Party Text

यह मुस्कान है उस पिता की जिसने उत्तरकाशी की सिल्क्यारा सुरंग में फंसे अपने बेटे को 17 दिनों बाद गले से लगाया।

Party Text

इस मुस्कान के पीछे की वजह,वे जांबाज कर्मचारी और अधिकारी हैं जिन्होंने नेतृत्व की जिम्मेदारी संभालते हुए इस मिशन को सफलता से पूरा किया।

Party Text

आइये मिलते हैं इस मिशन के रियल लाइफ हीरोज़ से...

Party Text

IAS नीरज खैरवाल

Party Text

उत्तराखंड सरकार में सचिव, खैरवाल ने 10 दिनों तक रेस्क्यू ऑपरेशन की कमान संभाली।

Party Text

क्रिस कूपर - माइक्रो टनलिंग एक्सपर्ट

Party Text

सालों से इस विषय में विशेषज्ञ रहे, क्रिस कूपर 18 नवंबर से इस रेस्क्यू ऑपरेशन से जुड़े और मजदूरों को सुरक्षित निकालकर ही दम लिया।

Party Text

लेफ्टिनेंट जनरल सैयद अता हसनैन

Party Text

भारतीय सेना के सेवानिवृत्त लेफ्टिनेंट जनरल और NDRF टीम के सदस्य सैयद अता हसनैन ने पूरे मिशन के दौरान सुरक्षा और सावधानियां लागू करने में कहीं भी चूक नहीं होने दी।

Party Text

अर्नोल्ड डिक्स - इंटरनेशनल टनल एक्सपर्ट

Party Text

ऑस्ट्रेलिया से आए डिक्स, ‘International Tunneling And Underground Space Association’ के अध्यक्ष हैं। इस रेस्क्यू ऑपरेशन की रणनीति तैयार करने में उन्होंने अहम भूमिका निभाई।

Party Text

Rat Miners Team

Party Text

देश के बेस्ट Rat Miners की टीम ने बिना मशीन का इस्तेमाल किए हाथों से मलबे की खुदाई करके इस बड़े मिशन को सफल बनाया।

Party Text

NDRF, SDRF और Indian Army

Party Text

जिंदगी और मौत से लड़ रहे 41 मजदूरों की मुस्कान लौटाने के लिए Local Workers के योगदान को कैसे भूला जा सकता है!

Party Text

इन सभी ने अपनी जान की बाजी लगाकर जिस तरह 41 जानें बचाई हैं, उसे दुनिया सदियों तक याद रखेगी!

Party Text

सलाम इन हीरोज़ को!

Party Text