Search Icon
Nav Arrow
easy to grow vegetables

सबसे आसान है इन 3 सब्जियों को उगाना, आज ही करें शुरुआत

आज कई लोग अपने घर पर जगह और समय के अनुसार सब्जियां उगाने लगे हैं। लेकिन अगर आपने अब तक शुरुआत नहीं की है, तो आप इन तीन सब्जियों से कर सकते हैं शुरुआत।

Advertisement

कोरोनाकाल के बाद लोगों के जीवन में कई बदलाव आए हैं। मास्क और सामाजिक दूरी के साथ-साथ लोग अपने भोजन और स्वास्थ्य के प्रति भी जागरूक हुए हैं। ऐसे में होम गार्डनिंग के प्रति भी लोगों का रुझान बढ़ रहा है। फिर चाहे इंडोर प्लांट्स से घर की हवा को शुद्ध करना हो या घर में सब्जियां उगाना (easy to grow vegetables)। लेकिन अगर आपने अभी तक कोइ भी सब्जी नहीं उगाई है और समझ नहीं पा रहे कि कौनसा पौधा लगाना आसान है, कैसे शुरुआत करें। तो आज इन सारे सवालों का जवाब जानते हैं, मध्यप्रदेश की गार्डनिंग एक्सपर्ट ऋतु सोनी से। 

उन्होंने बताया कि वैसे तो अगर आपके घर की छत, गार्डन या बालकनी में चार से पांच घंटे की धूप आती है, तो आप कोई भी सब्जी आसानी से लगा सकते हैं। आप घर में मौजूद चीजों का ही उपयोग करके, इसकी शुरुआत कर सकते हैं। उन्होंने बताया, “जो लोग गार्डनिंग करना या सब्जियां उगाना चाहते हैं, सबसे पहले आप अपने किचन वेस्ट से कम्पोस्ट बनाना शुरू करें। जिससे आपको पौधों के विकास के लिए बाहर से कम्पोस्ट न लानी पड़े। साथ ही घर पर बनाई गई, कम्पोस्ट पौधों के विकास के लिए बहुत अच्छी होती है।” 

easy to grow vegetables at home

वहीं, अगर आसान सब्जियों की बात की जाए तो आप धनिया, पुदीना,  मेथी जैसे हर्ब आराम से छोटे कंटेनर में भी उगा सकते हैं। कुछ सब्जियां ऐसी हैं,  जिसके बीज आपको बाहर से नहीं खरीदने पड़ते जैसे टमाटर, शिमला मिर्च, बैंगन आदि। पत्तेदार सब्जियों में आप पालक लगा सकते हैं। 

अगर आप पहली बार गार्डनिंग कर रहै हैं या अभी शुरू ही किया है, तो आप टमाटर, शिमला मिर्च और पालक लगाने से शुरुआत करें। चलिए जानें आपको किन चीजों की जरूरत होगी और किन बातों का ध्यान रखना होगा: 

मिट्टी तैयार करना

छत या बालकनी में सब्जियां लगाने के लिए अच्छी मिट्टी तैयार करना बहुत जरूरी है। इसके लिए आप कम्पोस्ट और मिट्टी को गमले में डालकर, उसे प्लास्टिक से कवर करके,  तक़रीबन एक महीने तक रहने दें। इससे मिट्टी अच्छे से गर्म हो जाती है, और पौधों में कीड़े लगने या रोग आदि की संभावनाएं भी कम हो जाती है। 

पॉटिंग मिक्स की बात की जाए तो, 50% मिट्टी, 25% रेत और बाकी का भाग कम्पोस्ट (फिर चाहे आप वर्मी कंपोस्ट लें या घर में बनी कंपोस्ट) का मिश्रण सब्जियां लगाने के लिए सही होता है। 

बीज तैयार करना 

आप टमाटर, शिमला मिर्च या पालक, चाहे जो भी पौधा लगा रहे हों, उनके बीज को मिट्टी में रोपने से पहले, उसे तैयार करना बेहद जरूरी होता है। 

बीज में फंगस न लगें, इसके लिए आप हल्दी वाले पानी की कोटिंग करके बीज लगाएं। ऋतु कहती हैं, “अगर आपको गौमूत्र मिले तो आप हल्दी और गौमूत्र में बीज को तकरीबन 24 घंटे डुबाकर रखें, फिर उसे धूप में सुखाकर मिट्टी में लगाएं। इससे बीज में फंगस नहीं लगते और ये जल्दी अंकुरित भी हो जाते हैं। टमाटर और शिमला मिर्च के लिए बीज आपको घर पर ही मिल जाएंगे, जबकि पालक के बीज, आप आराम से किसी भी नर्सरी से ले सकते हैं।

tomato plant at home

कैसे लगाएं टमाटर का पौधा

Advertisement
  • बाजार में मिलने वाले देसी या हाइब्रिड दोनों ही टमाटर आसानी से लग जाते हैं। इसके लिए आप टमाटर काटकर बीज निकाल लें। 
  • हल्दी या गौमूत्र और हल्दी वाले पानी में बीज को डुबोकर इसे तैयार करें। तक़रीबन तीन घंटे बीज को धूप में सुखाकर, इसे मिट्टी में लगाएं। 
  • अब आप किसी छोटे प्लास्टिक के डिब्बे या ट्रे में मिट्टी डालकर बीज को अंकुरित होने के लिए रख दें। 
  • लगभग एक हफ्ते बाद, बीज अंकुरित होने लगेंगे। लेकिन बड़े गमले में लगाने से पहले पौधे में तीन से चार पत्तियां आने दें। 
  • जैसे ही बीज से चार-पांच पत्तियां निकल जाएं, आप उसे बड़े गमले में लगा दें। जितना बड़ा आपका गमला होगा पौधा भी उतना ही बड़ा होगा। 
  • चूँकि टमाटर के पौधे में नमी की जरूरत होती है। इसलिए गमले में मिट्टी सूखने न दें, रोज़ थोड़ा-थोड़ा पानी डालते रहें। 
  • टमाटर का पौधा जैसे-जैसे बड़ा होता है, इसके पत्तों की नीचे से कटाई करते रहें। ताकि पत्ते मिट्टी के सम्पर्क में न आएं। साथ ही जैसे-जैसे पौधा बड़ा होता है, इसे किसी लकड़ी से बांध दें। ऐसा करने से पौधा नीचे की ओर नहीं, बल्कि ऊपर की ओर बढ़ेगा। 
  • टमाटर के पौधे में कीड़े लगने की संभावनाएं भी होती हैं। इसके लिए ऋतु एक लीटर पानी में 250 ग्राम गाय के दूध को मिलाकर,  शाम के समय छिड़काव करने की सलाह देती हैं। 
  • वहीं, पौधों को सही कैल्शियम मिले, इसके लिए आप खाने वाले चूने का उपयोग कर सकते हैं। आप एक लीटर पानी में थोड़ा सा चूना घोलकर, 15 दिनों में एक बार गमले में डालें। 
  • टमाटर का पौधा लगाने के लिए आप मई के महीने में ही मिट्टी तैयार कर के रख दें। बारिश के पहले ही पौधा तैयार कर लें। ऐसा करने से, महीने भर बाद तक आपका पौधा बारिश की मार झेलने के लिए तैयार हो जाए। 
  • तक़रीबन दो से तीन महीने में आपके पौधे में फूल आने शुरू हो जाएंगे। 
capsicum plant at home

शिमला मिर्च का पौधा कैसे लगाएं?

आप बाजार से लाई हुई शिमला मिर्च के बीज को हल्दी के पानी की कोटिंग करके, धूप में सुखाकर बीज तैयार करें। पॉटिंग मिक्स और बीज रोपने का तरीका टमाटर के पौधे जैसा ही है। लेकिन ऋतु बताती हैं कि किसी भी मिर्च के बीज को अंकुरित होने में थोड़ा ज्यादा समय लगता है। इसलिए इसे मई के अंत तक लगा लेना चाहिए, ताकि बारिश के मौसम तक पौधा ठीक-ठाक बड़ा हो जाए। वहीं इसके पौधे में पानी की जरूरत कम होती है, तो आप एक दिन छोड़कर पानी दें। मिर्च के पौधे में पत्तियां पीली होने लगती हैं। जो सामान्य रूप से फंगस के कारण होता है।  इसके लिए आप पानी का ध्यान रखें और साथ ही शाम के समय दूध व पानी के मिश्रण का छिड़काव करते रहें। 

पालक का पौधा कैसे लगाएं?

पालक के पौधे के लिए, आप बाजार से इसके बीज ला सकते हैं। इसके बीज काफी सस्ते मिलते हैं। लेकिन अगर आप बाहर से बीज लाएं, तो ध्यान दें कि बीज ज्यादा पुराने न हों। इसके लिए भी आप टमाटर वाली पॉटिंग मिक्स का इस्तेमाल कर सकते हैं। साथ ही हरे-हरे पत्तों के लिए,  आप इसमें समय-समय पर कम्पोस्ट डालते रहें। आप 6 इंच के गमले में भी इसे लगा सकते हैं। गमले में आप थोड़ी-थोड़ी दूरी पर बीज लगाएं, जितनी दूरी पर आप बीज लगाएंगे,  पालक के पत्ते उतने घने और बड़े होंगे। 

spinach plant at home

इसे तीन से चार घंटे की धूप दें और रोज़ पानी भी डालते रहें। चूँकि यह एक नमी वाला पौधा होता है, इसलिए इसे ज्यादा पानी की जरूरत होती है। ये पौधे काफी जल्दी तैयार भी हो जाते हैं। एक बार लगने के बाद, ऊपर से पत्तों को काटते रहें, इसमें नए पत्ते निकलते जाएंगे। साथ ही ध्यान दें कि पत्ते मिट्टी के सम्पर्क में ना आ आएं। अगर पत्तियां मिट्टी के सम्पर्क में आएंगी, तो पौधों में फंगस लग सकते हैं। 

तो बस देर किस बात की, सही पॉटिंग मिक्स तैयार करें और इन सब्जियों को आसानी से घर पर उगाएं, और घर में तैयार कम्पोस्ट और जैविक कीटनाशक का उपयोग करें। आपको बाहर से कुछ भी लाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। 

हैप्पी गार्डनिंग

संपादन- अर्चना दुबे

यह भी पढ़ें: डॉक्टर कपल बना किसान, छत पर उगाते हैं 30 से ज़्यादा सब्ज़ियां और 10 तरह के फल

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें।ADVERTISEMENT

Advertisement
close-icon
_tbi-social-media__share-icon