Placeholder canvas

उत्तराखंड के ये 6 हिल स्टेशन नहीं हैं किसी जन्नत से कम

Uttarakhand hill station

अगर आपको पहाड़ों और ट्रेकिंग का शौक़ है, तो उत्तराखंड के ये 6 हिल स्टेशन्स आपको जरूर पसंद आएंगे।

जैसे-जैसे सूरज का पारा  बढ़ता जा रहा है, शहरों में गर्मी भी बढ़ती जा रही है। ऐसे में कई बार हमारा मन सब कुछ छोड़कर पहाड़ों(Hill Stations)पर चले जाने के लिए मचल जाता है। शहरों में रहनेवालों को तो वादियों में जाना बेहद पसंद है। 

लेकिन अगर आपको लगता है कि असली वादियां सिर्फ कश्मीर या स्विट्जरलैंड में ही हैं, तो आप गलत हैं। उत्तराखंड के कई हिल स्टेशन्स जन्नत का एहसास कराते हैं। उत्तराखंड के पहाड़ों में आप खुली हवा में सांस लेते हुए खूबसूरत नजारों को अपनी आंखों और कैमरों दोनों में कैद कर सकते हैं और ज़रा सोचिए अगर ऐसी सुंदर जगह तक पहुंचने के लिए बाइक से इन खूबसूरत रास्तों को तय किया जाए, तो वह एहसास कितना सुखद होगा, है न! 

महाराष्ट्र के प्रवीण हसोलकर ने 14,686 किमी के ऐसे ही रोचक सफर को बाइक से पूरा किया है। वह घूमने के इतने शौक़ीन हैं कि भारत का हर एक कोना देखने की इच्छा रखते हैं और अपने अनुभव से ही उन्होंने हमें उत्तराखंड के कुछ बेहतरीन हिल स्टेशन्स के बारे में बताया है, जहां आपको एक बार जरूर जाना चाहिए।  

अगर आप दिल्ली के आस-पास रहते हैं, तो आप यहां वीकेंड पर भी जा सकते हैं और अगर आप वर्क फ्रॉम होम करते हैं, तो भी आप वादियों में काम करने का अनुभव ले सकते हैं।  तो चलिए जानें कौन सी हैं वे जगहें, जहां एक बार तो जाना ही चाहिए…

1. चोपता -मिनी स्विट्जरलैंड

उत्तराखंड राज्य के रुद्रप्रयाग जिले में चोपता (Chopta) एक छोटा मगर खूबसूरत हिल स्टेशन है। अल्पाइन घास के मैदानों और सदाबहार वनों से घिरा चोपता, लोगों को बहुत पसंद आता है। यहां पहुंचने के लिए आपको सबसे पहले हरिद्वार या ऋषिकेश पहुँचना होगा। फिर वहां से आपको चोपता (मिनी स्विट्जरलैंड) के लिए बस मिल जाएगी। गोपेश्वर से चोपता की दूरी केवल 43 किलोमीटर है।

चोपता ट्रेकर्स के लिए किसी स्वर्ग से कम नहीं है। केदारनाथ वन्यजीव अभ्यारण्य का हिस्सा होने की वजह से चोपता में कई तरह के वन्यजीवों की दुर्लभ प्रजातियां भी मिलती हैं, जिसमें कस्तूरी मृग और उत्तराखंड के राज्य पक्षी, मोनाल का नाम भी शामिल है। 

यहां से चारों ओर हिमालय का नज़ारा दिखता है, जो ठण्ड के समय बर्फ से ढके होते हैं।  

chaopta hill station in Uttarakhand

2.अस्कोट

हिमालय की गोद में बसा सुन्दर हिल स्टेशन अस्कोट, अपने सुन्दर नजारों और नदियों के लिए मशहूर है। यह ऑफबीट हिल स्टेशन भारत-नेपाल सीमा के पास उत्तराखंड के पूर्व में स्थित है। अस्कोट के बारे में बहुत कम लोग जानते हैं, तो अगर आप हिमालय में इस ऑफबीट डेस्टीनेशन को चुनते हैं, तो यहां आप हरे-भरे देवदार के पेड़ और रोडोडेड्रॉन वन देख सकते हैं। 

यहां पहुंचने के लिए आप  उत्तराखंड  के काठगोदाम तक के लिए ट्रेन ले सकते हैं। वहां से अस्कोट के लिए आपको 234 किमी की यात्रा करने के लिए कैब किराए से लेनी होगी। 

3.  धनौल्टी- 

धनौल्टी  हिल स्टेशन मसूरी से ज्यादा दूर नहीं है। यहां से आप बर्फ से ढके पहाड़ों के नजारे देख सकते हैं। 

dhanolti a beautiful hill station

धनोल्टी, मसूरी के पास एक छोटा सा और खूबसूरत हिल स्टेशन है, इस हिल स्टेशन से गंगोत्री रेंज के पहाड़ों का दृश्य साफ दिखाई देता है। यह खूबसूरत हिमालय की चोटियों के बीच में बसा हुआ है। अगर आप एडवेंचर के शौकीन हैं, तो यहां के ऊंचे पहाड़ों पर बने होटल या गेस्ट हाउस में रहकर आपको मज़ा आ जाएगा। दिल्ली से सड़क मार्ग के जरिए धनौल्टी पहुंचने में 8 घंटे का समय लगता है। यह गढ़वाल हिमालय की तलहटी में है  और मसूरी से यह हिल स्टेशन 24 किलोमीटर की दूरी पर है। धनोल्टी, टिहरी की तहसील है। आप देहरादून  से यहां आराम से पहुंच सकते हैं।  

4. ग्वालदम हिल स्टेशन

 ग्वालदम हिल स्टेशन, प्रकृति की गोद में बसी एक शानदार और रोमांचक जगह है, जो खूबसूरत वादियों से घिरी हुई है। यहां चाय और सेब के बागानों की खूशबू दिल व दिमाग को ताज़ा कर देती है। भारत के उत्तराखण्ड के चमोली का यह शानदार हिल स्टेशन विदेशी पर्यटकों को भी पसंद आता है। 

gwaldm a small village in Uttarakhand

यह भी एक ऑफ़ बीट हिल स्टेशन है, इसलिए बहुत कम लोग ही यहां आते हैं। देहरादून से ग्वालदम हिल स्टेशन की दूरी करीब 149 किलोमीटर है।

 यहां से निकटतम रेलवे स्टेशन काठगोदाम जंक्शन है। काठगोदाम से ग्वालदम हिल स्टेशन की दूरी करीब 82 किलोमीटर है। 

5. शीतलाखेत –

उत्तराखण्ड के कुमाऊं मंडल के खूबसूरत हिल स्टेशनों में एक शीतलाखेत भी है। एक पर्यटक स्थल के रूप में शीतलाखेत बहुत ज्यादा लोकप्रिय नहीं है, लेकिन प्रकृति के पास रहने के इच्छुक सैलानियों की यह पसंदीदा जगह है। शीतलाखेत अल्मोड़ा से 32 किलोमीटर की दूरी पर है। 

यह अपने प्राकृतिक सौंदर्य और हिमालय की चोटियों के दृश्य के लिए जाना जाता है। यहां से हिमालय की बहुत विस्तृत श्रृंखला करीब ही दिखाई पड़ती है। यह चारों ओर से लगभग 1800 हेक्टेयर वन क्षेत्र से घिरा हुआ है। शीतलाखेत, कुमाऊँ की उन जगहों में से एक है, जहां बेहद घना जंगल मौजूद है। 

shiltakhaet tourist place

अगर आपको फोटोग्राफी का शौक है, तो आपको यहां जरूर जाना चाहिए।  

6.मुनस्यारी – 

 मुनस्यारी, उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले में स्थित बेहद खूबसूरत हिल स्टेशन है, जो पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता है। मुनस्यारी, भारत, नेपाल और तिब्बत की सीमाओं से लगा हुआ क्षेत्र है। चारों तरफ से पहाड़ों से घिरी यह जगह, इतनी सुन्दर है कि इसे उत्तराखंड के ‘छोटे कश्मीर’ के नाम से भी जाना जाता है। मुनस्यारी बर्फ से ढके पहाड़ों का सुन्दर पर्वतीय स्थल है, जो पिथौरागढ़ जिले में सबसे तेजी से बढ़ते पर्यटन स्थलों में से एक बन गया है।

गौरी गंगा नदी से मिलम तक फैली यह जगह, प्राचीन समय में भारत और तिब्बत का व्यापार केंद्र हुआ करती थी। 

मुनस्यारी घूमने जाने का सबसे अच्छा समय मार्च से जून और सितम्बर से अक्टूबर महीने के दौरान होता है। लेकिन आप साल भर इस पहाड़ी क्षेत्र की यात्रा का आनंद उठा सकते है। गर्मियों के समय पर्यटक यहाँ की शानदार चोटियों पर ट्रेकिंग का मजा ले सकते हैं। 

तो अगर आप मसूरी, नैनीताल और  देहरादून की यात्रा कई बार कर चुके हैं, तो इन खूबसूरत हिल स्टेशन्स में आपको  काफी नयापन महसूस होगा। यहां जाकर आप अपनी सारी थकान भी भूल जाएंगे। हम आशा करते हैं आप जरूर इनमें से अपनी पसंद की जगह जाएंगे, अगर आप यहां जाएं तो अपनी यात्रा के अनुभव हमारे शेयर करना न भूलें।  

संपादनः अर्चना दुबे

यह भी पढ़ें: 10 खूबसूरत Hill Stations In India, जो इन गर्मी की छुट्टियों के लिए हैं परफेक्ट!

We at The Better India want to showcase everything that is working in this country. By using the power of constructive journalism, we want to change India – one story at a time. If you read us, like us and want this positive movement to grow, then do consider supporting us via the following buttons:

Let us know how you felt

  • love
  • like
  • inspired
  • support
  • appreciate
X