्ली के रहने वाले अमित कुमार के पिता CRPF  में असिस्टेंट कमांडेंट थे। अमित कुमार के छोटे भाई भी  सेना में मेजर हैं। चंदौली में बतौर एसपी काम करते हुए उन्होंने सालों से फ़रार चल रहे कई शातिर अपराधियों    को सर्विलांस की मदद से गिरफ़्तार किया।  

इंजीनियरिंग की पढ़ाई और IIM अहमदाबाद से MBA  करने के बाद, अमित कुमार ने कुछ महीने अमेरिका के लॉस एंजिलिस की एक सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट कंपनी में काम भी किया।  बाद में, IPS बनकर उन्होंने  मोटी सैलरी  वाली अमेरिकी नौकरी को छोड़ दिया और  देश की सेवा करने का फैसला किया। 

खाकी वर्दी पहनकर जी जान से अपने वतन की सेवा करने वाले  इन जाँबाज़  और युवा अफसरों को द बेटर इंडिया का सलाम!

संपादन : अर्चना दुबे

यह भी पढ़ेंः कोई IAS तो कोई IPS, मिश्रा परिवार के ये चार होनहार बच्चे बने पूरे गांव के लिए आदर्श

We at The Better India want to showcase everything that is working in this country. By using the power of constructive journalism, we want to change India – one story at a time. If you read us, like us and want this positive movement to grow, then do consider supporting us via the following buttons:

Let us know how you felt

  • love
  • like
  • inspired
  • support
  • appreciate
X