कच्छ आकर अगर नमक के रेगिस्तान के साथ इन जगहों को नहीं देखा, तो समझिए आपने कुछ नहीं देखा।

आइना महल खूबसूरत वास्तुकला में लगा इतिहास का तड़का आइनामहल को खास बनाता है।

धोलावीरा इतिहास में यह सबसे पहले विकसित शहरों में रहा है, जिसके अंश आज भी धोलावीरा में मौजूद हैं।

कच्छ संग्रहालय यहां राजपुत काल से लेकर मुगल काल तक के साक्ष्य आपको देखने को मिलेंगे।

कच्छ रेगिस्तान वन्यजीव अभयारण्य स्थानीय लोगों के बीच "फ्लेमिंगो सिटी" के नाम से मशहूर यह अभ्यारण भारत-पाक सीमा पर स्थित है।

Traveling Ideas के लिए आप हमारी यह स्टोरी भी देख सकते हैं ।