Search Icon
Nav Arrow

शिमला का यह सुन्दर कैफ़े उम्रकैद की सज़ा काट रहे कैदियों द्वारा चलाया जाता है

गर इन गर्मी की छुट्टियों में आप शिमला जाने की सोच रहे हैं, तो संभव है कि आप इस छोटे से होटल, बुक कैफ़े के पास से गुजरें, जो प्रसिद्ध रिज के ठीक ऊपर है। कई अन्य कैफ़े से अलग यह कैफ़े न सिर्फ स्वादिष्ट स्नैक्स और पेय देता है बल्कि अपने मेहमानों को पहाड़ों के सौंदर्य के दर्शन भी करवाता है।

आपको शायद यह भी पता लगे कि यह कैफ़े चार अपराधियों द्वारा चलाया जाता है जो कि शिमला के पास के कैठु जेल में अपनी उम्रकैद की सज़ा काट रहे हैं।

इस कैफ़े को राज्य पर्यटन विभाग द्वारा चलाया जा रहा है और इसके पीछे की मंशा इन कैदियों का पुनर्वास और समाज से जोड़ना है। इस कैफ़े को 20लाख की लागत में बनाया गया है और यहाँ करीब 40 लोगों के बैठने का प्रबंध है। यह अपने ग्राहकों को कैदियों द्वारा बनाये गए स्वादिष्ट बिस्कुट और पिज़्ज़ा खिलाते हैं।

Advertisement

जय चाँद, योग राज, राम लाल और राज कुमार को प्रोफेशनल द्वारा खाना बनाने और परोसने की ट्रेनिंग दी गयी है। इनकी ख़ुशी का ठिकाना नहीं रहा जब इन्हें मौका मिला कि ये भी दुनिया को दिखा पाएं कि इन्होने खुद को बदलने की ठान ली है।

Photo source: Twitter

बिज़नस स्टैण्डर्ड को जय चाँद बताते हैं, “ इस कैफ़े नें हमे दुनिया से जुड़ने क मौका दिया। इसे हम चारो स्वतंत्र रूप से चला रहे हैं। यहाँ आने वाले सैलानियों या स्थानीय निवासियों ने हमसे बात करने पर भी कभी किसी प्रकार की शंका नहीं जतायी। वे हमारे इस बदलाव के बारे में और जानने को उत्सुक रहते हैं।”

Advertisement

मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने हाल ही में इस कैफ़े का उदघाटन किया। यह कैफ़े लोगों के लिए सुबह 10 बजे से रात के 9 बजे तक खुला रहता है। इसके बंद होने के बाद कैदियों को वापस जेल में ले जाया जाता है। 

View image on Twitter

 Follow

IPR, Himachal @dprhp

Advertisement

Chief Minister @virbhadrasingh inaugurates the first ‘Book café’ of Shimla at the Ridge.

8:27 PM – 11 Apr 2017

 

Advertisement

जैसा कि नाम से ही ज़ाहिर है, बुक कैफ़े में हर तरह की किताबें हैं जिनमे जुल्स वर्नी और निकिता सिंह जैसे लेखकों का नाम उल्लेखनीय है। यह कैफ़े मुफ्त वाई फाई की सेवा भी दे रहा है।

इस कैफ़े तक टक्का बेंच, रिज, द मॉल, शिमला, हिमाचल प्रदेश : 171001 के पते पर पहुंचा जा सकता है।

मूल लेख – सोहिनी डे

Advertisement

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें contact@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter (@thebetterindia) पर संपर्क करे।

 

Advertisement
close-icon
_tbi-social-media__share-icon